इमरती देवी से शराबी डॉक्टर ने कहा-..प्रभारी मंत्री लाखन सिंह यादव मेरे चाचा हैं

मंत्री इमरती देवी ने डॉक्टर से कार्रवाई की बात कही तो डॉक्टर कार्रवाई से डरने की बजाए खुद को जिले के प्रभारी मंत्री लाखन सिंह यादव का भतीजा बताने लगा.

Deepak dandotiya | News18 Madhya Pradesh
Updated: July 8, 2019, 10:52 AM IST
इमरती देवी से शराबी डॉक्टर ने कहा-..प्रभारी मंत्री लाखन सिंह यादव मेरे चाचा हैं
शराबी डॉक्टर पर मंत्री ने की कार्रवाई की बात, तो खुद को बताया जिला प्रभारी का भतीजा
Deepak dandotiya | News18 Madhya Pradesh
Updated: July 8, 2019, 10:52 AM IST
श्योपुर जिले में 18 कुपोषित बच्चों की मौतें होने के बाद हडकंप मचने पर प्रदेश की महिला एवं बाल विकास विभाग मंत्री इमरती देवी ने जिले के विजयपुर इलाके के खुर्रका, शिवलालपुरा, अगरा और गोलीपुरा गांवों का दौरा किया. इस दौरान मंत्री को कहीं 17 माह से कंट्रोल का राशन बंद मिला, तो कहीं हमेशा बंद रहने वाला दोपहर का भोजन रविवार को भी चालू मिला. हद तो तब हो गई जब अगरा अस्पताल के डॉक्टर के शराब पीकर मरीजों को भगाने की शिकायत मिलने पर मंत्री इमरती देवी ने डॉक्टर से कार्रवाई की बात कही, तो डॉक्टर कार्रवाई से डरने की बजाए खुद को जिले के प्रभारी मंत्री लाखन सिंह यादव का भतीजा बताने लगा.

इमरती देवी ने अस्पतालों का किया निरीक्षण

जिले की विजयपुर विधानसभा इलाके के गांवों के दौरे के दौरान इमरती देवी जब ग्रामीणों से चर्चा कर रही थी, उस दौरान वह लोगों को बीमारी फैलने पर तत्काल अस्पताल पहुंचने के लिए कह रही थी. इस दौरान ग्रामीणों द्वारा अगरा अस्पताल के डॉक्टर सुनील यादव पर उपचार के नाम पर लोगों से पैसे लेने और शराब पीकर गाली-गलौच करने के आरोप लगाए.

डॉक्टर पर लगा शराब पीकर गाली-गलौच करने का आरोप

वहीं जब मंत्री ने डॉक्टर को कहा कि ‘तुम ये मत समझो कि में महिला एवं बाल विकास मंत्री ही हूं स्वास्थ्य विभाग के मंत्री मेरे भाई है और मैं उनसे कहकर तुम पर कार्रवाई करवाऊंगी' तो डॉक्टर बोला कि उसने आज शराब नहीं पी है. इस पर मंत्री बोली कि ‘मैं तुम पर कार्रवाई करवाऊंगी, तो डॉक्टर डरा नहीं बल्कि बोला कि प्रभारी मंत्री लाखन सिंह यादव मेरे चाचा हैं’

इमरती देवी ने अस्पताल प्रशासन पर की कार्रवाई

जिले में कुपोषित बच्चों की मौतों के मामले में मंत्री इमरती देवी ने महिला एवं बाल विकास विभाग की सुपरवाइजर को सस्पेंड किए जाने,खाद्य विभाग के फूड इस्पेक्टर सहित मध्यान्ह भोजन संचालित करने वालों पर कार्रवाई के निर्देश भी दिए. इस दौरान मंत्री इमरती देवी ने बच्चों की मौत होने की बात भी मानी, लेकिन मौतों को कुपोषण से होना न मानते हुए अलग-अलग बीमारियों से मौतें होना माना.
Loading...

यह भी पढ़ें- कमलनाथ के खिलाफ आवाज बुलंद, सिंधिया को प्रदेश अध्यक्ष बनाने की उठी मांग
First published: July 8, 2019, 10:47 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...