एमपी में शौचालय के लिए गड्ढा खोदेंगे शिक्षक, पीएम मोदी के बर्थडे पर लगी ड्यूटी

ETV MP/Chhattisgarh
Updated: September 17, 2017, 6:11 PM IST
एमपी में शौचालय के लिए गड्ढा खोदेंगे शिक्षक, पीएम मोदी के बर्थडे पर लगी ड्यूटी
जहां एक ओर शिक्षकों की कमी के चलते शिक्षण कार्य प्रभावित हो रहा है. वही दूसरी ओर अब शिक्षकों को एक और नया काम काम विभाग के अधिकारियों ने दे दिया है.
ETV MP/Chhattisgarh
Updated: September 17, 2017, 6:11 PM IST
मध्य प्रदेश के टीकमगढ के स्कूल शिक्षकों को एक अजीबोगरीब आदेश देते हुए जिला शिक्षा अधिकारी ने कहा कि शिक्षक गांव गांव जाकर शौचालयों के गड्ढे खोदमें में सहयोग करें. हालाकि इस फैसले का विरोध होना शुरू हो गया है.

जहां एक ओर शिक्षकों की कमी के चलते शिक्षण कार्य प्रभावित हो रहा है. वही दूसरी ओर अब शिक्षकों को एक और नया काम काम विभाग के अधिकारियों ने दे दिया है.

अब शिक्षक हाथ में गेती-फावड़ा लेकर शौचालयों के गड्ढे खोदेगे जबकि इनके हाथों में भारत का भविष्य होता है. यह आदेश टीकमगढ के जिला शिक्षा अधिकारी ने जारी किया है.

यह आदेश टीकमगढ जिला शिक्षा अधिकारी बीएल लुहारिया ने जारी किया है. इस आदेश में लिखा है कि शिक्षक गांव गांव जाकर शौचालयों के गड्ढे खोदमें में सहयोग करें. इस आदेश के बाद से ही शिक्षकों में आक्रोश है. वहीँ इस मामले में कलेक्ट्र का कहना है कि शिक्षक समाज का अभिन्य अंग है. स्वच्छता ही सेवा है यह अभियान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जन्मदिवस के रुप में मनाया जा रहा है. इस में ना केवल शिक्षक समाज के सभी लोग जुडकर इसमें सहयोग करेंगे.

टीकमगढ जिले के सरकारी स्कूलों में पढ़ाने के लिए शिक्षको की भारी कमी है. कई स्कूल तो ऐसे भी है जहा एक भी शिक्षक नही है.

टीकमगढ जिला शिक्षा अधिकारी द्वारा निकाले गए इस आदेश के बाद जिले के सभी शिक्षकों में आक्रोश है. शिक्षकों का कहना है कि यह शिक्षकों के सम्मान के खिलाफ है. शिक्षकों का काम सिर्फ पढ़ाना है. हम इस आदेश का विरोध करते है.

उन्होंने सवाल किया कि हमारे समाज में शिक्षकों सम्मान पूर्व देखा जाता है. शिक्षक राष्ट्र का निर्माता होता है जिनके हाथों में राष्ट्र का भविष्य सवरता है. लेकिन क्या इन के हाथो में शौचालयों के गड्ढे खोदने की जिम्मेदारी दी जानी उचित है.
First published: September 17, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर