ब्लैक फंगस: एक आंख खो चुके पिता के लिए बेटी ने लगाई गुहार, CM ने दिया 60 इंजेक्शनों का भरोसा

सीएम से गुहार लगाने वाली वर्षा मिश्रा.

सीएम से गुहार लगाने वाली वर्षा मिश्रा.

मध्य प्रदेश में ब्लैक फंगस यानी म्यूकरमाइकोसिस महामारी की तरह बढ़ चुका है और हालात गंभीर इसलिए होते जा रहे हैं क्योंकि इसके इलाज के इंजेक्शनों की भारी किल्लत है. इस दर्द को बयान करती एक कहानी.

  • Share this:

टीकमगढ़. आस की किरण के लिए एक छोटा सा सूराख भी काफी होता है और पूरा रोशनदान ही खुल जाए तो माथे की शिकन धुल ही जाती है. ब्लैक फंगस के कारण एक आंख खो चुके पिता के इलाज के लिए बेटी ने टीकमगढ़ कलेक्ट्रेट में गुहार लगाई तो उसकी आवाज़ सीधे मुख्यमंत्री तक पहुंच गई. सीएम ने केवल पीड़ा सुनी बल्कि पूरी मदद का भरपूर भरोसा भी दिया. ग्वालियर के अस्पताल में भर्ती पिता के लिए बेटी को अब एक आस नज़र आई है क्योंकि सीधे सीएम ने ब्लैक फंगस के इलाज के लिए इंजेक्शन उपलब्ध करवाए जाने का भरोसा दे दिया है.

Youtube Video

वास्तव में, वर्षा मिश्रा अपने पिता रमाकांत मिश्रा के इलाज के लिए इंजेक्शनों की किल्लत से जूझते हुए जब कलेक्टर कार्यालय मदद मांगने पहुंचीं तो वहां ऑनलाइन बैठक में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कोरोना संबंधी स्थितियों की समीक्षा कर रहे थे. इस दौरान वर्षा ने ब्लैक फंगस के इंजेक्शन न मिल पाने की पीड़ा और गुहार लगाई तो उसकी बात सीधे सीएम से करवा दी गई. सीएम ने तत्काल ग्वालियर कलेक्टर से चर्चा कर वहां अपोलो हॉस्पिटल में भर्ती रमाकांत मिश्रा के लिए सारे इंजेक्शन उपलब्ध कराने के निर्देश दिए.

ये भी पढें: कोरोना का एक और रोना - महामारी के सिर्फ 6 महीनों में MP में गायब हुए 5446 बच्चे

पिता के लिए जूझ रही बेटी का संघर्ष

वर्षा मिश्रा ने बताया कि उसके पिता आईटीआई कॉलेज में पदस्थ लिपिक रमाकांत ब्लैक फंगस की चपेट में आ गए, जिससे उनकी एक आंख निकाले जा चुकी है क्योंकि इंजेक्शन समय से मिल नहीं पाए. वर्षा के मुताबिक डॉक्टरों ने जल्द ही व्यवस्था न होने की सूरत में दूसरी आंख भी निकालने की बात कह डाली. वर्षा ने बताया कि डॉक्टरों के अनुसार 60 इंजेक्शन और लगना हैं लेकिन इंजेक्शन उपलब्ध ही नहीं हैं.



madhya pradesh news, black fungus in mp, black fungus treatment, black fungus injection, मध्य प्रदेश न्यूज़, मध्य प्रदेश में ब्लैक फंगस, ब्लैक फंगस का इलाज, ब्लैक फंगस इंजेक्शन
कलेक्ट्रेट पहुंची वर्षा की बात वीडियो कॉन्फ्रेंस के ज़रिये सीधे सीएम से हुई.

इस कठिन समय में वर्षा के साथ ग्वालियर के ही एक युवक ने धोखाधड़ी भी की. वर्षा के मुताबिक वह 50 हज़ार रुपयों की ठगी का शिकार हुई. इन कठिनाइयों से जूझ रही परेशान वर्षा ने कलेक्टर व विधायक से गुहार लगाई, जिसके बाद सीएम शिवराज सिंह ने उससे बात कर फ्री इलाज का वादा किया. साथ ही, मुख्यमंत्री ने ठगी के आरोपी पर कड़ी कार्यवाही के निर्देश भी वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से ग्वालियर एसपी को दिए.

ये भी पढें: ये हैं जस्टिस प्रशांत कुमार मिश्रा, जो छत्तीसगढ़ हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस होंगे

गौरतलब है कि टीकमगढ़ ज़िले के पहले ब्लैक फंगस के मरीज़ रमाकांत को 11 मई को ब्लैक फंगस के लक्षण दिखने पर ग्वालियर में भर्ती कराया गया था. गंभीर स्थिति बनने पर आंख निकालनी पड़ी. अब एम्फोटेरिसिस-बी और पोसाकोनाजॉल इंजेक्शन की आवश्यकता है, लेकिन इनकी किल्लत है. डॉक्टर ने इलाज के दौरान 70 इंजेक्शन लगने की बात कही है, लेकिन अभी तक 10 इंजेक्शन ही लग सके हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज