• Home
  • »
  • News
  • »
  • madhya-pradesh
  • »
  • Sidhi Bus Accident में 47 यात्रियों की मौत, 7 बचाए गए, यहां पढ़ें पूरी खबर एक साथ

Sidhi Bus Accident में 47 यात्रियों की मौत, 7 बचाए गए, यहां पढ़ें पूरी खबर एक साथ

 बस क्रमांक Mp19p 1882 जबलानाथ परिहार ट्रेवल्स की थी. बस का मालिक कमलेश्वर सिंह है जो हादसे के बाद से फरार है.

बस क्रमांक Mp19p 1882 जबलानाथ परिहार ट्रेवल्स की थी. बस का मालिक कमलेश्वर सिंह है जो हादसे के बाद से फरार है.

Sidhi Bus Accident: मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने कहा है कि सीधी में बचाव कार्य अब समाप्त हो गया है. 24 पुरुष, 20 महिलाओं और 1 बच्चे के शव नहर से निकाले जा चुके हैं. नहर में बांध के पानी की सप्लाई बंद की गयी और फिर बस निकाली गई. अभी तक हादसे का यही कारण सामने आया है कि बस अनियंत्रित होकर नहर में गिरी.

  • Share this:

सीधी. सीधी में आज बाणसागर नहर में बस गिरने (Sidhi Bus Accident) से 47 यात्रियों की मौत हो गयी. सभी शव बरामद कर लिए गए हैं. बस में सवार 7 यात्रियों ने तैरकर अपनी जान बचाई. इनमें बस का ड्राइवर भी शामिल है. यह बस 32+2 सीटर थी, लेकिन इसमें 54 यात्री सवार थे. दुर्घटना में मृत 42 यात्रियों के शव बरामद कर लिए गए हैं. इस भीषण दुर्घटना पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi), सीएम  शिवराज सिंह चौहान  और नेता प्रतिपक्ष व पीसीसी चीफ कमलनाथ ने शोक व्यक्त किया है. मध्य प्रदेश सरकार ने मृतकों के परिवार को 5-5 लाख और पीएम मोदी ने नेशनल पीएम रिलीफ फंड से 2-2 लाख रुपये का मुआवजा देने का ऐलान किया है.

सीधी के नजदीक एक भीषण सड़क हादसा हो गया. सीधी से सतना जा रही यात्री बस अनियंत्रित होकर नहर में गिर गयी. बस में सवार कुल 54 यात्रियों में से 47 की मौत हो गयी. खबर मिलते ही आला अफसर मौके पर पहुंच गए और बड़े पैमाने पर रेस्क्यू अभियान शुरू किया. खुद सीएम शिवराज सिंह चौहान ने सीधी कलेक्टर से बात कर रेस्क्यू ऑपरेशन तेज करने के निर्देश दिए और लगातार काम की मॉनिटरिंग करते रहे.

ओवर लोडेड थी बस
सुबह हुए इस भीषण हादसे के बाद अफरा तफरी मच गयी. बस क्रमांक Mp19p 1882 जबलानाथ परिहार ट्रेवल्स की थी. बस का मालिक कमलेश्वर सिंह है जो हादसे के बाद से फरार है.बस सीधी से सतना आ रही थी. 80 किमी का सफर तय करने के बाद ये बाणसागर नहर में जा गिरी. बस की फिटनेस 2-5-21 तक है और बस का परमिट 12-5-25 तक का था. बस सीधी के बाद चुरहट और रामपुर नैकिन कस्बे से गुजरी और उसके बाद नहर में गिर गयी.

सीएम ने लिया संज्ञान
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को जैसे ही इस दुर्घटना की खबर मिली उन्होंने तुरंत सीधी कलेक्टर से बात कर रेस्क्यू ऑपरेशन तेज करने के निर्देश दिए. साथ ही क्रेन, जेसीबी मशीनें और राहत टीम सहित अन्य जरूरी सामान घटना स्थल पर पहुंचाए गए. मुख्यमंत्री ने बाणसागर डैम से नहर का पानी रोकने के निर्देश दिए ताकि राहत काम में दिक्कत न आए.

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शोक संवदेना व्यक्त कीं
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने मध्य प्रदेश के सीधी में हुए बस हादसे में मारे गए लोगों के परिवार के प्रति शोक व्यक्त किया है.उन्होंने कहा,जिन परिवारों ने इस हादसे में अपनों को खोया है मैं उनके प्रति संवेदना व्यक्त करता हूं.साथ ही घायल लोगों के जल्द स्वस्थ होने की कामना करता हूं.

पीएम ने किया मुआवज़े का ऐलान
सीधी बस हादसे पर PM मोदी ने गहरा शोक प्रकट किया.उन्होंने मृतकों के परिवार को 2- 2 लाख रुपये प्रधानमंत्री नेशनल रिलीफ फंड से देने की घोषणा की है.

CM ने की मॉनिटरिंग
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सीधी में चले रेस्क्यू ऑपरेशन की निरंतर मॉनिटरिंग करते रहे. वो जिला प्रशासन के सीधे संपर्क में रहे.सीएम ने घटना पर दुःख व्यक्त करते हुए जिला प्रशासन को निर्देश दिए हैं कि सभी मृतकों के शव ससम्मान उनके परिवार तक पहुंचाने की व्यवस्था की जाए.

PM का धन्यवाद
मुख्यमंत्री ने सीधी की दुखद घटना पर मृतकों के आश्रितों और घायलों को केंद्र सरकार द्वारा दी गई सहायता राशि के लिए प्रधानमंत्री मोदी को धन्यवाद दिया है.

लापरवाह अधिकारियों पर गिर सकती है गाज
सीएम शिवराज सिंह ने हादसे के बाद फौरन प्रदेश के परिवहन मंत्री गोविंद राजपूत को तलब किया और राहत-बचाव कार्य सहित हादसे के कारणों पर लंबी चर्चा की. हादसे के बाद सीएम शिवराज ने अपने आज और कल के सारे कार्यक्रम स्थगित कर दिए.वो बुधवार 17 फरवरी को दमोह जाने वाले थे लेकिन अब दमोह दौरा स्थगित कर दिया गया है.दमोह में होने वाले कल के सभी कार्यक्रम आगामी सूचना तक स्थगित कर दिए गए हैं.

तय समय से पहले रवाना हुई बस और ड्राइवर ने रूट बदल लिया
दुर्घटनाग्रस्त बस बत्तीस प्लस दो सीटर थी. बस को अपने तय समय पर सुबह पांच बजे रवाना होना था लेकिन ये सुबह तीन बजे रवाना हो गयी थी.इसके आने का रास्ता भी दूसरा है. लेकिन आगे ट्रैफिक जाम होने के कारण ड्राइवर ने अचानक रास्ता बदल दिया और 7 किमी नये रूट पर बस ले गया. उसी दौरान रास्ते में ये हादसा हो गया. बस के नहर में गिरते ही ड्राइवर बालेंद विश्वकर्मा ने तैरकर अपनी जान बचा ली.वो रीवा जिले के हरदुया सेमरिया गांव का रहने वाला है. क्रिकेट मैच और रेलवे की परीक्षा की वजह से बस में ज़्यादातर स्टूडेंट्स सवार थे.

बस का परमिट रद्द,ट्रांसपोर्ट कमिश्नर को जांच के आदेश
हादसे का शिकार हुई बस क्रमांक Mp19p 1882 का परमिट रद्द कर दिया गया है. प्रदेश के परिवहन मंत्री गोविंद राजपूत ने बताया कि बस का परमिट रद्द कर ट्रांसपोर्ट कमिश्नर को जांच के आदेश दे दिए गए हैं.जांच में जो भी दोषी होगा छोड़ा नहीं जाएगा. डिप्टी ट्रांसपोर्ट कमिश्नर को घटनास्थल पर भेजा गया है.ये बस जबलानाथ परिहार ट्रेवल्स की थी. बस के मालिक कमलेश्वर सिंह हैं.

मृतकों के परिवार को 5 लाख के मुआवज़े का ऐलान
सीधी बस हादसे में मरने वालों की संख्या 47 तक जा पहुंची. पांंच यात्रियों के शव बरामद करना अभी बाकी है. इधर सीएम शिवराज सिंह ने सरकार की ओर से मुआवज़ा देने का ऐलान किया है. प्रत्येक मृतक के परिवार को 5-5 लाख रुपये का सरकार की ओर से मुआवजा दिया जाएगा. इसमें से 10 हजार रुपये की मदद फौरन की जा रही है.

मौके पर पहुंचे मंत्री
मृतकों में स्टूडेंट्स, महिला और बुजुर्ग सब शामिल हैं.सीएम के निर्देश पर मंत्री तुलसी सिलावट और रामखिलावन पटेल सीधी पहुंचे और राहत और बचाव कार्य देखा. वो पीड़ित परिवारों से मिले.

7 यात्री सकुशल
ये दुर्घटना रामपुर नैकिन थाना क्षेत्र के पटना पुल पर घटी.पुल से बस नीचे नहर में जा गिरी.7 यात्री तैरना जानते थे इसलिए वो तैरकर बाहर आ गए.

 SDRF के 79 जवान तैनात
राहत और बचाव के काम में एसडीआरएफ सतना के 18, एसडीआरएफ सीधी 10, एसडीआरएफ रीवा 13,एसडीआरएफ सिंगरौली 8, एसडीआरएफ जबलपुर 13 और एसडीआरएफ NDRF 15 जवान तैनात किए गए.

बचाव कार्य समाप्त

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने कहा है कि सीधी में बचाव कार्य अब समाप्त हो गया है. नहर में बांध के पानी की सप्लाई बंद की गयी और फिर बस निकाली गई. अभी तक हादसे का यही कारण सामने आया है कि बस अनियंत्रित होकर नहर में गिरी.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज