जुड़वा भाईयों के अपहरण का मामला, 5 दिन बाद भी खाली MP-UP की पुलिस

12 फरवरी को एसपीएस स्कूल से बाइक सवार बदमाशों ने तमंचे के बल पर स्कूल कैंपस के बस रुकवाकर दो जुड़वा भाई शिवांग और दिबांग का अपहरण कर लिया था. दोनों बच्चे तेल कारोबारी ब्रेजश रावत के हैं. घटना के बाद एमपी और यूपी पुलिस की 26 टीमें मासूमों की तलाश में भटक रही है.

Shivendra Singh Baghel | News18 Madhya Pradesh
Updated: February 17, 2019, 7:02 PM IST
जुड़वा भाईयों के अपहरण का मामला, 5 दिन बाद भी खाली MP-UP की पुलिस
भगवान से प्रार्थना करते मासूम
Shivendra Singh Baghel
Shivendra Singh Baghel | News18 Madhya Pradesh
Updated: February 17, 2019, 7:02 PM IST
मध्यप्रदेश के चित्रकूल में तेल कारोबारी के दो जुड़वा बच्चों के अपहरण के मामले में 5 बीत जाने के बाद भी एमपी और युपी पुलिस के हाथ खाली है. पुलिस हवा में लाठियां चला रही है, जबकि परिजनों के सब्र का बांध अब टूटता नजर आ रहा है. परिजनों का पुलिस पर से भरोसा उठ चुका है, जिसके बाद परिजन आमजन मानस से बच्चों की तलाश की मार्मिक अपील कर रहे हैं और भगवान की शरण में अर्जी लगाई है.

12 फरवरी को एसपीएस स्कूल से बाइक सवार बदमाशों ने तमंचे के बल पर स्कूल कैंपस के बस रुकवाकर दो जुड़वा भाई शिवांग और दिबांग का अपहरण कर लिया था. दोनों बच्चे तेल कारोबारी ब्रेजश रावत के हैं. घटना के बाद एमपी और यूपी पुलिस की 26 टीमें मासूमों की तलाश में भटक रही है तो दोनों राज्यों ने एसटीएफ को भी मैदान में उतारा है. इन सबके बावजूद पांच दिन गुजरने के बाद भी पुलिस के हाथ खाली है. अभी तक पुलिस को यह भी पता नहीं चल पाया है कि घटना को किसने और क्यों अंजाम दिया है.



परिजनों के अनुसार बदमाशों ने अपहरण के बाद से लेकर अब तक उनसे कोई संपर्क नहीं किया है और न ही फिरौती की मांग की है. समय लगातार बढ़ रहा है और मासूमों के परिजनों की हालत लगातार बिगड़ रही है. उनका पुलिस से भरोसा उठ रहा है और भगवान की शरण में जाकर बच्चों के सही सलामत होने की मिन्नते की जा रही है. परिजनों का कहना है कि उन्हें अब पुलिस पर भरोसा नहीं है और सरकार इस मामले में सीबीआई से जांच करवाए.

यह भी पढ़ें- पुलवामा हमले में बाल-बाल बचा ये जवान, सामने आया घटना का वीडियो

घटना के पांच दिन बीत जाने के बाद दोनों राज्यों की पुलिस की भाग दौड़ जारी है. बड़े अधिकारी भी कैंप कर रहे हैं और जंगलों में सर्चिंग भी की जा रही है. एमपी और यूपी पुलिस की संयुक्त बैठके भी हो रही है. पुलिस मीडिया के सवालों से भी बच रही है. पुलिस अधिकारी मामले की विवेचना और जल्द सफलता मिलने की बात कह रहे हैं. बहरहाल, करीब 120 घंटों से ज्यादा का समय बीत जाने के बाद भी पीड़ित परिवार अपने बच्चों के आने का इंतजार कर रहा है. परिवार को अब एक ही सहारा नजर आ रहा है और वो है भगवान. पीड़ित परिवार ने घर में अखंड ज्योति जलाकर पूजा-अर्चना शुरू कर दी है.

यह भी पढ़ें-  सतना अपहरण: यूपी के हो सकते हैं किडनैपर, पुलिस को मिले अहम सूत्र

यह भी पढ़ें-  चार साल की बच्ची से रेप करने वाले टीचर के खिलाफ डेथ वारंट, 2 मार्च को दी जाएगी फांसी
Loading...

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स

 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...

News18 चुनाव टूलबार

  • 30
  • 24
  • 60
  • 60
चुनाव टूलबार