नये कृषि कानून के विरोध में CM शिवराज के गृह ज़िले में ट्रैक्टर पर सवार हुई कांग्रेस

कांग्रेस ने कृषि कानून वापस लेने की मांग की.

कांग्रेस ने कृषि कानून वापस लेने की मांग की.

पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह (Digvijay singh) ने कहा मोदी सरकार (Modi government) जो कृषि कानून लायी है वो किसान विरोधी है.बिना किसानों से चर्चा किये बड़े बड़े लोगो को फायदा पहुँचाने के लिए कानून लाये गए हैं.

  • Share this:
सीहोर. मध्य प्रदेश (MP) कांग्रेस ने बुधवार को सीएम शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj) के गृह विधानसभा क्षेत्र में नये कृषि कानून के विरोध में सड़क पर उतरकर प्रदर्शन किया. इसमें पार्टी के बड़े नेता शामिल हुए.नेताओं ने ट्रैक्टर पर सवार होकर तहसील कार्यालय का घेराव किया.एक ही ट्रैक्टर पर सवार होकर प्रदेश कांग्रेस के तीन दिग्गजों पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह, पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरुण यादव और पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने कांग्रेस की एकजुटता का सन्देश दिया.

दिल्ली में डटे किसानों के समर्थन में कांग्रेस ने सीएम शिवराज के गृह ज़िले सीहोर के नसरुल्लागंज प्रदर्शन किया.नंदगांव से शुरू हुई कांग्रेस की किसान रैली ट्रैक्टर से नसरुल्लागंज पहुंची. ट्रैक्टर पर बैठकर कांग्रेस के दिग्गज वहां पहुंचे और एसडीएम को एक ज्ञापन सौंपा.इसके बाद कांग्रेस के दिग्गजों ने उपस्थित कांग्रेसियों को संबोधित किया. पूर्व मंत्री सज्जन वर्मा ने कहा कि देश का किसान बहुत मजबूत है.किसानों ने चारों तरफ से दिल्ली को घेर रखा है.जैसे अंग्रेजों को भगाने के लिए कांग्रेस और गाँधी जी ने अंग्रेजों को भारत छोड़ने पर मजबूर कर दिया वैसे ही किसान देश से बीजेपी की सरकार को सत्ता छोड़ने पर मजबूर कर देंगे.

बस इतनी सी मांग है

पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह ने कहा मोदी सरकार जो कृषि कानून लायी है वो किसान विरोधी है.बिना किसानों से चर्चा किये बड़े बड़े लोगो को फायदा पहुँचाने के लिए कानून लाये गए हैं.इस बात को समझना पड़ेगा.भारतीय जनता पार्टी, भारतीय जनसंघ राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ पहले से पूंजी वादी व्यवस्था के पक्ष धर रहे हैं.दिग्विजय सिंह ने प्रदेश के कृषि मंत्री कमल पटेल की चुटकी लेते हुए कहा कि नसरुल्लागंज में एक व्यापारी किसानों को 71 लाख का चूना लगाकर चला गया.इसमें एक किसान कृषि मंत्री कमल पटेल के सगे भतीजे हैं.दिग्विजय सिंह ने आगे कहा कि हमारी सिर्फ इतनी सी मांग है की पीएम तीनों कृषि कानून वापस लें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज