देखिए, किस तरह जान जोख़िम में डालकर उफनते नदी-नाले पार कर रहे हैं लोग

Pradeep Singh Chouhan | News18 Madhya Pradesh
Updated: September 10, 2019, 1:06 PM IST
देखिए, किस तरह जान जोख़िम में डालकर उफनते नदी-नाले पार कर रहे हैं लोग
सीहोर ज़िले में भारी बारिश के कारण कोलार डैम के गेट खोले गए हैं

सीहोर ज़िले में हो रही भारी बारिश के कारण नसरुल्ला गंज के नर्मदा के तराई वाले गांवों में हालात बिगड़ गए हैं. लगातार हो रही मूसलाधार बारिश से जनजीवन पूरी तरह अस्त-व्यस्त है.

  • Share this:
सीहोर. सीहोर ज़िला (SEHORE DISTRICT)भी भारी बारिश और बाढ़ (FLOOD)की चपेट में है. इससे जनजीवन अस्त-व्यस्त है. पुल-पुलियों पर पानी बह रहा है. कई इलाकों और गांव का सड़क संपर्क टूट गया है, लेकिन बार-बार अलर्ट के बावजूद लोग उफनते नदी-नाले पार कर रहे हैं.



सीहोर में इस बार इतनी ज़्यादा बारिश हुई कि एक दशक में पहली बार कोलार डेम के दो गेट खोलने पड़े. इस आफत की बारिश ने क्या शहर,क्या गांव सभी को परेशान कर दिया है. श्यामपुर तहसील के बरखेड़ा हसन गांव  का आसपास के एक दर्जन गांवो से सड़क संपर्क टूट गया है. इस गांव के पास बना सीलखेड़ा तालाब का पानी उफान मार रहा है. पानी ओवरफ्लो होकर रास्ते में 3 से 4 फीट तक भर गया है. 72 घंटे से यही हाल है. लेकिन लोग अपनी जान जोखिम में डालकर बेसियर पार कर रहे हैं.

ज़िले में हो रही भारी बारिश के कारण नसरुल्ला गंज के नर्मदा के तराई वाले गांवों में हालात बिगड़ गए हैं. लगातार हो रही मूसलाधार बारिश से जनजीवन पूरी तरह अस्त-व्यस्त है. ग्रामीण क्षेत्रों में नदी-नाले उफान पर हैं.  साथ ही निचली बस्तियों में पानी भराव की स्थिति बनी हुई है.हाथीघाट में नदी पर बना पुल पानी में बह गया है. यहां से निकलने वाली नर्मदा, सीप, कोलार और अंबर नदियां सब उफान पर हैं.

ये भी पढ़ें-बाढ़ में घिरी गर्भवती महिला का रेस्क्यू, नर्मदा ख़तरे के निशान से 12 मीटर ऊपर

सतना में डर लगता है! 3 साल में 721 बच्चे लापता, अपहरण और हत्या से दहला ज़िला

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सीहोर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 10, 2019, 11:59 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...