बच्चे का शव ले जाने के लिए नहीं मिला शव वाहन, लाचार पिता अस्पताल परिसर में भटकता रहा

शव वाहन के लिए बच्चे का पिता अस्पताल परिसर में घंटों भटकता रहा. वह भी अपनी गोद में बेटे का शव लिए हुए. इस दृश्य को देखने के बाद भी अस्पताल में आते-जाते लोग और अस्पताल प्रबंधन का दिल नहीं पसीजा.

News18 Madhya Pradesh
Updated: July 27, 2019, 2:59 PM IST
बच्चे का शव ले जाने के लिए नहीं मिला शव वाहन, लाचार पिता अस्पताल परिसर में भटकता रहा
सीधी जिला अस्पताल में पिता को नहीं मिला मृत बच्चे को ले जाने के लिए शव वाहन. (सांकेति तस्वीर)
News18 Madhya Pradesh
Updated: July 27, 2019, 2:59 PM IST
बेहतर स्वास्थ्य व्यवस्था को लेकर कितने भी दावे किए जाएं, कहीं न कहीं इसकी पोल हर दिन खुल जाती है. देश के हर शहर में स्वास्थ्य व्यवस्था में कमी देखने को मिलती है. लचर स्वास्थ्य व्यवस्था का नवीनतम मामला मध्य प्रदेश के सीधी जिले का जिला अस्पताल में देखने को मिला है. यहां इलाज के दौरान एक सात साल के बच्चे की मौत हो गई. बच्चे की मौत के बाद उसके शव को उसके घर ले जाने के लिए शव वाहन नहीं मिला. शव वाहन के लिए बच्चे का पिता अस्पताल परिसर में घंटों भटकता रहा. वह भी अपनी गोद में बेटे का शव लिए हुए. इस दृश्य को देखने के बाद भी अस्पताल में आते-जाते लोग और अस्पताल प्रबंधन का दिल नहीं पसीजा. आखिरकार जब मीडिया का दखल हुआ तब प्रशासन ने तुरंत शव वाहन की व्यव्स्था करने का आश्वासन दिया.

कलेक्टर ने शव वाहन की व्यवस्था करने का दिया भरोसा

बता दें कि कुशमहर गांव के छोटेलाल ने अपने बेटे को सीधी जिला अस्पताल में भर्ती कराया था. उनका बच्चा डायरिया से गंभीररूप से पीड़ित था. डॉक्टर के बताए अनुसार उसे दवा दी जा रही थी मगर बजाय ठीक होने के उसकी तबीयत बिगड़ती ही चली गई. डॉक्टर उसे बचा नहीं पाए और सुबह में उसकी मौत हो गई. बता दें कि बच्चे की मौत से टूटे पिता को शव ले जाने के लिए अस्पताल प्रबंधन द्वारा शव वाहन मुहैया नहीं कराया गया. जब मामला बढ़ने लगा तब मीडिया के दखल से जिला कलेक्टर ने शव वाहन की व्यवस्था करने की बात कही.

ये भी पढ़ें - 11 साल से बेटे की अस्थियां लेकर भटक रही है ये बुजुर्ग मां

ये भी पढ़ें - 9 साल की बच्ची से छेड़छाड़ मामले में आरोपी गिरफ्तार...

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सीधी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 27, 2019, 2:57 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...