Home /News /madhya-pradesh /

big shocking army trainee captain nirmal sivarajan patwari mahendra rajak dead body recovered ndrf search for tehsildar narendra thakur mpsg

जानलेवा उफनते नदी-नाले : कैप्टन और पटवारी का शव बरामद, तहसीलदार की तलाश में एनडीआरएफ की टीम उतरी

तहसीलदार और पटवारी 15 अगस्त की रात कार सहित कर्बला के पुल से सीवन नदीं में गिर गए थे.

तहसीलदार और पटवारी 15 अगस्त की रात कार सहित कर्बला के पुल से सीवन नदीं में गिर गए थे.

Shocking : कैप्टन निर्मल शिवराजन की तीन महीने पहले ही शादी हुई थी. उनकी पत्नी लेफ्टिनेंट गोपीचंदी भी सेना में हैं और जबलपुर में पदस्थ हैं. कैप्टन पत्नी से मिलकर 15 अगस्त की दोपहर वापिस पचमढ़ी के लिए रवाना हुए थे. माखननगर नसीराबाद के ग्राम बछवाड़ा के पास रात 8 बजे उनकी आखिरी लोकेशन मिली थी. कैप्टन के न पहुंचने पर उनकी पत्नी और आर्मी सेंटर ने शिकायत की. उसके बाद एसडीआरएफ और होमगार्ड ने मिलकर सर्चिंग अभियान चलाया था. सर्चिंग के दौरान उनका शव बरामद किया गया.

अधिक पढ़ें ...

सीहोर/होशंगाबाद. मध्य प्रदेश के बड़े इलाके में हुई घनघोर बारिश और उफनते नदी नाले अब जानलेवा साबित हो रहे हैं. ऐसे हालात में पुल पुलियों और रपटों से गुजरते लोग और जरा सी चूक जिंदगी पर भारी पड़ रही है. होशंगाबाद के नजदीक माखननगर में सेना के ट्रेनी कैप्टन निर्मल शिवरामन और सीहोर के नजदीक तहसीलदार नरेन्द्र ठाकुर और महेन्द्र रजक ऐसे ही हादसे के शिकार हो गए. बरसते पानी और घनघोर अंधेरे में पानी में डूबे रपटे पर इनकी गाड़ी फिसल कर पानी में जा गिरी. कैप्टन निर्मल और पटवारी महेन्द्र के शव बरामद कर लिए गए हैं लेकिन तहसीलदार नरेन्द्र ठाकुर का अब तक कहीं पता नहीं चल पाया है. उनकी तलाश में अब एनडीआरएफ की टीम उतार दी गयी है.

सीहोर की सीवन नदी के कर्बला पुल में उफनते बारिश के प्रवाह में कार सहित बहे तहसीलदार नरेंद्र ठाकुर का अब तक कहीं पता नहीं चल पाया है. 15 अगस्त की रात वो अपने पटवारी दोस्त महेन्द्र रजक के साथ एक फार्म हाउस पर दोस्तों के साथ पार्टी करके लौट रहे थे. लेकिन कर्बला पुल पर उनकी गाड़ी पानी में गिर गयी. दो दिन बाद उनकी आई 20 गाड़ी और पटवारी महेन्द्र रजक का शव बरामद कर लिया गया लेकिन तहसीलदार का कहीं पता नहीं चल पा रहा है.तमाम प्रयास के बाद भी नरेन्द्र का पता न चल इस काम में जुटी तमाम एजेंसी और जिला प्रशासन के लिए एक बड़ी चुनौती बना हुआ है. आज से एनडीआरएफ ने रेस्क्यू कमान अपने हाथ में लेकर पुरजोर तरीके से खोज शुरू की है.

वाराणसी से आयी रेस्क्यू टीम
तहसीलदार नरेंद्र ठाकुर की बॉडी खोजने का रेस्क्यू आज से एनडीआरएफ ने अपने हाथों में ले लिया है. उत्तर प्रदेश के वाराणसी कैम्प की एनडीआरएफ इकाई के 23 सदस्य अत्याधुनिक साधनों से लैस टीम उनकी तलाश कर रही है. रेस्क्यू को कमांडेंट कुलदीप लीड कर रहे हैं. स्थानीय पुलिस, एसडीआरएफ, ग्रामीण और नागरिक भी इस रेस्क्यू में मदद कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें- महेश्वर के इन घाटों पर हुई है दबंग, पैडमैन सहित दर्जनों फिल्मों की शूटिंग, बाढ़ में अब ऐसा है सीन

15 अगस्त की रात हादसा
15 अगस्त की रात 11.39 पर तहसीलदार नरेंद्र ठाकुर और उनके साथी पटवारी महेंद्र रजक आई-20 कार सहित सीवन नदी के कर्बला पुल पर उफनते जल में बह गए थे.16 अगस्त से उनकी तलाश शुरू हुई. इसमें पटवारी महेन्द्र की लाश तो मिल गयी लेकिन तहसीलदार का पता नहीं चल पा रहा है.

ये भी पढ़ें-  सीहोर में बड़ा हादसा : उफनती नदी में गिरी कार ; पटवारी का शव बरामद, तहसीलदार की तलाश

कहां गए तहसीलदार
19 किलोमीटर लंबी सीवन नदी पार्वती नदी में मिलती है. पार्वती चंबल में और चंबल यमुना में मिलकर बंगाल की खाड़ी में गिरती है. मिलकर जाती है. ऐसे में पूरा तंत्र परेशान है कि तहसीलदार कहां गए. कार पटवारी महेंद्र रजक चला रहे थे. उनका शव सीवन नदी में ग्राम छापरी में 17अगस्त को सुबह 6 बजे मिला था.

प्रशासन लगातार सक्रिय
कलेक्टर चंद्रमोहन ठाकुर रेस्क्यू अभियान पर लगातार नजर बनाए हुए हैं. जॉइंट कलेक्टर सतीश राय को स्थायी रूप से रेस्क्यू में लगा रखा है. कलेक्टर का कहना है हमारे प्रयास में कोई कमी नही है.

ट्रेनी कैप्टन के साथ भी यही हादसा
15 अगस्त की रात ही होशंगाबाद के बाबई में हादसा हुआ था. यहां माखन नगर के ग्राम बछवाड़ा में पानी में डूबे रपटे पर सेना के ट्रेनी कैप्टन निर्मल शिवराजन कार सहित गिर गए थे. तीन दिन की तलाश के बाद 18 अगस्त को उनकी कार पानी में डूबी मिली और उनका शव झाड़ियों में फंसा मिला. शिवराजन पटमढ़ी में सेना के एजुकेशन सेंटर में प्रशिक्षु कैप्टन थे. एसपी डॉक्टर गुरकरन सिंह ने बताया था कि बीते दिनों हुई बारिश के दौरान नदी नाले उफान पर थे और कैप्टन नसीराबाद से बाबई की ओर जाते समय नाले का आंकलन नहीं कर पाए और यह दुर्भाग्यपूर्ण हादसा हो गया.

3 महीने पहले हुई थी शादी
कैप्टन निर्मल शिवराजन की तीन महीने पहले ही शादी हुई थी. उनकी पत्नी लेफ्टिनेंट गोपीचंदी भी सेना में हैं और जबलपुर में पदस्थ हैं. कैप्टन पत्नी से मिलकर 15 अगस्त की दोपहर वापिस पचमढ़ी के लिए रवाना हुए थे. माखननगर नसीराबाद के ग्राम बछवाड़ा के पास रात 8 बजे उनकी आखिरी लोकेशन मिली थी. कैप्टन के न पहुंचने पर उनकी पत्नी और आर्मी सेंटर ने शिकायत की. उसके बाद एसडीआरएफ और होमगार्ड ने मिलकर सर्चिंग अभियान चलाया था. सर्चिंग के दौरान उनका शव बरामद किया गया.

Tags: Hoshangabad S12p17, Sehore news

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर