चार साल की बच्ची से रेप करने वाले टीचर के खिलाफ डेथ वारंट, 2 मार्च को दी जाएगी फांसी

महेंद्र सिंह गोंड ने बच्ची का 30 जून, 2018 की रात को अपहरण किया था. उसने जंगल में ले जाकर बच्ची के साथ दुष्कर्म किया और उसे वहीं मरा हुआ समझकर फेंक दिया था.

Shivendra Singh Baghel | News18 Madhya Pradesh
Updated: February 5, 2019, 11:44 AM IST
चार साल की बच्ची से रेप करने वाले टीचर के खिलाफ डेथ वारंट, 2 मार्च को दी जाएगी फांसी
रेप का आरोपी, जिसे फांसी की सजा सुनाई गई है.
Shivendra Singh Baghel
Shivendra Singh Baghel | News18 Madhya Pradesh
Updated: February 5, 2019, 11:44 AM IST
मध्य प्रदेश के सतना के परसमनिया गांव में चार साल की एक मासूम से दुष्कर्म करने के दोषी महेंद्र सिंह गोंड के खिलाफ जिला अदालत ने डेथ वारंट-फांसी का अंतिम आदेश जारी कर दिया है. गोंड को 2 मार्च की सुबह पांच बजे जबलपुर स्थित नेताजी सुभाष चंद्र बोस केंद्रीय कारागार में फांसी दी जाएगी.

इस मामले में निचली अदालत द्वारा दी गई फांसी की सजा को मध्य प्रदेश हाईकोर्ट द्वारा बरकार रखे जाने के बाद अपर सत्र न्यायाधीश दिनेश शर्मा की अदालत ने दुष्कर्मी का डेथ वारंट किया. वहीं अधिकारियों का कहना है कि यदि सुप्रीम कोर्ट इस सजा पर रोक नहीं लगाती है, तो उसे तय की गई तारीख पर फांसी दे दी जाएगी.

इस मामले में अपराध होने और अपराधी को दोषी साबित करने में केवल सात महीने का समय लगा. यदि उसे फांसी हो जाती है तो यह नए कानून के तहत पहला ऐसा मामला होगा जिसमें बच्चों के साथ दुष्कर्म करने वाले को फांसी मिलेगी.

बता दें कि महेंद्र सिंह गोंड ने बच्ची का 30 जून, 2018 की रात को अपहरण किया था. उसने जंगल में ले जाकर बच्ची के साथ दुष्कर्म किया और उसे वहीं मरा हुआ समझकर फेंक दिया था. बच्ची के परिवार वालों ने उसे देर रात को अधमरी हालत में पाया और तुरंत अस्पताल लेकर गए. राज्य सरकार ने तुरंत उसे एयरलिफ्ट कर दिल्ली भेजा. इस अपराध ने देश को हिलाकर रख दिया था. वहीं स्कूल टीचर को कुछ ही घंटों में गिरफ्तार कर लिया गया था.

वारदात के 81 दिन के अंदर पुलिस की विवेचना हुई और कोर्ट का फैसला भी आ गया था. कोर्ट ने 47 दिन की सुनवाई के बाद फैसला सुना दिया था. नागौद स्थित अपर सत्र न्यायधीश दिनेश शर्मा की अदालत ने आरोप प्रमाणित पाए जाने पर महेंद्र को 19 सितंबर 2018 को फांसी की सजा सुनाई. इसके बाद मध्य प्रदेश हाईकोर्ट ने भी आरोपी की अपील खारिज करते हुए 25 जनवरी को फांसी की सजा बरकरार रखी थी.

यह भी पढ़ें-  तंत्र-मंत्र करवाकर नाबालिग से दुष्कर्म, दो महिलाओं सहित तीन गिरफ्तार

यह भी पढ़ें-  रेप और हत्या के मामले में कोर्ट ने आरोपी को सुनाई फांसी की सजा
Loading...

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...

वोट करने के लिए संकल्प लें

बेहतर कल के लिए#AajSawaroApnaKal
  • मैं News18 से ई-मेल पाने के लिए सहमति देता हूं

  • मैं इस साल के चुनाव में मतदान करने का वचन देता हूं, चाहे जो भी हो

    Please check above checkbox.

  • SUBMIT

संकल्प लेने के लिए धन्यवाद

जिम्मेदारी दिखाएं क्योंकि
आपका एक वोट बदलाव ला सकता है

ज्यादा जानकारी के लिए अपना अपना ईमेल चेक करें

डिस्क्लेमरः

HDFC की ओर से जनहित में जारी HDFC लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड (पूर्व में HDFC स्टैंडर्ड लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड). CIN: L65110MH2000PLC128245, IRDAI R­­­­eg. No. 101. कंपनी के नाम/दस्तावेज/लोगो में 'HDFC' नाम हाउसिंग डेवलपमेंट फाइनेंस कॉर्पोरेशन लिमिटेड (HDFC Ltd) को दर्शाता है और HDFC लाइफ द्वारा HDFC लिमिटेड के साथ एक समझौते के तहत उपयोग किया जाता है.
ARN EU/04/19/13626

News18 चुनाव टूलबार

  • 30
  • 24
  • 60
  • 60
चुनाव टूलबार