होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /

बचपन में हुई थी सगाई; तोड़ी तो जबरदस्ती उठाने आए लड़कियां, खूनी होली में 3 की मौत, 20 घायल

बचपन में हुई थी सगाई; तोड़ी तो जबरदस्ती उठाने आए लड़कियां, खूनी होली में 3 की मौत, 20 घायल

MP Big Crime: मध्य प्रदेश के सीहोर जिले में बचपन की सगाई टूटने पर खूनी संघर्ष हुआ था. इसमें तीन लोगों की मौत हो गई थी.

MP Big Crime: मध्य प्रदेश के सीहोर जिले में बचपन की सगाई टूटने पर खूनी संघर्ष हुआ था. इसमें तीन लोगों की मौत हो गई थी.

MP Big Crime: मध्य प्रदेश के सीहोर जिले में बुधवार शाम हुए खूनी संघर्ष का राज खुल गया है. ये संघर्ष दो लड़कियों की बचपन की सगाई टूटने की वजह से हुआ. इसे लेकर लड़कों के घरवालों ने आष्टा तहसील के अंतर्गत पीपल की सामरी गांव में खूनी खेल खेला. यहां बंजारों के बीच फरसे-तलवारें चलीं और 3 लोगों की मौत हो गई. इस हमले में 20 से ज्यादा लोग घायल हो गए. इसके बाद मृतकों के परिवार ने और ज्यादा बवाल मचा दिया. उन्होंने पुलिस से आरोपियों की जल्द गिरफ्तारी की मांग की. पता चला है कि लड़कों के घरवाले लड़कियों को जबरदस्ती लेने आए थे और हमला कर दिया.

अधिक पढ़ें ...

सीहोर. मध्य प्रदेश के सीहोर जिले में बुधवार शाम हुए खूनी संघर्ष की वजह लड़कियों की बचपन की सगाई टूटना थी. दो गुटों के बीच ये खूनी संघर्ष आष्टा तहसील के अंतर्गत पीपल की सामरी गांव में हुआ. बंजारों के बीच जमकर फरसे और तलवारें चलीं. इस घटना में 3 लोगों की मौत हो गई और 20 से ज्यादा लोग घायल हुए. मृतकों के परिवार वालों ने अस्पताल में जमकर हंगामा किया और आरोपियों की जल्द गिरफ्तारी की मांग की.

जानकारी के मुताबिक, खूनी संघर्ष बुधवार शाम उस वक्त शुरू हुआ जब गांव में रहने वाले लक्ष्मण सिंह बंजारा के परिवार पर हमला करने करीब दो दर्जन लोग बंदूक, धारिया, तलवार और फरसा लेकर पहुंचे. ये लोग इस परिवार को दो लड़कियों को जबरदस्ती लेने आए थे. उन्होंने जब हमला किया तो लखन, मुकेश और श्याम लाल बीच बचाव करने आए. इस दौरान तीनों गंभीर रूप से घायल हो गए. मुकेश और श्याम की अस्पताल लाते वक्त ही मौत हो गई. जबकि, लखन ने गुरुवार को दम तोड़ दिया.

ये है खूनी संघर्ष की वजह

इस संघर्ष के बाद पुलिस की पूछताछ में लक्ष्मण बंजारा ने बताया कि करीब 10 साल पहले उनकी बेटी की सगाई सामरी बोंदा ग्राम पंचायत के‎ सरपंच प्रतिनिधि किशनलाल के लड़के से हुई थी. उस‎ समय किशनलाल ने आधा किलो चांदी का चढ़ावा दिया था. इस पर दोनों परिवारों के बीच सहमति नहीं बनी. इस संबंध को खत्म करने के लिए ये मामला समाज की‎ पंचायत के सामने लाया गया. पंचायत ने फैसला किया कि अगर हम आधा किलो की चांदी के बदले दोगुनी चांदी देंगे तो संबंध खत्म हो जाएगा. हमने एक‎ किलो चांदी होने वाले संबंधियों को वापस कर संबंध‎ खत्म कर लिया.

भीड़ ने कर दिया हमला

लक्ष्मण ने बताया कि मेरे रिश्तेदार लखन की बेटी का रिश्ता भी किशनलाल के भतीजे से तय हुआ था. उसे भी पंचायत के फैसले के अनुसार दोगुनी रकम देकर खत्म कर दिया गया. हमारे परिवार ने रजामंदी से दोनों लड़कियों का रिश्ता‎ दूसरी जगह तय कर दिया. इस पर किशनलाल के परिवार ने रंजिश पाली और हमारी‎ दोनों लड़कियों को उठाकर ले‎ ‎जाने की धमकी देने लगे. इसी मसले को लेकर‎ बुधवार शाम किशनलाल ने लोगों की भीड़ लेकर हमारे घर हमला कर दिया. हमले से पहले लोगों ने तीन हवाई फायर भी किए.

Tags: Mp news, Sehore news

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर