होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /श्योपुर में कुपोषण के भयावह हालात : तीन गांवों में 20 से ज्यादा बच्चे कुपोषित, 4 की हालत गंभीर

श्योपुर में कुपोषण के भयावह हालात : तीन गांवों में 20 से ज्यादा बच्चे कुपोषित, 4 की हालत गंभीर

श्योपुर के विजयपुर में अति कुपोषित बालक की तबियत बिगड़ने पर जिला अस्पताल रेफर किया गया.

श्योपुर के विजयपुर में अति कुपोषित बालक की तबियत बिगड़ने पर जिला अस्पताल रेफर किया गया.

Malnutrition. श्योरपुर जिले में कुपोषण के हालात लगातार चिंताजनक बने हुए हैं. बीस से ज्यादा बच्चे कुपोषण का शिकार हैं. इ ...अधिक पढ़ें

श्योपुर. मध्य प्रदेश के जिले श्योपुर में बच्चों में कुपोषण के हालात भयावह हैं. जिले के विजयपुर के एनआरसी(NRC Center) केंद्र में एक अति कुपोषित बालक की तबीयत गुरुवार को अचानक बिगड़ गई. पैरा गांव के रहने वाले लाखन को अस्पताल के डॉक्टरों ने गंभीर कुपोषित बताया. उसके पेट में काफी दिक्कत है. बच्चे को जिला अस्पताल रेफर किया गया. विजयपुर इलाके के गोलीपुरा और पैरा समेत तीन गांव में 20 से ज्यादा कुपोषित बच्चे हैं. उनमें से चार की हालत गंभीर है.

इन गंभीर कुपोषित बच्चों का इलाज करवाए जाने की जरूरत है. साथ ही इन्हें पोषण आहार दिए जाने की भी आवश्यकता है, लेकिन महिला एवं बाल विकास विभाग का अमला बच्चों की सुध तक नहीं ले रहा. इन हालातों में कुपोषित बच्चे जिंदगी और मौत से जंग लड़ने को मजबूर हैं. पैरा गांव के रहने वाले कुपोषित बच्चे को उसके माता-पिता ने उपचार के लिए एनआरसी केंद्र में भर्ती करा दिया था.

कई बच्चे हैं कुपोषण का शिकार 
बच्चे की हालत काफी गंभीर बताई जा रही है. डॉक्टर का कहना है वह गंभीर कुपोषित और एनीमिक है. इसलिए उसे जिला अस्पताल रेफर किया जा रहा है. इस बच्चे की हालत देखकर अंदाजा लगाया जा सकता है, कि दूसरे कुपोषित और गंभीर कुपोषित किस तरह जिंदगी और मौत से लड़ रहे होंगे. बीते साल मध्यप्रदेश के श्योपुर जिले में लगभग 27 हजार बच्चे कुपोषण का शिकार हुए थे.

बच्चा अति कुपोषित और एनीमिक 
इस अति कुपोषित बच्चे की मां कहती हैं कि उनका बेटा कुपोषित है. जिसे वह इलाज के लिए विजयपुर लेकर आई हैं. वहीं विजयपुर अस्पताल के डॉक्टर गोविंद पवार का कहना है बच्चा अति कुपोषित है एनिमिक भी है इसके पेट में प्रॉब्लम है. इसलिए इसे जिला अस्पताल रेफर कर रहे हैं.

Tags: Health, Health Department, Madhya pradesh news, Sheopur news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें