लाइव टीवी

केंद्रीय दल के दौरे के बीच कर्ज़ से परेशान किसान ने की आत्महत्या की कोशिश

Rajiv Rawat | News18 Madhya Pradesh
Updated: October 14, 2019, 9:15 PM IST
केंद्रीय दल के दौरे के बीच कर्ज़ से परेशान किसान ने की आत्महत्या की कोशिश
केंद्रीय दल ने ख़राब हुई फसलों का जायज़ा लिया

फसलों को हुए नुक़सान का आंकलन करने केन्द्रीय दल सोमवार सुबह निवाड़ी जिले के ओरछा पहुंचा. यहां रामराजा सरकार के दर्शन करने के बाद अफसरों का दल 6 गांवों के दौरे पर निकला. खेतों में जाकर फसलों का नुक़सान देखा और किसानों से बात की

  • Share this:
टीकमगढ़. हमेशा सूखे की मार झेलने वाला बुंदेलखंड (bundelkhand)का किसान (farmer) इस बार ज्यादा बारिश (heavy rains)के कारण मारा गया. इस साल इतनी बारिश हुई कि इस पूरे इलाके में फसलें (crop)चौपट हो गयीं. केंद्रीय सोमवार को फसलों को हुए नुक़सान का जायज़ा लेने आया. इधर दल टीकमगढ़ और निवाड़ी मेंका दौरा कर रहा था, उधर खरगापुर में कर्ज़ से परेशान एक किसान आत्महत्या की कोशिश कर रहा था.
इस बार बारिश ने मारा
हमेशा से सूखे के कारण त्राहि-त्राहि करने वाला बुन्देलखंड का किसान इस बार बारिश से त्राहिमाम कर उठा है. पूरे प्रदेश की तरह बुंदेलखंड में भी इस बार आसमान ने पानी नहीं बल्कि आफत बरसा दी. इतनी बारिश हुई कि कई जगह बाढ़ आ गयी. जान-माल दोनों का नुक़सान हुआ. बारिश के कारण इस पूरे इलाके में फसल चौपट हो गयी है. किसानों ने सोया‌बीन, उड़द, मूंग, तिलहन और मूंगफली बोई थी. लेकिन अति बारिश के कारण इस साल 90 प्रतिशत से अधिक फसल खराब हो चुकी है.
खेत साफ करने का पैसा भी नहीं

किसानों ने कर्ज़ लेकर खेतों में बुवाई की थी. लेकिन बारिश की बजह से बीज और फल-फूल खेतों में ही सड़ गया. अब किसानों के पास खेतों की सफाई के लिए भी पैसा नहीं बचा है, ताकि अगली फसल की तैयारी वो कर सके.
केंद्रीय दल का दौरा
फसलों को हुए नुक़सान का आंकलन करने केन्द्रीय दल सोमवार सुबह निवाड़ी जिले के ओरछा पहुंचा. यहां रामराजा सरकार के दर्शन करने के बाद अफसरों का दल 6 गांवों के दौरे पर निकला. खेतों में जाकर फसलों का नुक़सान देखा और किसानों से बात की. बाद में कलेक्ट्रेट में कलेक्टर और अफसरों के साथ बैठक कर किसानों आर्थिक हालात के बारे में चर्चा की.
Loading...

मुआवज़े का इंतज़ार
बाद में टीम ने टीकमगढ़ ज़िले के 4 गांवों का दौरा किया और खेतों पर जाकर फसलों का निरीक्षण किया.किसानों का साफ कहना है कि फसलें पूरी तरह ख़राव हो गयी हैं अब मुआवज़े का इंतज़ार है.

आत्महत्या की कोशिश-खरगापुर के कोटरा गांव में किसान हरिशचन्द्र राजपूत ने अपने घर में फंदा लगाकर आत्महत्या करने की कोशिश की. इस बार अधिक बारिश की वजह से उसकी फसल ख़राव हो गयी थी. किसान कर्ज़ में डूब गया था.  परिवार वालों ने हरिशचन्द्र को फांसी से उतारा और जिला अस्पताल लेकर पहुंचे जहां उसकी गभीर हालत को देखते हुए झांसी रैफर कर दिया गया.बताया जा रहा है.हरिशचन्द्र राजपूत ने 25 एकड़ जमीन किराए पर लेकर खेती कर रह था. उसने लगभग तीन लाख का कर्ज़ लिया था. लेकिन अधिक बारिश की वजह से फसल खराब हो गई जिससे वो बहुत परेशान था.

ये भी पढ़ें-5 बार हॉकी का नेशनल टूर्नामेंट खेल चुका था ग्वालियर का अनिकेत वरुण

3 बहनों का इकलौता भाई था हॉकी खिलाड़ी शाहनवाज़ हुसैन, मां को नहीं दी ख़बर

हॉकी खिलाड़ियों की मौत पर सीएम कमलनाथ और खेल मंत्री ने जताया शोक

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए टीकमगढ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 14, 2019, 9:15 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...