जूडो-कराटे की ट्रेनिंग के साथ बेटियों को मिले शस्त्र लाइसेंस: CM शिवराज

मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने जूडो-कराटे की ट्रेनिंग के साथ बेटियों को शस्त्र लाइसेंस देने की सिफारिश की है.

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) ने बेटियों को शस्त्र लाइसेंस देने की पैरवी की है. उन्होंने राजधानी भोपाल (Bhopal) के मिंटो हॉल में राष्ट्रीय बालिका दिवस (National Girl's Day) के मौके पर आयोजित कार्यक्रम में बोलते हुए कहा कि आत्मरक्षा के लिए बेटियों को जूडो- कराटे और मार्शल आर्ट जैसी ट्रेनिंग देने के साथ शस्त्र लाइसेंस देना जरूरी है.

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह (Chief Minister Shivraj Singh) चौहान ने बेटियों को शस्त्र लाइसेंस (Arms License) देने की पैरवी की है. यह बात उन्होंने राजधानी भोपाल (Bhopal) के मिंटो हॉल में राष्ट्रीय बालिका दिवस के मौके पर आयोजित कार्यक्रम में बोलते हुए कही. उन्होंने कहा कि आत्मरक्षा के लिए बेटियों को जूडो- कराटे और मार्शल आर्ट जैसी ट्रेनिंग देना जरूरी है. मुख्यमंत्री ने कहा कि मैं तो यहां तक भी कहता हूं कि शौर्य दल से जुड़ी बेटियों को शस्त्र लाइसेंस भी दिया जाना चाहिए.

शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि बेटियां दया, प्रेम, स्नेह, करुणा, ज्ञान, शौर्य की प्रतीक हैं. स्त्री पुरूष में समानता हो, यह बहुत आवश्यक है. मुख्यमंत्री ने कहा कि उनका मानना है कि बेटियों को अपनी अस्मिता और सम्मान की रक्षा के लिए जूडो-कराटे के प्रशिक्षण के साथ ही कटार या अन्य शस्त्र भी देना चाहिए.

Balaghat News: मादा तेंदुआ और बच्चे का शव मिलने से हड़कंप, जहर देने की आशंका

पंख अभियान की शुरुआत

इस मौके पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पंख अभियान की शुरुआत की. मुख्यमंत्री ने कहा कि बेटियों की सुरक्षा (प्रोटेक्शन), जागरूकता (अवेयरनेस), पोषण (न्यूट्रीशन), ज्ञान (नॉलेज) तथा स्वास्थ्य (हेल्थ) का अनूठा अभियान है 'पंख' (PANKH). मध्यप्रदेश में बेटियों और महिलाओं के विकास की राह की सभी बाधाओं को दूर किया जाएगा . बेटियां आकाश से आगे जाकर अंतरिक्ष तक उड़ान भरें, इसके लिए पूरी ताकत से 'पंख' अभियान का संचालन मिशन मोड पर किया जाएगा. बेटियों के साथ अपराध करने वाले तत्वों को सरकार 'क्रश' कर देगी. ऐसे अपराधियों की सम्पत्ति नष्ट कर दी जाएगी. सजा भी ऐसी देंगे कि जमाना याद करेगा.

क्या है 'पंख' अभियान

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में महिलाओं के कल्याण के लिए अनेक योजनाएं संचालित हैं. इन्हें गति प्रदान की जाएगी. आज से प्रारंभ पंख अभियान अनूठा है जो बालिकाओं के संरक्षण, जागरण, पोषण, ज्ञान, स्वास्थ्य, स्वच्छता का प्रतीक है. पी से प्रोटेक्शन, ए से अवेयरनेस, एन से न्यूट्रीशन, के से नॉलेज एवं एच से हेल्थ व हाइजिन के माध्यम से बेटियों की सुरक्षा, स्वास्थ्य एवं सर्वांगीण विकास सुनिश्चित किया जाना है. पंख अभियान भी इस योजना का ही हिस्सा है, जिसके अंतर्गत अगले दो महीनों की गतिविधियों का कैलेण्डर तैयार किया गया है. अभियान के अंतर्गत जिला स्तर पर विभिन्न विभागों के सहयोग से किशोरियों के स्वास्थ्य, शिक्षा और सुरक्षा को सुनिश्चित किया जाएगा.

जबलपुर में बोले CM शिवराज, 'आजकल अपन मूड में हैं, माफिया पर कार्रवाई रुकी तो खुलेगी तीसरी आंख'

अश्लील सामग्री को रोकें

मुख्यमंत्री ने कहा कि आज ओ.टी.टी प्लेटफार्म पर परोसी जा रही सामग्री अश्लील है, जिसका दुष्प्रभाव देखने को मिल रहा. वैधानिक प्रावधानों द्वारा इस प्रसार को रोकने की आवश्यकता है. मुख्यमंत्री ने कहा कि उनका संकल्प है कि महिलाओं के विरूद्ध अपराधिक कृत्य करने वाले दुष्ट लोगों को नहीं छोड़ा जाएगा. ड्रग्स माफिया को भी नहीं बख्शना है, जो युवाओं को नशे की लत लगाते हैं. नशे से जिंदगी तबाह हो जाती है. अपराधी, बालक-बालिकाओं को नशे की आदत डालकर उनसे अनुचित कार्य करवाते हैं. बहुत सी घटनाएं अंतर्मन को झकझोर देती हैं. दस-बारह बरस के बच्चे अश्लील वीडियो देख अपराधिक कृत्य को अंजाम देते हैं. ऐसे मामलों को सरकार और समाज मिलकर रोकें.

आंगनवाड़ी भवनों का ई-लोकार्पण

कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने प्रदेश के 44 जिलों में नवनिर्मित 501 आंगनवाड़ी भवनों का लोकार्पण किया. अन्य जिलों में भी इस प्रकार के नवनिर्मित केन्द्रों की शुरूआत करने का प्रस्ताव है. आज लोकार्पित आंगनवाड़ी केन्द्र के भवन मनरेगा, राज्य आयोजना, डी.एम.डी.एफ मदों से प्रति केन्द्र 7.80 लाख की लागत से कुल 39 करोड़ से अधिक लागत से निर्मित हुए हैं. मुख्यमंत्री ने 12 वन स्टॉप सखी सेंटर का उद्घाटन कर सेंटर के प्रभारियों से बातचीत की. ये सेंटर्स हिंसा पीड़ित महिलाओं को आश्रय, कानूनी, सामाजिक परामर्श, चिकित्सा सहायता और पुलिस सहायता उपलब्ध करवाएंगे. ये वन स्टॉप सेंटर 12 जिलों अलीराजपुर, बालाघाट, धार, डिण्डोरी, गुना, झाबुआ, रीवा, शहडोल, श्योपुर, सीधी, उमरिया एवं सीहोर में निर्मित हुए हैं.

6 करोड़ से ज्यादा राशि ट्रांसफर

कार्यक्रम में लाड़ली लक्ष्मी योजना के तहत छठवीं, नौवीं एवं ग्यारहवीं की 26 हजार 99 बालिकाओं को 6 करोड़ 47 लाख रूपए की छात्रवृत्ति राशि सीधे बैंक खातों में ट्रांसफर की. प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना में 45 हजार 391 महिलाओं को 8 करोड़ 98 लाख की राशि ट्रांसफर की है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.