लाइव टीवी

बबली कोल गिरोह के बाद अब चित्रकूट की तराई में दस्यु सुंदरी साधना पटेल की दस्तक

Shivendra Singh Baghel | News18 Madhya Pradesh
Updated: October 10, 2019, 6:10 PM IST
बबली कोल गिरोह के बाद अब चित्रकूट की तराई में दस्यु सुंदरी साधना पटेल की दस्तक
सतना के तराई इलाके में साधना पटेल गैंग की दस्तक

साधना पटेल की गिरफ़्तारी पर 50 हजार का इनाम घोषित है. वो अपने प्रेमी ज्ञानेंद्र के साथ नई गैंग बनाकर दो राज्यों की पुलिस को चकमा दे रही और कई बार दहशत फैला चुकी है. उस पर एक दर्जन से ज्यादा लूट और अपहरण के मामले दर्ज हैं

  • Share this:
सतना. चित्रकूट की वादियां अभी शांत नहीं हुई हैं. बबली कोल गिरोह (babli koal gang)के खा़त्मे के बाद अब दस्यु सुंदरी साधना पटेल गैंग (sadhna patel gang)लोगों को बेचैन कर रहा है. वो अपने प्रेमी ज्ञानेंद्र के साथ नयी गैंग बनाकर दो राज्यों की पुलिस को चकमा दे रही है.
5 दशक से आतंक
उत्तर प्रदेश और मध्यप्रदेश के सीमाई इलाके में पिछले पांच दशक से डकैतों का आतंक रहा.एक के बाद एक कई डकैत गिरोह हुए.हाल ही में डकैत बबली कोल गैंग का ख़ात्मा हुआ. लग रहा था कि अब तराई में अमन चैन रहेगा. मगर दस्यु सुंदरी साधना पटेल की मौजूदगी ने लोगों को बेचैन कर दिया है.
साधना गिरोह का डर

सतना के नज़दीक पाठा के जंगल में अभी भी दो गैंग मौजूद हैं. गौरी यादव गैंग ने उत्तरप्रदेश के जंगली इलाकों में दहशत फैला कर एक माह से चुप्पी साध रखी है. लेकिन दो राज्यो की सीमा में दस्यु सुंदरी साधना पटेल का खौफ बरकरार है.दोनो गैंग अभी पुलिस की पकड़ से बाहर हैं.सात लाख का इनामी डकैत बबली और उसका साथी लवलेश मारे जा चुके हैं.सोहन ,सुरेश ,राजाभैया उत्तरप्रदेश पुलिस के हत्थे चढ़ गए जबकि लाली सतना पुलिस की गिरफ़्त में हैं.मगर साधना पटेल आज़ाद है जो कभी भी कोई बड़ी वारदात को अंजाम दे सकती है. पुलिस को उसकी तलाश है. लेकिन मगर दस्यु सुंदरी अपने प्रेमी ज्ञानेन्द्र के साथ भूमिगत हो चुकी है.
50 हज़ार का इनाम
साधना पटेल की गिरफ़्तारी पर 50 हजार का इनाम घोषित है. वो अपने प्रेमी ज्ञानेंद्र के साथ नई गैंग बनाकर दो राज्यों की पुलिस को चकमा दे रही और कई बार दहशत फैला चुकी है. उस पर एक दर्जन से ज्यादा लूट और अपहरण के मामले दर्ज हैं. उस पर यूपी पुलिस ने 30 हजार और एमपी पुलिस ने 20 हजार का इनाम घोषित कर रखा है.
Loading...

सतना पुलिस का दावा
सतना पुलिस अधीक्षक रियाज इकबाल का दावा है कि तराई में अब कोई हिस्ट्री शीटर गिरोह नहीं है. साधना और गौरी यादव गिरोह भूमिगत हैं.तराई में अब अमन चैन है और जल्द साधना और गौरी को भी गिरफ्तार कर लिया जाएगा. जंगल के सीमाई इलाकों में बसे लोगों को विकास की मुख्य धारा से जोड़ने के लिए सुरक्षा व्यवस्था मुहैया कराई जाएगी और स्वरोजगार के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा.

ये भी पढ़ें-छतरपुर की बेटी की थाईलैंड में सड़क दुर्घटना में मौत

9 महीने पहले लव मैरिज, फिर I Love U लिखकर कर महिला प्रोफेसर ने किया सुसाइड

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सतना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 10, 2019, 6:03 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...