CM कमलनाथ के मंत्री के आदेश की अधिकारियों ने उड़ाईं धज्जियां, 2 पत्र रद्दी की टोकरी में डाले!

News18 Madhya Pradesh
Updated: September 4, 2019, 5:02 PM IST
CM कमलनाथ के मंत्री के आदेश की अधिकारियों ने उड़ाईं धज्जियां, 2 पत्र रद्दी की टोकरी में डाले!
कमलनाथ के मंत्री के आदेश पर अधिकारियों ने नहीं लिया कोई एक्‍शन.

ग्रामीण पंचायत विकास मंत्री कमलेश्वर पटेल द्वारा एक पत्र 15 जुलाई और दूसरा पत्र 30 अगस्‍त को लिखकर तत्काल ओडगड़ी पंचायत में हुए बड़े घोटाले की जांच का आदेश दिया था, लेकिन आज तक मंत्री जी का पत्र कोरा ही साबित हुआ.

  • Share this:
सिंगरौली. मध्‍य प्रदेश (Madhya Pradesh) के सिंगरौली ( Singrauli) की ओडगड़ी पंचायत में 3 करोड़ के विकास कार्यों में धांधली के साथ-साथ जिंदा लोगों को मुर्दा बताकर निकाली गई राशि का सनसनीखेज मामला सामने आया है. जबकि इन मामलों की जांच के लिए पंचायत और ग्रामीण विकास मंत्री कमलेश्वर पटेल (Panchayat and Rural Development Minister Kamleshwar Patel) ने 2 बार पत्र लिखा, लेकिन उसे जिले के अधिकारियों ने रद्दी की कटोरी में डाल दिया. हालांकि अब मीडिया के दबाव के बाद अफसर हरकत में आए हैं.

अफसर करते हैं ये काम
प्रदेश में जिस तरह से मंत्रियों और पार्टी नेताओं के बीच गहमागहमी जारी है, तो जिले में एक बार फिर अफसरों ने मंत्रियों के आदेश को रद्दी की टोकरी में डालने का काम किया है. ग्रामीण पंचायत विकास मंत्री कमलेश्वर पटेल द्वारा एक पत्र 15 जुलाई और दूसरा पत्र 30 अगस्‍त को लिखकर तत्काल ओडगड़ी पंचायत में हुए बड़े घोटाले की जांच का आदेश दिया था, लेकिन आज तक मंत्री जी का पत्र कोरा ही साबित हुआ.

पंचायत और ग्रामीण विकास मंत्री कमलेश्वर पटेल.


ये है मामला
शिकायत कर्ता शिव शंकर बैश और ग्रामीणों के मुताबिक ग्राम पंचायत में 6 पुल निर्माण में सिर्फ 1 पुल जमीन पर बना है वह भी जर्जर है. जबकि बाकी 5 पुल कागज में निर्माण कर फर्जी तरीके से पैसा निकाला गया. उसके बाद कई रोड निर्माण का दावा किया गया, लेकिन उसमें भी कई सड़क सिर्फ कागज में बनाई गई हैं. इसी तरह लाखों की लागत से बनवाया गया आंगनबाड़ी केंद्र भी भ्रष्‍टाचार की भेंट चढ़ गया है. हालांकि यह केंद्र जर्जर हालत में है और कभी भी गिर सकता है.

ग्रामीणों का दावा है कि PM आवास में भी घपला किया गया है. साथ ही गांव के जिंदा लोगों को भी पंचायत के रिकॉर्ड में मुर्दा घोषित कर योजनाओं का लाभ लेते हुए पैसा निकाला गया है. मामले की गंभीरता को देखते हुए प्रदेश के ग्रामीण पंचायत विकास मंत्री के 2 बार आदेश के बाद भी जांच शुरू नहीं हुई.
Loading...

बहरहाल, गांव के लोगों ने कलेक्टर से मिलकर करोड़ों की अनियमितता का आरोप लगाया है. जबकि मीडिया के दबाव के बाद अफसर हरकत में आये हैं और जांच की बात की जा रही है.

(रिपोर्ट- राज द्विवेदी)

ये भी पढ़ें-अपने अंतर्कलह से गिर जाएगी कमलनाथ सरकार-नरेन्द्र सिंह तोमर

मोबाइल चोरी के शक़ में बच्चे को 5 घंटे तक लगाया करंट और शरीर को पेंचकस से गोदा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सिंगरौली से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 4, 2019, 5:00 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...