COVID-19: लॉकडाउन के चलते इंदौर में फंसी दो विदेशी युवतियां, दूतावास से मांगी मदद
Indore News in Hindi

COVID-19: लॉकडाउन के चलते इंदौर में फंसी दो विदेशी युवतियां, दूतावास से मांगी मदद
भोपाल से इजाजत न मिल पाने के लिए इंदौर पुलिस दोनों विदेशी युवतियों को ई-पास उपलब्‍ध नहीं करा पा रही है.

दूतावास (Embassy) ने दोनों विदेशी युवि‍तयों के लिए स्‍पेशल फ्लाइट (Special Flight) का प्रबंध किया है, लेकिन लॉकडाउन (Lockdown) के चलते इन्‍हें इंदौर (Indore) से दिल्‍ली जाने की इजाजत नहीं मिल पा रही है.

  • Share this:
इंदौर. देश में लॉकडाउन (Lockdown) के चलते इंदौर (Indore) के पास चोरल में दो विदेशी युवतियां फंस गई हैं. वे जर्मनी (Germany) और नीदरलैंड (Netherland) से योग सीखने सत्यधारा योगा लाइफ आश्रम चोरल आईं थीं. दोनों युवतियों की लॉकडाउन के चलते देश वापसी नहीं हो पाई. अब परेशान युवतियों ने ई-मेल के जरिए अपने दूतावास से मदद मांगी है. वहीं, दोनों देशों के दूतावास ने वतन वापसी के लिए स्पेशल फ्लाइट की व्यवस्था की है.

यह फ्लाइट 14 अप्रैल की देर रात दिल्‍ली से रवाना होगी, हालांकि इसके लिए इन्हें 13 अप्रैल तक दिल्ली पहुंचना होगा. वहीं, इंदौर से इन्हें कर्फ्यू पास नहीं मिल पा रहा है. अफसर भी मदद इसलिए नहीं कर पा रहे हैं, क्योंकि कोरोना को लेकर इंदौर हाई रिस्क पर है. जिले की सभी सीमाएं सील हैं. आईजी ने सीमाओं पर गाड़ियां दिखाईं देने पर उन्हें जब्त करने आदेश दे रखे हैं. ऐसे में इंदौर से दोनों विदेशी युवतियों का बाहर निकल पाना बहुत मुश्किल लग रहा है.

16 मार्च को दोनों पहुंची थीं इंदौर



विदेशी युवतियों के मुताबिक वे 16 मार्च को चोरल आश्रम में योग सीखने पहुंची थीं. इसी बीच 25 मार्च से लॉकडाउन हो गया. इसके बाद ईमेल कर उन्होंने दूतावास से मदद मांगी. अधिकारियों से लगातार चर्चा के बाद उनके लिए 14 अप्रैल को स्‍पेशल फ्लाइट की व्यवस्था हो पाई. अब 14 अप्रैल की देर रात 02.55 बजे विमान रवाना होगा, जिसमें यूरोपियन यूनियन से जुड़े देशों के कई लोग सवार होंगे. इन्हें पहले एम्स्टरडम और वहां से उनके देशों तक ले जाएगा.
कर्फ्यू पास न मिलने से बढ़ीं मुश्किलें

जर्मनी और नीदरलैंड से योग सीखने चोरल के सत्यधारा योग लाइफ आश्रम में आई मार्गरिटा रिंगल और सोफिया वान साबेन लॉकडाउन में फंस गई. देश वापसी के लिए उनके दूतावास ने दिल्ली से विशेष विमान  व्यवस्था कर दी है. लेकिन प्रशासन से कर्फ्यू का ई-पास नहीं मिलने से वे यहां से दिल्ली नहीं जा पा रहीं. यदि 13 अप्रैल तक वे दिल्ली नहीं पहुंचीं, तो विमान उन्हें लिए बगैर एम्स्टरडम, नीदरलैंड चला जाएगा. इस स्थिति से निपटने के लिए दोनों महिलाओं के साथ आश्रम प्रबंधन भी कोशिशें कर रहा है.

दिल्ली पहुंचने में सड़क मार्ग से लगेंगे 16 घंटे

विदेशी युवतियों का कहना है कि दिल्ली तक जाने के लिए हम लगातार इंदौर और भोपाल के अफसरों के संपर्क में हैं, लेकिन हमें ई-पास नहीं मिल पा रहा है. जब ऑनलाइन पास नहीं मिला, तो हेल्पलाइन नंबर पर कोशिश की. हेल्‍पलाइन नंबर काम नहीं कर रहा है. सड़क मार्ग से दिल्ली पहुंचने में हमें 16 घंटे लगेंगे, यदि आज आश्रम से नहीं निकले तो बहुत मुश्किल हो जाएगी. वहीं, आश्रम के पंडित राधेश्याम मिश्रा ने बताया कि वह हरसंभव प्रयास कर रहे हैं. गाड़ी, ड्राइवर और अनुवादक भी तैयार हैं, लेकिन इंदौर पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी भोपाल से इजाजत मिलने की बात कह रहे हैं.

युवतियों का हो चुका है कोरोना टेस्ट

चोरल के जिस सत्यधारा योग लाइफ आश्रम में ये युवतियां योग सीख रहीं थी, उसको पुलिस ने सील कर दिया है. आश्रम ​संचालक पर जानकारी छुपाने का आरोप हैं. हालांकि, दोनों महिलाओं को जांच करा ली गई है और रिपोर्ट निगेटिव आई है. आश्रम के संचालक डॉ. राधेश्याम मिश्रा उज्जैन के रहने वाले हैं, उन पर जानकारी छुपाने के मामले में कार्रवाई की गई है. दोनों विदेशी महिलाएं यहां योगा सीख रही थीं, लेकिन पुलिस को इसकी जानकारी नहीं दी गई थी.

यह भी पढ़ें:
COVID-19 Update: मध्य प्रदेश में अब तक 44 की मौत, कोरोना मरीजों का आंकड़ा पहुंचा 578
कमलनाथ का शिवराज पर वार, कहा- बिना स्वास्थ्य मंत्री के चल रही एमपी सरकार
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज