सिंगरौली: पोलिंग बूथों तक पहुंचने के लिए हेलिकॉप्टर और सैटेलाइट फोन की मांग

सिंगरौली जिले के चितरंगी विधानसभा में बगदरा, गढ़वा और देवसर विधानसभा के लंघाड़ोल ऐसे इलाके हैं जहां पर अभी भी काफी पिछड़पन है. लंघाडोल इलाके में जहां छत्तीसगढ़ की सीमा छूती है, वहां आज भी कम्युनिकेशन का कोइ सिस्टम नहीं है. कई इलाके ऐसे हैं, जहां पर कम्युनिकेशन ही नहीं है.

Raj Dwivedi | News18 Madhya Pradesh
Updated: October 8, 2018, 7:18 PM IST
सिंगरौली: पोलिंग बूथों तक पहुंचने के लिए हेलिकॉप्टर और सैटेलाइट फोन की मांग
पुलिस नियंत्रण कक्ष
Raj Dwivedi | News18 Madhya Pradesh
Updated: October 8, 2018, 7:18 PM IST
मध्यप्रदेश में निर्वाचन आयोग ने जहां चुनाव का ऐलान कर दिया है, वहीं सिंगरौली जिले में आज भी दो दर्जन से ज्यादा पोलिंग बूथ ऐसे हैं, जहां पर न ही पहुंचने का साधन और और न कोई संचार को कोई सिस्टम. इन पोलिंग बूथ पर पुलिस का वायरलेस सिस्टम ही नेटवर्क पकड़ता है. ऐसे में जिला प्रशासन ने निर्वाचन आयोग से एक दर्जन से ज्यादा सैटेलाइट फोन और पोलिंग पार्टियों को बूथ तक पहुंचाने के लिए हेलिकॉप्टर की मांग की है.

सिंगरौली जिले के चितरंगी विधानसभा में बगदरा, गढ़वा और देवसर विधानसभा के लंघाड़ोल ऐसे इलाके हैं जहां पर अभी भी काफी पिछड़पन है. लंघाडोल इलाके में जहां छत्तीसगढ़ की सीमा छूती है, वहां आज भी कम्युनिकेशन का कोइ सिस्टम नहीं है. कई इलाके ऐसे हैं, जहां पर कम्युनिकेशन ही नहीं है.

इसके अलावा  बगदरा और गढ़वा इलाके में कई पोलिंग बूथ आज भी आम आदमी की पहुंच से विहीन है. ऐसे में चुनाव की तैयारी में जुटे जिला प्रशासन ने निर्वाचन आयोग और पुलिस मुख्यालय से सैटेलाइट फोन और हेलिकॉप्टर की मांग की है. सिंगरौली जिला प्रशासन का मानना है कि निर्वाचन आयोग और पुलिस मुख्यालय के अधिकारी इस बात को समझेंगे और इनकी सुविधाएं मुहैया करवाएंगे.

यह भी पढ़ें-  पेड न्यूज पर चुनाव आयोग की नजर, बनाया गया मीडिया मॉनिटरिंग रूम!

यह भी पढ़ें-  मध्य प्रदेश में चौकीदारों को भी बना दिया बीएलओ !

यह भी पढ़ें-  आचार संहिता से पहले हुए सरकारी कामों की जांच करे चुनाव आयोग- कांग्रेस
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...