• Home
  • »
  • News
  • »
  • madhya-pradesh
  • »
  • आदिवासियों से सरकार ने नहीं की इस बार वनोपज की खरीद,औने-पौने दाम बेचने को हैं मजबूर

आदिवासियों से सरकार ने नहीं की इस बार वनोपज की खरीद,औने-पौने दाम बेचने को हैं मजबूर

अपनी महुआ की फसल के साथ एक आदिवासी महिला

अपनी महुआ की फसल के साथ एक आदिवासी महिला

प्रदेश के मुखिया ने लगभग हर जिले में जाकर इस वर्ष आदिवासियों के हक के लिए प्रदेश का खजाना खोलने का एलान किया और पहाड़ी इलाकों में रहने वाले परिवारों के लिए वनोपज का समर्थन मूल्य निर्धारित कर समर्थन मूल्य पर खरीदी का एलान किया था. मगर सतना में इन घोषणाओं को हवा में उड़ा दिया गया.जिले में इस वर्ष एक भी वनोपज की खरीदी नहीं हुई.

  • Share this:
सरकार की घोषणा और वास्तविक हकीकत में धरती असमान का अंतर दिख रहा है.प्रदेश के मुखिया ने लगभग हर जिले में जाकर इस वर्ष आदिवासियों के हक के लिए प्रदेश का खजाना खोलने का एलान किया और पहाड़ी इलाकों में रहने वाले परिवारों के लिए वनोपज का समर्थन मूल्य निर्धारित कर समर्थन मूल्य पर खरीदी का एलान किया था. मगर सतना में इन घोषणाओं को हवा में उड़ा दिया गया.जिले में इस वर्ष एक भी वनोपज की खरीदी नहीं हुई.आदिवासी परिवार औने-पौने दाम पर वनोपज बेचने को मजबूर हैं.पिछले वित्तीय वर्ष भी जिले में सिर्फ महुआ की खरीद हुई थी.तब पाँच हजार क्विंटल महुआ खरीदा गया, जिससे विभाग को लाखों का घाटा हुआ. ऐसे में विभाग इस बार समर्थन मूल्य पर वनोपज खरीदने से पल्ला झाड़ गया. हालांकि विभाग प्रमुख का दावा है कि फील्ड में पिछले वर्ष के आदेश को मान कर आदेश जारी किए गए थे मगर वनोपज कहीं भी नहीं मिली.

सतना जिले के पहाड़ी अंचल  चित्रकूट उचेहरा मैहर और रामनगर क्षेत्र के जंगलों में बड़े पैमाने पर वनोपज होती है.यहां निवासरत अादिवासी परिवार इसी वनोपज को एकत्रित कर जीवन यापन करते हैं.वन विभाग ने महआ,डोरी,करंज बीज,नीम की निबोली अचार बीज जैसी वनोपज को इस वर्ष समर्थन मूल्य पर नहीं खरीदा.ऐसे में आदिवासी परिवार औने पौने दामों में व्यापारियों को वनोपज बेचने को मजबूर हैं.आरोप है कि रीवा वनोपज महाप्रबंधक ने भी सतना के साथ सौतेला व्यवहार किया.रीवा संभाग के रीवा,सीधी, सिंगरौली के लिए समर्थन मूल्य पर वनोपज खरीदने के आदेश मई माह में जारी किए.  महुआ फूल का 30 रुपये,महुया डोरी 35 रुपये,नीम बीज 7 रुपये,करेंज बीज 7 रुपये और आचार बीज का 100 रुपये समर्थन मूल्य निर्धारित किए गए थे. मगर सतना के लिए ऐसा कोई आदेश ही नहीं दिया. ऐसे में विभाग भी समर्थन मूल्य पर वनोपज खरीदने में कोई रुचि नहीं दिखाई

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज