डाकुओं ने दं​पति का अपहरण कर खूब पीटा, दारोगा से पूछा- पैसों का इंतजाम हो गया!

श्योपुर जिले के दाउदपुर गांव में चार हथियारबंद डाकुओं ने एक दंपति का अपहरण कर लिया. डाकुओं ने पति-पत्नी को जंगल ले जाकर पीटा.

News18 Madhya Pradesh
Updated: July 14, 2019, 7:47 AM IST
डाकुओं ने दं​पति का अपहरण कर खूब पीटा, दारोगा से पूछा- पैसों का इंतजाम हो गया!
मध्य प्रदेश के श्योपुर जिले में डकैतों ने पति—पत्नी को बंधक बनाकर पीटा और मांगे 50 हजार रुपये
News18 Madhya Pradesh
Updated: July 14, 2019, 7:47 AM IST
मध्य प्रदेश में श्योपुर जिले के दाउदपुर गांव में चार हथियारबंद डाकुओं ने एक दंपति का अपहरण कर लिया. डाकुओं ने पति-पत्नी को जंगल ले जाकर पीटा. अपहरण की यह घटना शुक्रवार को घटी. डाकुओं ने करीब 12 घंटे के बाद शनिवार की सुबह दंपति से 50 हजार रुपए की फिरौती पहुंचाने की शर्त पर उन्हें छोड़ा. इस घटना की सूचना मिलने के बाद चार थानों की पुलिस ने दंपति को रातभर जंगल में ढूंढ़ने की कोशिश की. हालांकि समाचार लिखे जाने तक पुलिस को बदमाशों के बारे में कोई सुराग नहीं मिल पाया है.

पति-पत्नी को पीटा और दी गोली से मारने की धमकी



मध्य प्रदेश पुलिस- MP police
डकैतों ने सिद्धार से मोबाइल भी छीन लिया था और यह बात जब सिद्धार ने घर लौटने के बाद पुलिस को बताई को उनके नंबर पर दारोगा ने फोन किया. डकैतों ने फोन उठाते ही दारोगा से कहा कि क्या पैसों का इंतजाम हो गया?


चार हथियारबंद बदमाश सिद्धार गुर्जर के घर आ धमके और उन्हें धमकाने के अंदाज में बोले- हम डाकू हैं. सिद्धार से बदमाशों ने नीमवाली खिरकाई गांव का पता पूछा. सिद्धार ने जब उन्हें वहीं खड़े होकर पता बताना शुरू किया तो डाकुओं ने उन्हें रास्ता बताने के लिए साथ चलने के लिए कहा. इसी क्रम में उनकी पत्नी जशोदा आ गई. इसके बाद डाकुओं ने दंपति को जमकर पीटा और उन्हें गोली मारने की धमकी दी. डाकू दंपति को उठाकर जंगल ले गए और उन्हें वहां भी पीटा. दंपति द्वारा जान की भीख मांगने पर डाकुओं ने 50 हजार रुपए की फिरौती मांगी.

पड़ोसी के जगने की आवाज सुनकर भाग खड़े हुए डकैत

इसके बाद डाकुओं ने सिद्धार को जंगल में ही बंधक बनाए रखा जबकि दो डकैत को जशोदा को लेकर उनके घर देर रात पैसे लेने पहुंचे. जशोदा को लेकर आए डकैतों ने उसे घर में फिर से पीटना शुरू कर दिया. जशोदा की रोने की आवाज सुनकर उनका पड़ोसी नारायणसिंह गुर्जर जाग गया और मदद के लिए दौड़े. डकैत नारायण सिंह गुर्जर के आने से पहले ही भाग खड़े हुए. नारायण सिंह ने इसकी सूचना तत्काल पुलिस को फोन करके दी.

डकैतों ने पुलिसकर्मियों से भी फिरौती मांगी
Loading...

दोनों डकैत सिद्धार के यहां से भागने के बाद अपने साथियों के पास पहुंचे. उन्होंने पुलिस के आने की सूचना दी तो डकैतों ने सिद्धार को जंगल में ही छोड़ दिया और धमकी देते हुए कहा कि शनिवार रात 10 बजे तक 50 हजार रुपए पहुंचा देना. डकैतों ने सिद्धार से मोबाइल भी छीन लिया था और यह बात जब सिद्धार ने घर लौटने के बाद पुलिस को बताई को उनके नंबर पर दारोगा ने फोन किया. डकैतों ने फोन उठाते ही दारोगा से कहा कि क्या पैसों का इंतजाम हो गया? इसके बाद से पुलिस डकैतों की तलाश में जुट गई है.

यह भी पढ़ें: प्रसूता को नर्स ने मारे थप्पड़, कहा- इतना क्यों खाया कि 4.5 किलो का हो गया बच्चा

MP: शिवराज सरकार में बना राज्य कृषक आयोग हुआ बंद

 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...