होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /OMG: शिवपुरी जिला अस्पताल में पत्थरों की नीचे दबा था कुछ, पत्थर हटाते ही जो दिखा उसने फैला दी सनसनी 

OMG: शिवपुरी जिला अस्पताल में पत्थरों की नीचे दबा था कुछ, पत्थर हटाते ही जो दिखा उसने फैला दी सनसनी 

Dadigiri : यह मामला गोवर्धन थाना क्षेत्र के किशनपुरा गांव का है. यहां की एक महिला ने जिला अस्पताल में जुड़वा बच्चों को ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट : सुनील रजक

शिवपुरी. मध्य प्रदेश के शिवपुरी के जिला अस्पताल में गार्ड ने सहायता केंद्र के पास पत्थरों का ढेर देखा. उत्सुकतावश जब उसने इन पत्थरों को हटाया तो जो कुछ देखा, उससे उसकी आंखें फैल गईं. पत्थरों के नीचे एक नवजात का शव दबा पड़ा था. पूरे अस्पताल में यह खबर आग की तरह फैल गई. पूछताछ करने पर पता चला कि जिस नवजात की मौत हो गई थी, उसकी दादी ने यह हरकत की थी.

यह मामला गोवर्धन थाना क्षेत्र के किशनपुरा गांव का है. यहां की एक महिला ने जिला अस्पताल में जुड़वा बच्चों को जन्म दिया था. दोनों बच्चे कमजोर थे, इनमें से एक बच्चे की मौत हो गई. महिला के साथ अस्पताल में मौजूद बच्चे की दादी ने नवजात के शव को सुबह 5 बजे के आसपास अस्पताल परिसर के सहायता केंद्र के पास कूलर के नीचे पत्थरों से दबा दिया और वॉर्ड में लौट गई. सुबह जब सिक्योरिटी गार्ड ने पत्थरों को हटाकर देखा तो नीचे नवजात बच्चे का शव मिला. पूछताछ और तलाश करने पर पता चला कि गोवर्धन थाना क्षेत्र के ग्राम किशनपुरा के रहने वाले भरत ओढ़ की पत्नी गायत्री ओढ़ को जिला अस्पताल में दो जुड़वा बच्चे हुए थे. दोनों कमजोर थे. उनमें से एक की मौत हो गई. तब बच्चे की दादी ने शव को अस्पताल परिसर में पत्थरों से दबा दिया था.

एंबुलेंस में ही दिया था बच्चों को जन्म

बताया जाता है कि गायत्री ओढ़ को 12 अक्टूबर को प्रसव पीड़ा हुई थी. उन्हें ग्राम किशनपुरा से बैराड़ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया था. यहां उनकी हालत देखते हुए उन्हें जिला अस्पताल रेफर किया गया था. जैसे ही महिला को एंबुलेंस से जिला अस्पताल लाया गया. अस्पताल परिसर में पहुंची एंबुलेंस में ही उन्होंने दो बच्चों को जन्म दिया. इसके बाद दोनों बच्चों को भर्ती कर लिया गया. 13 अक्टूबर की शाम एक बच्चे की मौत हो गई.

फावड़ा नहीं मिला तो पत्थरों से ढंका

बच्चे की मौत के बाद दादी उसे गोद में लिए रही और 14 अक्टूबर की सुबह लगभग 5 बजे के आसपास उसे दफनाने के लिए फावड़ा तलाशती रही. जब कब्र खोदने के लिए कोई सामान नहीं मिला तो उन्होंने अस्पताल परिसर के सहायता केंद्र के पास कूलर के नीचे ही बच्चे का शव पत्थरों से दबा दिया. सुबह जब गार्ड ने देखा तो अस्पताल परिसर में सनसनी फैल गई. जिसके बाद मालूम चला कि किशनपुरा की रहने वाली महिला ने 2 बच्चे जन्मे थे, उनमें से एक की मौत हो गई थी. यह बच्चे का शव है. फिलहाल दूसरे बच्चे का इलाज जारी है.

Tags: Government Hospital, Mp news, Shivpuri News

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें