सतना जिले में सरकार के खिलाफ़ सड़कों पर उतरे किसान
Satna News in Hindi

सतना जिले में सरकार के खिलाफ़ सड़कों पर उतरे किसान
क्षेत्र में नहर की मांग को लेकर कलेक्ट्रेट पर प्रदर्शन करते किसान

सतना जिले का किसान सरकार के खिलाफ़ सड़कों पर उतर आया.दरअसल रैगाव विधानसभा के सैकड़ों गांव में इन दिनों भारी पेय जल संकट है. सैकड़ों की तादात में लामबंद हो जिला कलेक्टर का घेराव कर 'पानी नही तो वोट नहीं ' का एलान कर दिया.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
सतना जिले का किसान सरकार के खिलाफ़ सड़कों पर उतर आया. किसानों ने अगले चुनाव में सरकार को सबक सिखाने का एलान भी कर दिया है. दरअसल रैगाव विधानसभा के सैकड़ों गांव में इन दिनों भारी पेय जल संकट है. लोग इतने परेशान हो चुके हैं कि सैकड़ों की तादात में लामबंद हो जिला कलेक्टर का घेराव कर 'पानी नही तो वोट नहीं ' का एलान कर दिया.अपनी मांग को लेकर पहुंचे किसान इतने आक्रोशित हुए कि आत्मदाह तक का एलान कर दिया और कपड़े तक उतार दिए. एक किसान बेहोश तक हो गया.

रैगाव विधान सभा के किसान मजदूरों ने लामबंद होकर जिला कलेक्टर कार्यालय का घेराव किया. उससे आंदोलनकारियों और जिला प्रशासन के बीच विवाद की स्थिति पैदा हो हुई. इससे पहले जिला कलेक्ट्रेट के सामने दो घंटे तक बवाShiल रहा. प्रदर्शनकारी सड़क को जाम करे रहे और बिना कलेक्टर से मिले जाने को राजी नहीं हुए.

किसानों ने कहा कि कि सरकार 27 वर्षों से बरगी नहर का पानी देने की घोषणा कर रही है मगर आज तक काम नहीं शुरु हुआ. क्षेत्र में एक-एक बूंद पानी के लिए हाहाकार मचा है. यदि समय रहते सरकार और प्रशासन नहीं चेता तो वो आगामी किसी भी चुनाव में वह मतदान नही करेंगे और सरकार की खिलाफ जन अभियान चलाएंगे. आखिरकार जिला कलेक्टर को खुद चेम्बर से बाहर आना पड़ा और किसानों की समस्याओं को सुनना पड़ा. उन्होंने कहा कि 28 तारीख को मुख्यमंत्री के कार्यक्रम के बाद जलसंसाधन बरगी और वांड सागर नहर के अधिकारियों के साथ किसानों के प्रतिनिधि मंडल की बैठक कराएंगे और इस समस्या से छुटकारा दिलाएंगे.



 



 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading