Home /News /madhya-pradesh /

there will also be an option for third genders in government schemes and jobs exams in madhya pradesh kuld

मध्य प्रदेश में सरकारी नौकरियों की परीक्षाओं में थर्ड जेंडर्स के लिए भी होगा विकल्प, ऐसा पहली बार

पढ़े लिखे थर्ड जेंडर (उभयलिंगी) भी नौकरियों के लिए आवेदन कर सकेंगे.

पढ़े लिखे थर्ड जेंडर (उभयलिंगी) भी नौकरियों के लिए आवेदन कर सकेंगे.

सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन कल्याण विभाग ने पीएससी और व्यापमं जैसी परीक्षाओं के आवेदनों में थर्ड जेंडर्स का विकल्प देने के लिए सामान्य प्रशासन विभाग (जीएडी) को प्रस्ताव भेजा था. जीएडी ने इसे मंजूरी दे दी है.

भोपाल. सामाजिक न्याय की बात तो बहुत होती है लेकिन अकसर थर्ड जेंडर पीछे छूट जाते हैं. इस भेदभाव को दूर करने के लिए मध्य प्रदेश में उभयलिंगियों (थर्ड जेंडर) को सरकारी स्कीम्स और नौकरी के आवेदन में तीसरे विकल्प के रूप में स्थान दिया जाएगा. यानी अब पढ़े-लिखे थर्ड जेंडर भी अपनी पहचान के साथ नौकरियों के लिए आवेदन कर सकेंगे.

सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन कल्याण विभाग ने सामान्य प्रशासन विभाग (जीएडी) को पीएससी और व्यापमं के तहत होने वाली भर्ती परीक्षाओं के आवेदनों में थर्ड जेंडर्स का कॉलम जोड़ने का प्रस्ताव भेजा था. अब जीएडी ने इस प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है. इसके तहत पहली बार प्रदेश में सरकारी भर्ती के आवेदन पत्र या फिर योजनाओं के आवेदन पत्रों में महिला पुरूष के अलावा थर्ड जेंडर का विकल्प मिलेगा.
यह भी पढ़ें: हवन और मंत्रोच्चार के बाद खेतों में होगी बोवनी, शिवराज सरकार का नया प्रयोग

थर्ड जेंडर समुदाय ने सुप्रीम कोर्ट में लगाई थी गुहार
मध्य प्रदेश में सरकारी भर्ती या योजनाओं में महिला व पुरूष का ही विकल्प रहता था. इसके चलते थर्ड जेंडर्स को मौका नहीं मिलता था. इसको लेकर थर्ड जेंडर समुदाय ने सुप्रीम कोर्ट तक याचिका लगाई थी कि उन्हें शासकीय भर्ती में आवेदन का अवसर दिया जाए. लिहाजा, सामाजिक न्याय विभाग ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश के पालन के लिए शासन को पुरूष व महिला के बाद थर्ड जेंडर को तीसरे विकल्प में रखने का प्रस्ताव भेजा था.
यह भी पढ़ें: लाड़ली लक्ष्मी 2.0 स्कीम: कॉलेज में दो किस्तों में मिलेंगे 25 हजार रुपए, मुफ्त में पढ़ेंगी बेटियां 

सरकारी योजनाओं से जुड़ने से थर्ड जेंडर भी समाज की मुख्यधारा में आएंगे
सामाजिक न्याय व नि:शक्तजन कल्याण विभाग के प्रमुख सचिव प्रतीक हजेला ने बताया कि लोक सेवा आयोग व पीईबी की प्रतियोगी परीक्षाओं में पुरूष महिला के बाद अब थर्ड जेंडर का भी तीसरा विकल्प उपलब्ध होगा. यह भले ही छोटा कदम है लेकिन सामाजिक न्याय की दिशा में बड़ा और ऐतिहासिक कदम है. इस नई व्यवस्था से वे भी सरकारी योजनाओं से जुड़ेंगे और उन्हें समाज की मुख्यधारा में लाया जा सकेगा.
यह भी पढ़ें: अजब-गजब रेत नीति: 19 जिलों में रेत खदानें बंद, मध्यप्रदेश सरकार को 250 करोड़ रुपए का लगा फटका

Tags: CM Madhya Pradesh, Gender descrimination, Madhya Pradesh government, Madhya Pradesh News Updates

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर