• Home
  • »
  • News
  • »
  • madhya-pradesh
  • »
  • SHEOPUR MP SHEOPUR 7 VILLAGES IDEAL FOR NATION LITERACY RATE 1 PER CENT CORONA VACCINATION 100 MPNS

Positive India: यहां पढ़े-लिखे 1%, वैक्सीनेशन 100%, जानिए कैसे मिसाल बन गए MP के ये 7 गांव, हम भी सीखें

मध्य प्रदेश के श्योपुर जिले के 7 गांव कोरोना को मात देने पर अड़े हैं. यहां 100 फीसदी वैक्सीनेशन हो चुका है.

Positive India: मध्य प्रदेश का श्योपुर जिला. यहां के 7 गांवों ने देश के सामने मिसाल पेश की है. ये गांव बेहद कम पढ़े-लिखे होने के बावजूद वैक्सीन लगवाने में कहीं आगे हैं. जबकि, इसी जिले के ज्यादा पढ़े-लिखे इलाके वैक्सीनेशन (Vaccination) में पीछे हैं.

  • Share this:
श्योपुर. मध्य प्रदेश के श्योपुर जिले से बड़ी और अच्छी खबर है. कोरोना वैक्सीनेशन को लेकर जिले के आदिवासी विकासखंड (Tribal Block) के 7 गांव पूरे देश को सीख दे रहे हैं. यहां पढ़े-लिखों की दर तो महज 1 फीसदी है, लेकिन वैक्सीनेशन की दर 100 फीसदी है. हैरान करने वाली बात ये है कि जिले के जिन शहरी इलाकों में पढ़े-लिखों की दर 60 फीसदी है, वहां वैक्सीनेशन की दर महज 1 फीसदी है.

जिले के पढ़े-लिखे लोगों को ग्रामीणों के मुकाबले जागरूक करने के लिए अब स्वास्थ्य विभाग ने गांवों की सूची के आधार पर वैक्सीनेशन शुरू करवा दिया है. गौरतलब है कि, कोरोना वैक्सीन को लेकर फैली अफवाहों की वजह से वैक्सीनेशन (Vaccination) के शुरुआती चरण में जिले के शहरी व ग्रामीण इलाकों (Urban and Rural Area’s) के लोग वैक्सीन लगवाने से कतरा रहे थे. इसी वजह से पिछले महीनों जब स्वास्थ्य विभाग की टीम आदिवासी विकासखंड कराहल के सरारी गांव में पहुंची थी तो ग्रामीण डर के मारे गांव छोड़कर भाग गए थे.

ये हैं जागरूक होने वाले 7 गांव
इसी तरह के हालात दूसरे गांवों में भी रहे. लेकिन, ग्रामीणों को जागरुक करने के लिए स्वास्थ्य विभाग की टीम ने सरारी से सटे हुए सूसबाड़ा गांव के ग्रामीणों को समझा-बुझाकर वैक्सीनेशन के लिए तैयार किया. वैक्सीनेशन के बाद इस गांव में बीमारियां गायब हो गई और कोई अप्रिय घटना भी नहीं हुई. इससे जागरूक होकर सरारी गांव के ग्रामीणों ने भी 100 फीसदी वैक्सीन लगवाई. इसी तरह सूसबाड़ा, सिरसनबाड़ी, पनार, मंडी का सहराना, फतेहपुर, सलापुरा सहित 7 निरक्षर गांवों में 100 फीसदी वैक्सीनेशन हो गया.
दर्जनभर गांवों जागरूकता लाने की कोशिश
स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक, इन 7 गांवों में वैक्सीनेशन हो गया, लेकिन जिला मुख्यालय से सटे हुए सोंईकलां, भीखापुर, पांडोली, सहित जिला मुख्यालय से सटे हुए दर्जन भर से ज्यादा गांवो में वैक्सीनेशन 1 फीसदी भी नहीं हुआ. जबकि, इन गांवों में 60 फीसदी लोग पढ़े-लिखे हैं. इस बात को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने सरारी गांव में मुनादी और नुक्कड़ नाटक सहित अलग-अलग तरीकों से लोगों को वैक्सीनेशन के प्रति जागरूक करना शुरू कर दिया है.

ये है गांववालों की बात
नंदापुर गांव के ग्रामीण दिलीपसिंह राठौर का कहना है कि, उनके गांव में अधिकांश लोग साक्षर हैं. इसके बावजूद वह वैक्सीन लगवाने से कतरा रहे हैं. इससे वैक्सीनेशन न के बराबर हुआ. सोंईकलां ग्राम पंचायत के सचिव महेंद्र सिंह जाट का कहना है कि, वह लोगों को लगातार वैक्सीन लगवाने के लिए जागरुक कर रहे हैं. फिर भी उनके गांव में न के बराबर वैक्सीनेशन हो सका है. जबकि, जिन गांवों में एक प्रतिशत लोग भी साक्षर नहीं हैं वहां 100 प्रतिशत वैक्सीनेशन हो चुका है.
Published by:Nikhil Suryavanshi
First published: