राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने छात्राओं को सुनाई रोज 16 किलोमीटर पैदल स्कूल जाने की कहानी

मध्य प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने टीकमगढ़ में स्कूली छात्राओं से अपने स्कूल के दिनों की यादें साझा कीं. उन्होंने बताया कि प्राइमरी स्कूल में पढ़ने के लिए उन्हें हर रोज 16 किलोमीटर पैदल चलना पड़ता था.

Rajiv Rawat | News18 Madhya Pradesh
Updated: July 6, 2019, 9:59 PM IST
राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने छात्राओं को सुनाई रोज 16 किलोमीटर पैदल स्कूल जाने की कहानी
आनंदीबेन पटेल, राज्यपाल मध्यप्रदेश
Rajiv Rawat | News18 Madhya Pradesh
Updated: July 6, 2019, 9:59 PM IST
मध्य प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल शनिवार को अपने एक दिन के दौरे पर टीकमगढ़ पहुंचीं. वहां
सुबह उन्होंने आंगनबाड़ी केन्द्र, स्कूल और थाने का निरीक्षण किया और बाद में जिले के आधिकारियों की बैठक ली. राज्यपाल ने बड़ागांव में थाने का निरीक्षण किया और वहीं स्कूली छात्राओं के साथ चर्चा की. उन्होंने नाबालिग बच्चियों के साथ बढ़ रहे अपराधों की रोकथाम के लिए छात्राओं जागरूक किया और उन्हें बचाव के लिए टिप्स दिए. उन्होंने अपने बचपन के दिनों को याद किया और पढ़ाई के लिए कठिन संघर्ष की कहानी बयां की.

गांव से स्कूल जाने वाली एक मात्र लड़की थीं आनंदीबेन 

राज्यपाल आनंदी बेन ने बताया कि जव वह प्राइमरी स्कूल में पढ़ती थीं तो गांव के 800 लड़कों में वह अकेली लड़की थीं और गांव से आठ किलोमीटर दूर पैदल स्कूल जाती थीं और वापस पैदल आती थीं. पढ़ाई के साथ घर और खेतों का काम भी किया करती थीं. इसके बाद उन्होंने अहमदाबाद के कॉलेज के एमएससी तक की पढ़ाई पूरी की. उन्होंने छात्राओं से अपनी उम्र का भी जिक्र किया और कहा कि 78 साल की उम्र में वह इस मुकाम पर हैं. राज्यपाल ने छात्राओं से कहा कि आप सभी पढ़ाई के लिए कड़ी मेहनत करें और आगे बढ़ें. राज्यपाल ने कार्यक्रम के दौरान स्कूल के शिक्षकों की लापरवाही को देखते हुए उन्हें कड़ी फटकार भी लगाई.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए टीकमगढ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 6, 2019, 9:59 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...