MP: कोरोना के बीच कल राज्य के संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी मनाएंगे काला दिवास, करेंगे ये काम

कोरोना फंड के तहत सुविधाएं नहीं मिलने से हैं गुस्सा.
कोरोना फंड के तहत सुविधाएं नहीं मिलने से हैं गुस्सा.

प्रदेश के 19 हज़ार संविदा कर्मचारी कोविड-19 कल्याण योजना(Kovid-19 Welfare Scheme) के तहत लाभ लेने के लिए कल काले कपड़े पहनकर विरोध दर्ज कराएंगे.

  • Share this:
भोपाल. कोरोना काल में राज्य के संविदा स्वास्थ्य कर्मचारियों ने पांच जून को यानी कल 'शोषण का काला दिवस' मनाने की घोषणा की है. संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी संघ ने कहा कि संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी अपनी जान पर खेलकर लोगों की जान बचा रहे हैं. विपदा की घड़ी में पूरी ईमानदारी और लगन से देश की सेवा कर रहे हैं, लेकिन इसके वाबजूद भी कर्मचारियों को संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी संघ के लिए बनाई गई नीतियों का लाभ नहीं मिल रहा है. इसके कारण कल यानी शुक्रवार को प्रदेश भर के संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी काले कपड़े, काला चश्मा और काले मॉस्क लगाकर काम करेंगे.

क्या है आक्रोश का कारण
मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए एस्मा लागू है. इसलिए संविदा स्वास्थ्यकर्मी अपनी ड्यूटी निभाते हुए विरोध दर्ज कराएंगे. संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी संघ ने अपने विरोध को काला दिवस का नाम दिया है. संघ 5 जून को प्रदेशव्यापी काला दिवस मनाएगा. संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी संघ के प्रांताध्यक्ष सौरभ सिंह चौहान ने बताया कि दो साल पहले 5 जून को 90 प्रतिशत वाली संविदा नीति बनाई गई थी. इसमें संविदा कर्मचारियों को नियमित करने की बात कही गई थी, लेकिन दो साल बीतने के बाद भी कर्मचारियों को इसका लाभ नहीं मिल रहा है. इसलिए 5 जून को प्रदेश भर में संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी काला दिवस मनाएंगे.

प्रदर्शन नहीं कर सकते तो काले रंग का लेंगे सहारा
संविदा कर्मचारियों की मानें तो सरकार उनकी ओर ध्यान नहीं दे रही है. संविदा संघ ने कहा सरकार की उपेक्षा के कराण ही हम विरोध करने के लिए मजबूर हैं. संघ ने कहा कि राज्य में लोग एक जगह एकत्र नहीं हो सकते इसलिए हम काम करते हुए काले रंग का सहारा लेकर हम विरोध करेंगे. संघ ने कहा कि कोरोना में लगातार संविदा डॉक्टर, नर्स, फार्मासिस्ट, लैब टेक्नीशियन, आयुष, एड्स  और टीबी परियोजना में कार्यरत कर्मचारी ड्यूटी कर रहे हैं.



19 हज़ार संविदा कर्मचारी करेंगे विरोध
इसके बावजूद उन्हें मुख्यमंत्री कोविड-19 कल्याण योजना का लाभ नहीं दिया जा रहा है. इसलिए 5 जून को प्रदेश के 19 हज़ार संविदा कर्मचारियों ने अपनी मांगों का जल्द निराकरण करने के लिए काले कपडों के साथ ही मॉस्क, काला चश्मा और काली टोपी पहनकर ड्यूटी करने का फैसला लिया है. इसके लिए पिछले सप्ताह से काले रंग के मास्क, टोपी और चश्मे एकत्रित किए जा रहे हैं.

ये भी पढ़ें- Delhi-NCR में आने-जाने के लिए बनेगा कॉमन पास, ऐसे करना होगा आवेदन
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज