• Home
  • »
  • News
  • »
  • madhya-pradesh
  • »
  • पौराणिक नदी मंदाकिनी में छोड़ा जा रहा लाखों लीटर कचरा

पौराणिक नदी मंदाकिनी में छोड़ा जा रहा लाखों लीटर कचरा

मंदाकिनी नदी में गिरता नालों का कचरा व गंदा पानी

मंदाकिनी नदी में गिरता नालों का कचरा व गंदा पानी

राम की तपो भूमि चित्रकूट की पौराणिक नदी मंदाकिनी प्रदूषित हो चुकी है. हालात इतने बिगड़ने लगी है कि जिस नदी में लाखों लोग डुबकी लगाकर मोक्ष की कामना करते थे अब स्नान करने से कतराने लगे हैं.

  • Share this:
राम की तपो भूमि चित्रकूट की पौराणिक नदी मंदाकिनी प्रदूषित हो चुकी है. हालात इतने बिगड़ने लगी है कि जिस नदी में लाखों लोग डुबकी लगाकर मोक्ष की कामना करते थे अब स्नान करने से कतराने लगे हैं. दरअसल मध्य प्रदेश सरकार ने मां मंदाकिनी की सफाई का बेड़ा उठाया था.चित्रकूट में मठ मंदिरों से निकलने वाले मल मूत्र रोकने के लिए सीवर प्लांट स्वीकृत किया मगर इस सीवर प्लांट को आज तक चालू नहीं किया गया. अब हद हो गई है कि सीवर प्लांट के पास लाखों लीटर गंदा जल को नदी में छोड़ दिया गया.

गंदे पानी को मंदाकिनी में गिरने से रोकने के कई बार आंदोलन प्रदर्शन हुए और चित्रकूट उप चुनाव के पहले प्रदेश के मुखिया ने नाराज संत समाज के साथ बैठक कर मां मंदाकिनी को निर्मल करने और चित्रकूट को मिनी स्मार्ट सिटी के रूप में विकसित करने का दावा किया लेकिन ये दावा सिर्फ चुनावी निकला. देश विदेश से आने वाले श्रद्धालु स्नान करने से उस वक्त कतराने लगे जब दो गंदे नालों (सरयू और पयस्वनी) का गंदा पानी मंदाकिनी के राघव प्रयाग घाट में प्रवाहित कर दिया गया.पिछले एक हफ्ते से रोजाना लाखों लीटर गंदा जल मंदाकिनी में समाहित हो उसको दूषित कर रहा है. छोटी गंगा के नाम से पुराणों में उल्लेखित इस नदी के जल में हर जगह गंदगी का अंबार लगा हुआ है.

स्थानीय विधायक नीलांशू चतुर्वेदी की मानें तो भाजपा सरकार मंदाकिनी माँ की उपेक्षा कर रही एमपी और यूपी में भाजपा की सरकार है पर इस पवित्र नदी के प्रदूषण मुक्त करने कोई प्रयास नहीं हो रहे हैं. वहीं इस मामले में प्रशासन अनजान है. सतना जिला कलेक्टर की मॉने तो इस मामले की जानकारी न्यूज़ 18 के माध्यम से मिली. वह इसकी जांच करा गंदे पानी को रोकने की बात कह रहे हैं.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज