सीधी में 13 हजार किसान हैं पैसे के लिए परेशान, बेच चुके हैं 58 करोड़ के गेहूं

मध्य प्रदेश के 13 हजार किसान अपनी गेहूं की उपज बेच चुके हैं लेकिन 20 दिन बीत जाने के बाद भी उनकी उपज का भुगतान नहीं मिला है और वे पैसे के लिए परेशान हैं.

Harish Dwivedi | News18 Madhya Pradesh
Updated: June 17, 2019, 11:06 AM IST
सीधी में 13 हजार किसान हैं पैसे के लिए परेशान, बेच चुके हैं 58 करोड़ के गेहूं
सीधी जिले के किसान बेचे गए गेहूं की उपज के पैसे के लिए परेशान हैं.
Harish Dwivedi
Harish Dwivedi | News18 Madhya Pradesh
Updated: June 17, 2019, 11:06 AM IST
मध्य प्रदेश के सीधी जिले के 36 गेहूं खरीद केन्द्रों में कुल 13 हजार किसानों से 58 करोड़ रुपए से अधिक की गेहूं की खरीद हो गई.  20 दिन बीत गए लेकिन विपणन संघ के अधिकारी और परिवहन ठेकेदार की लापरवाही की वजह से अब तक किसानों को उनकी उपज का भुगतान नहीं मिल सका है. वजह है कि विपणन संघ के अधिकारी और खरीदी केंद्रों से उपज का परिवहन करने वाले ठेकेदार गेहूं का परिवहन करने में बड़ी लापरवाही किए. इस वजह से विभागीय कागजी प्रक्रिया पूरी करने में देरी हो रही है.

सात दिन में बैंक में पहुंचने थे पैसे 

सरकार दावा करती है कि किसानों की ओर से समितियों में बिक्री की गई उपज का भुगतान सात दिन के भीतर किसान के बैंक खाते में पहुंच जाएगा लेकिन प्रशासनिक लापरवाही की वजह से सीधी जिले में ऐसा होता नहीं दिख रहा है. गेहूं बिक जाने के 20 दिन से अधिक दिन बीत चुके हैं लेकिन किसानों को अब तक पैसा नहीं मिला है. विभागीय अधिकारी का कहना है की उपज का भुगतान का संबंध परिवहन से होता है. जैसे-जैसे होता जाता है वैसे ही विपणन संघ की ओर से स्वीकृत पत्रक जारी होता है, उसी अनुसार भुगतान होता है. उम्मीद है कि अगले दो- तीन के भीतर भुगतान हो जाएगा.

ये भी पढ़ें-


Loading...

First published: June 17, 2019, 11:06 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...