वर्ल्ड चैंपियन उसेन बोल्ट का रिकॉर्ड तोड़ डालेगा मध्य प्रदेश का रामेश्वर गुर्जर

Ashok Agrawal | News18 Madhya Pradesh
Updated: August 17, 2019, 2:07 PM IST
वर्ल्ड चैंपियन उसेन बोल्ट का रिकॉर्ड तोड़ डालेगा मध्य प्रदेश का रामेश्वर गुर्जर
MP के रामेश्वर गुर्जर ने उसेन बोल्ट के रिकॉर्ड को दी चुनौती

शिवपुरी जिले के रहने वाले धावक रामेश्वर गुर्जर का नंगे पैर दौड़ने वाला वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो चुका है. वहीं रामेश्वर गुर्जर जिसके पास पर्याप्त साधन न होने के बाबजूद भी वह विश्व के सबसे तेज धावक उसेन बोल्ट के रिकॉर्ड को तोड़ने की भी हिम्मत दिखा रहा है.

  • Share this:
मध्य प्रदेश के शिवपुरी जिले के रहने वाले धावक रामेश्वर गुर्जर का नंगे पैर दौड़ने वाला वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो चुका है. वहीं रामेश्वर गुर्जर जिसके पास पर्याप्त साधन न होने के बाबजूद भी वह विश्व के सबसे तेज धावक उसेन बोल्ट के रिकॉर्ड को तोड़ने की भी हिम्मत दिखा रहा है. इस वीडियो ने राज्य सरकार के बाद केंद्र सरकार के खेल और युवा कल्याण मंत्री किरेन रिजिजू  और पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का भी ध्यान अपनी ओर खींचा है.

उसेन बोल्ट के रिकॉर्ड पर मंडराया खतरा

बता दें कि उसेन बोल्ट का रिकॉर्ड 100 मीटर रेस में 9.58 सेकंड का है, जबकि वही रिकॉर्ड रामेश्वर बिना किसी ट्रेनर के मात्र 10.16 सेकंड में पूरा कर लेता है. बोल्ट के इस रिकॉर्ड के करीब पहुंचकर एक धावक रामेश्वर ने सनसनी मचा दी है .यदि इस रामेश्वर  को सरकार द्वारा कुछ मदद मिल जाये तो वो दिन दूर नही जब रामेश्वर बोल्ट का रिकॉर्ड तोड़ देगा.

सोशल मीडिया पर वायरल था वीडियो



बता दें कि रामेश्वर उर्फ दरोगा उस समय चर्चा में आया जब रामेश्वर का एक वीडियो किसी ने सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया , जिसमें रामेश्वर 11 सेकंड में 100 मीटर की दौड़ पूरी करता दिख रहा है. रामेश्वर ने बताया कि वायरल वीडियो उसी का है और वह इस बात की हिम्मत रखता है कि वो देश के लिए एक नया रिकॉर्ड बना सकता है. रामेश्वर का कहना के कि उसकी माली हालत ठीक न होना उसकी राह में बड़ी बाधा है, यदि सरकार का सहयोग मिले तो वो कुछ कर सकता है.


Loading...

पिता को रामेश्वर से काफी उम्मीदें

वहीं दरोगा के पिता का कहना है कि उसके पास अपने बेटे को आगे बढ़ाने के लिए प्रयाप्त संसाधन नहीं है. अगर सरकार कुछ मदद करे तो निश्चित ही वह मेरा नाम रोशन करेगा.



सरकार से मदद मिले तो बना सकता है रिकॉर्ड

रामेश्वर के प्राइमरी कोच राजेन्द्र रावत जो कि एक शिक्षक है उनका कहना है कि रामेश्वर जरूर देश का नाम रोशन करेगा, उन्होंने बताया कि जब मैंने रामेश्वर को देखा तब इसके पास जूते भी नहीं थे, लेकिन मैं रामेश्वर की पूरी मदद कर रहा हूं, जिससे वह आगे बढ़ सके.



यह भी पढ़ें- सीआईएसएफ की भर्ती में आया युवक हार गया 'जिंदगी की दौड़'

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अन्य खेल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 17, 2019, 1:14 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...