सरकारी अस्पताल में दिनदहाड़े मरीज़ की हत्या, पुलिस के आने से पहले मिटा दिए खून के धब्बे

पुलिस का कहना है कि सुरेश का उसके भाई से झगड़ा चल रहा था. इस संबंध में उसने पुलिस को आवेदन भी दिया था. फिलहाल इस सनसनीखेज मामले को सुलझाने का प्रयास किया जा रहा है.

Ashok Agrawal | News18 Madhya Pradesh
Updated: August 14, 2019, 10:55 AM IST
सरकारी अस्पताल में दिनदहाड़े मरीज़ की हत्या, पुलिस के आने से पहले मिटा दिए खून के धब्बे
अस्पताल में मरीज़ की हत्या
Ashok Agrawal | News18 Madhya Pradesh
Updated: August 14, 2019, 10:55 AM IST
शिवपुरी ज़िला अस्पताल में दिनदहाड़े एक मरीज़ की हत्या कर दी गई. मरीज़ की खून से लथपथ लाश अस्पताल के बेड पर पड़ी मिली. यह वारदात वॉर्ड के अंदर घटी, लेकिन अस्पताल प्रशासन को इसकी भनक तक नहीं लगी. हत्या के बाद अस्पताल प्रशासन ने पुलिस के आने से पहले ही पोछा लगवाकर खून साफ करवा दिया. हत्यारे और हत्या की वजह का पता नहीं चल सका है. हत्या का शक मृतक के भाई पर है, जिससे उसका झगड़ा चल रहा था.

बेड पर थी लाश
शिवपुरी ज़िला अस्पताल को मध्य प्रदेश में नंबर-1 अस्पताल का तमगा हासिल है. ऐसे में अस्पताल में हत्या की इस वारदात से सनसनी फैल गई. यहां के टीबी वॉर्ड में अधेड़ उम्र का सुरेश शाक्य नाम का एक मरीज़ भर्ती था. बिस्तर पर उसकी खून से लथपथ लाश मिली. सुरेश का गला रेत दिया गया था. सांस लेने में तकलीफ के बाद सोमवार को उसे अस्पताल में भर्ती किया गया था. जिस समय सुरेश की हत्या हुई, उस समय वह वॉर्ड में अकेला था. अज्ञात हमलावर ने धारदार हथियार से उसका गला रेत दिया.

क्यों मिटाए गए सबूत?

इस पूरे मामले में अस्पताल की सुरक्षा व्यवस्था पर सवाल खड़े हो रहे हैं. पहले दिनदहाड़े मरीज़ की हत्या कर दी गई और फिर पोछा लगाकर खून भी साफ कर दिया गया. इस तरह सबूत से छेड़छाड़ की गई.

भाई से था झगड़ा
पुलिस का कहना है कि सुरेश का उसके भाई से झगड़ा चल रहा था. इस संबंध में उसने पुलिस को आवेदन भी दिया था. उन आवेदनों की फोटोकॉपी सुरेश के सामान से मिली है.
Loading...

ये भी पढ़ें-शिव राज में MP में स्टाम्प घोटाला! 22 हजार करोड़ की हेराफेरी

कांग्रेस में गड़बड़झाला? 2019 में भेज दिए गए 2011 के फॉर्म


First published: August 14, 2019, 10:29 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...