एमपी में बीस पंचायत के मतदाता करेंगे मतदान का बहिष्कार, ये है वजह
Satna News in Hindi

एमपी में बीस पंचायत के मतदाता करेंगे मतदान का बहिष्कार, ये है वजह
सतना जिले के बीस पंचायत के मतदाताओं ने 2018 के विधान सभा चुनाव में किसी भी पार्टी के सरकार बनाने से अपने आप को अलग कर लिया है

सतना जिले के बीस पंचायत के मतदाताओं ने 2018 के विधान सभा चुनाव में किसी भी पार्टी के सरकार बनाने से अपने आप को अलग कर लिया है

  • Share this:
मध्य प्रदेश के सतना जिले के बीस पंचायत के मतदाताओं ने 2018 के विधान सभा चुनाव में किसी भी पार्टी के सरकार बनाने से अपने आप को अलग कर लिया है. इस बात की सूचना देने वे जिला कलेक्ट्रेट पहुंचे और जिला कलेक्टर को अपनी समस्या बताई.

दरअसल, स्याननगर बांध न बनने से बीस पंचायत के लोग सरकार के खिलाफ सड़क पर उतर चुके हैं. इसमें भाजपा और कांग्रेस के लोग भी किसानों के साथ आ चुके हैं. और उन्होंने अब आर पार की लड़ाई लड़ने का एलान किया है.

नाराज किसानों को भाजपा और कांग्रेस पार्टी का समर्थन मिल रहा है. सैकड़ो किसान सतना जिले मुख्यालय पहुचे और कलेक्टर कार्यालय का घेराव किया, और सड़कों को जाम कर दिया.
जिला कलेक्टर ने किसानों से मुलाकात कर उनकी समस्या के समाधान का आश्वासन देकर मामले को संभाला.



स्याननगर गॉव में 1977 में स्यामनागर बांध का निर्माण शुरू हुआ था.लगभग तीन किलोमीटर की मेड बध गयी और शेष 400 मीटर बांध आज भी अधूरा पड़ा है. सरकारें बदली, नेता बदले पर इस क्षेत्र की तकदीर और तस्वीर नही बदली.



ऐसे में अब ये ग्रामीण लामबंद हो चुके हैं और भाजपा के स्थानीय जनप्रतिनिधि के साथ साथ स्थानीय कांग्रेसी विधायक ने किसानों के साथ खड़े हो चुके हैं. किसानों ने एलान कर दिया है कि जबतक बांध नही वो किसी भी सूरत में किसी भी चुनाव में मतदान नही करेगे और जरूरत पड़ने पर आत्मदाह तक कर लेंगे. वहीं स्थानीय विधायक भी उनकी मांगों को जायज मान कर साथ खड़े होने की बात कह रहे हैं.

(सतना से शिवेंद्र)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading