Home /News /madhya-pradesh /

शिक्षक सुसाइड केस: शव लेकर टीआई के कमरे में घुसे परिजन, सैंकड़ों लोगों ने घेरा थाना

शिक्षक सुसाइड केस: शव लेकर टीआई के कमरे में घुसे परिजन, सैंकड़ों लोगों ने घेरा थाना

मध्यप्रदेश के शिवपुरी जिले में पुलिस की कथित प्रताड़ना से तंग आकर जहर खाने वाले शिक्षक की मौत हो गई. इस घटना से नाराज मृतक के परिजन शव लेकर जबरन टीआई के कमरे में घुस गए और उनके साथ मौजूद सैंकड़ों लोगों ने थाने के घेराव कर लिया.

मध्यप्रदेश के शिवपुरी जिले में पुलिस की कथित प्रताड़ना से तंग आकर जहर खाने वाले शिक्षक की मौत हो गई. इस घटना से नाराज मृतक के परिजन शव लेकर जबरन टीआई के कमरे में घुस गए और उनके साथ मौजूद सैंकड़ों लोगों ने थाने के घेराव कर लिया.

मध्यप्रदेश के शिवपुरी जिले में पुलिस की कथित प्रताड़ना से तंग आकर जहर खाने वाले शिक्षक की मौत हो गई. इस घटना से नाराज मृतक के परिजन शव लेकर जबरन टीआई के कमरे में घुस गए और उनके साथ मौजूद सैंकड़ों लोगों ने थाने के घेराव कर लिया.

    मध्यप्रदेश के शिवपुरी जिले में पुलिस की कथित प्रताड़ना से तंग आकर जहर खाने वाले शिक्षक की गुरुवार को मौत हो गई. इस घटना से नाराज मृतक के परिजन शव लेकर जबरन टीआई के कमरे में घुस गए और उनके साथ मौजूद सैंकड़ों लोगों ने थाने के घेराव कर लिया.

    जानकारी के मुताबिक, पिछोर थाना क्षेत्र में रहने वाले शिक्षक मनोज पुरोहित ने 29 अक्टबूर को अपने घर में जहर खा लिया था, जिसके बाद से उसका इलाज स्थानीय अस्पताल में जारी था. गुरुवार को इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई.

    मनोज की मौत से गुस्साए परिजन शव लेकर पिछोर थाना जा पहुंचे. उनके साथ करीब एक हजार लोग भी मौजूद थे. मृतक के परिजन शव को लेकर टीआई के कमरे में घुस गए और उसे टेबल के सामने रख दिया.

    वहीं अन्य लोगों ने थाने के घेराव कर पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई की मांग की. दरअसल, आरोप है कि थाने के कुछ पुलिसकर्मियों ने मनोज को जुए के फर्जी एक्ट में फंसा दिया था और उस पर बार-बार पैसे देने का दबाव बनाने लगे. इससे परेशान होकर उसने जहर खाकर आत्महत्या कर ली. मरने से पहले मनोज ने एक सुसाइड नोट भी लिखा था, जिसमें उसने इस पूरी घटना की जिक्र किया है.

    वहीं इतनी बड़ी संख्या में लोगों के जरिए थाने का घेराव करने की सूचना मिलने पर अधिकारी भी मौके पर पहुंचे हैं और लोगों को शांत करने का प्रयास किया जा रहा है.

    Tags: Blackmail

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर