रामभक्त पंडित राहुल गांधी...कांग्रेस ने पूछा बीजेपी के पेट में दर्द क्यों?
Satna News in Hindi

अपने विंध्य दौरे पर राहुल गांधी सबसे पहले चित्रकूट पहुंचे. यहां कामतानाथ के मंदिर में दर्शन और पूजा करने के बाद अपना अभियान शुरू किया. उनके स्वागत में स्थानीय कार्यकर्ताओं ने शहर को बैनर-पोस्टर से पाट दिया.

  • Share this:
चित्रकूट दौरे के दौरान राहुल गांधी का नया रूप दिखाई दिया. ये रामभक्त का रूप था. चित्रकूट में मंदिर के दर्शन कर अपना चुनाव अभियान शुरू करने वाले राहुल गांधी के जो पोस्टर यहां लगाए गए, उसमें उन्हें रामभक्त दिखाया गया.

अपने विंध्य दौरे पर राहुल गांधी सबसे पहले चित्रकूट पहुंचे. यहां कामतानाथ के मंदिर में दर्शन और पूजा करने के बाद अपना अभियान शुरू किया. उनके स्वागत में स्थानीय कार्यकर्ताओं ने शहर को बैनर-पोस्टर से पाट दिया. लेकिन इन पोस्टर में ख़ास बात ये थी कि कार्यकर्ताओं ने उन्हें रामभक्त के रूप में दिखाया. पोस्टर में लिखा था- रामभक्त पंडित राहुल गांधीजी का स्वागत-वंदन-अभिनंदन.

लोगों ने सवाल किए तो म.प्र. मीडिया सेल की अध्यक्ष शोभा ओझा ने कहा, राहुल जी पंडित नेहरू के पोते हैं, तो पंडित क्यों नहीं लिख सकते. बीजेपी ने धर्म के नाम पर लोगों को बहकाया है. कांग्रेस ‌के बड़े नेताओं ने हर बार अच्छे काम की शुरुआत मंदिर से की है. ओझा ने सवाल किया कि राहुल को अगर रामभक्त कहा जा रहा है तो इससे बीजेपी के पेट में दर्द क्यों?



इससे पहले 17 सितंबर को  राहुल गांधी के भोपाल दौरे के दौरान जो पोस्टर लगाए गए थे, उनमें उन्हें शिवभक्त बताया गया था. शिवभक्त बताने की वजह यही है कि हाल ही में राहुल गांधी कैलाश मानसरोवर की यात्रा करके लौटे हैं.



ये भी पढ़ें - पोस्टर में राहुल गांधी को दिखाया 'शिवभक्त', मच गया सियासी घमासान

चित्रकूट के घाट से राहुल गांधी ने किया मिशन विंध्य का शंखनाद

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading