Home /News /madhya-pradesh /

संपत्ति कुर्क करने की तैयारी में थी STF, एक पेट्रोल पंप और जमीन का मालिक था शैलेष

संपत्ति कुर्क करने की तैयारी में थी STF, एक पेट्रोल पंप और जमीन का मालिक था शैलेष

लखनऊ में राज्यपाल रामनरेश यादव के बेटे शैलेष की मौत हो गई है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार शैलेष की मौत बुधवार सुबह ब्रेन हेमरेज से हुई। गौरतलब है कि शैलेष व्यापमं घोटाले में फरार था। शैलेष यादव पर संविदा शिक्षक वर्ग-2 के पद के 10 आवेदकों से पैसे लेकर पास कराने का आरोप था। इस घोटाले की जांच कर रही स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने अपनी चार्जशीट में रामनरेश यादव के बेटे शैलेश यादव का उल्लेख किया है।

लखनऊ में राज्यपाल रामनरेश यादव के बेटे शैलेष की मौत हो गई है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार शैलेष की मौत बुधवार सुबह ब्रेन हेमरेज से हुई। गौरतलब है कि शैलेष व्यापमं घोटाले में फरार था। शैलेष यादव पर संविदा शिक्षक वर्ग-2 के पद के 10 आवेदकों से पैसे लेकर पास कराने का आरोप था। इस घोटाले की जांच कर रही स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने अपनी चार्जशीट में रामनरेश यादव के बेटे शैलेश यादव का उल्लेख किया है।

लखनऊ में राज्यपाल रामनरेश यादव के बेटे शैलेष की मौत हो गई है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार शैलेष की मौत बुधवार सुबह ब्रेन हेमरेज से हुई। गौरतलब है कि शैलेष व्यापमं घोटाले में फरार था। शैलेष यादव पर संविदा शिक्षक वर्ग-2 के पद के 10 आवेदकों से पैसे लेकर पास कराने का आरोप था। इस घोटाले की जांच कर रही स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने अपनी चार्जशीट में रामनरेश यादव के बेटे शैलेश यादव का उल्लेख किया है।

अधिक पढ़ें ...
  • News18
  • Last Updated :
    लखनऊ में राज्यपाल रामनरेश यादव के बेटे शैलेष की मौत हो गई है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार शैलेष की मौत बुधवार सुबह ब्रेन हेमरेज से हुई। गौरतलब है कि शैलेष व्यापमं घोटाले में फरार था। शैलेष यादव पर संविदा शिक्षक वर्ग-2 के पद के 10 आवेदकों से पैसे लेकर पास कराने का आरोप था। इस घोटाले की जांच कर रही स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने अपनी चार्जशीट में रामनरेश यादव के बेटे शैलेश यादव का उल्लेख किया है।

    सूत्रों की माने तो एसटीएफ शैलेष यादव की संपत्ति कुर्क करने की तैयारी में जुटी थी। इसके लिए एसटीएफ जल्द ही संपत्ति कुर्क करने के लिए कोर्ट में आवेदन प्रस्तुत करने वाली थी। एसटीएफ द्वारा शैलेष यादव को बयान दर्ज कराने के लिए राजभवन, लखनऊ और आजमगढ़ नोटिस भेजे गए थे।

    गौरतलब है कि एसटीएफ द्वारा भेजे गए यह नोटिस शैलेष को तामील नहीं हुए और इसके बाद शैलेष की तलाश में एसटीएफ की टीम आजमगढ़ और लखनऊ भी गई थी। जब शैलेष को कुछ पता नहीं चला तो फिर एसटीएप ने उसकी संपत्ति की जानकारी जुटाई और पता चला है कि लखनऊ में शैलेष के नाम जमीन औरएक पेट्रोल पंप है।

    आप hindi.news18.com की खबरें पढ़ने के लिए हमें फेसबुक और टि्वटर पर फॉलो कर सकते हैं.

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर