होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /महिला टीचर ने हनुमानजी को दे दी 1 करोड़ से ज्यादा की संपत्ति, बेटा और पति ताकते रह गए

महिला टीचर ने हनुमानजी को दे दी 1 करोड़ से ज्यादा की संपत्ति, बेटा और पति ताकते रह गए

शिक्षिका शिवकुमारी जादौन  संपन्न परिवार से ताल्लुक रखती हैं. उनका महीने का वेतन 50 हजार रुपए से ज्यादा है. विजयपुर बाजार में आलीशान मकान है.

शिक्षिका शिवकुमारी जादौन संपन्न परिवार से ताल्लुक रखती हैं. उनका महीने का वेतन 50 हजार रुपए से ज्यादा है. विजयपुर बाजार में आलीशान मकान है.

Sheopur News: मध्य प्रदेश के श्योपुर विजयपुर नगर में महिला टीचर शिवकुमारी जादौन ने जो किया, उसे सुनकर हर कोई हैरान रह ग ...अधिक पढ़ें

श्योपुर. श्योपुर जिले में एक महिला शिक्षक ने अपनी संपत्ति मंदिर को दान कर दी है. शिक्षिका की 1 करोड़ रुपए से ज्यादा कीमत की संपत्ति है. अपनी वसीयत उन्होंने मंदिर ट्रस्ट के नाम कर दी. उसमें ये भी लिखा कि मेरा अंतिम संस्कार भी पंच और मंदिर ट्रस्ट के लोग करें. मामला श्योपुर जिले के विजयपुर नगर का है. खितरपाल गांव के शासकीय विद्यालय में पदस्थ शिक्षिका शिवकुमारी जादौन ने अपना आलीशान मकान, प्लाट, शासन से मिल रहा वेतन, जीवन बीमा पॉलिसी की राशि, सोने चांदी के आभूषण से लेकर करीब एक करोड़ रुपए से ज्यादा कीमत की संपत्ति को विजयपुर के प्रसिद्ध छिमछिमा हनुमान मंदिर ट्रस्ट के नाम कर दिया है.
महिला शिक्षक न तो मानसिक रूप से बीमार है और नहीं उसे किसी तरह की दिमाग से जुड़ी कोई बीमारी है. बल्कि, मन के सुकून के लिए उन्होंने यह कदम उठाया है. शिवकुमारी जादौन का मानना है कि इंसान जीवन भर धन माया के मोह में फंसा रहता है. जबकि, सच्चा सुख ईश्वर की भक्ति में है. ऐसा नहीं है कि उन्होंने अपनी नौकरी त्याग दी हो. बल्कि, वह पहले की ही तरह रोजाना विद्यालय पहुंच कर बच्चों को पढ़ाती हैं. समय से स्कूल जाती हैं और समय से वापस आती हैं. वह ईश्वर से बहुत प्रेम करती हैं.

सुबह से लेकर रात तक वह भगवान का स्मरण करती हैं. पूजा पाठ करना उनके जीवन का सबसे अहम हिस्सा बन गया है. उनका मानना है कि, वह कहीं मोह माया में न पड़ जाएं, इसलिए उन्होंने अपने जीवनभर की पूंजी को हनुमान मंदिर ट्रस्ट के नाम किया है.

ये भी पढ़ें- Big Breaking : इकबाल सिंह बैंस बने रहेंगे मुख्य सचिव, रिटायरमेंट के दिन मिला 6 महीने का एक्सटेंशन

भगवान में गहरी आस्था
महिला शिक्षक शिवकुमारी जादौन बचपन से ही भगवान की पूजा आराधना करती रही हैं. उन्होंने अपने दोनों बेटों के लिए मकान और कुछ संपत्ति पहले ही दे रखी है. वह जब तक जीएंगी, तब तक अपने मकान में रहेंगी. उनके बाद का मकान मंदिर ट्रस्ट का हो जाएगा. ऐसा उन्होंने अपनी वसीयत में लिख कर दिया है.

पति औऱ बेटों के व्यवहार से आहत
शिवकुमारी जादौन अपने पति और बेटों के व्यवहार से आहत हैं. उनका बेटा आपराधिक प्रवृत्ति का है और पति का भी व्यवहार ठीक नहीं है. इस वजह से उन्होंने अपनी वसीयत में यह भी लिखा है कि, उनके मरने के बाद उनके शव का अंतिम संस्कार उनके बेटे के बजाए मंदिर ट्रस्ट के लोग करें. शिक्षिका शिवकुमारी जादौन का कहना है, उन्होंने अपना बैंक बैलेंस, पोस्ट ऑफिस में जमा धन से लेकर मकान और चल अचल संपत्ति मंदिर ट्रस्ट के नाम कर दी है. वसियत में लिखा- मेरे मरने के बाद मेरा अंतिम क्रिया कर्म मंदिर ट्रस्ट के और पंच लोग करें.

सब मंदिर को दान
शिवकुमारी जादौन संपन्न परिवार से ताल्लुक रखती हैं. उनका महीने का वेतन 50 हजार रुपए से ज्यादा है. विजयपुर बाजार में आलीशान मकान है. जिसकी कीमत 50 लाख रुपए से ज्यादा है. इसके अलावा उनके पास जो भी संपत्ति है, उन्होंने मंदिर ट्रस्ट के नाम की है.

Tags: Madhya pradesh latest news, Sheopur news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें