उज्जैन में अज्ञात बदमाशों ने पेट्रोल छिड़ककर बसों में लगायी आग! 7 बसें नष्ट
Ujjain News in Hindi

उज्जैन में अज्ञात बदमाशों ने पेट्रोल छिड़ककर बसों में लगायी आग! 7 बसें नष्ट
उज्जैन बस स्टैंड पर ७ बसें आग में जलकर नष्ट

दमकल विभाग (fire brigade) की मानें तो किसी अज्ञात बदमाश ने इन गाड़ियों में आग (fire) लगाई है. साजिशपूर्वक बसों में पेट्रोल छिड़ककर आग लगाई गई है.

  • Share this:
उज्जैन. उज्जैन (UJJAIN) के नानाखेड़ा बस स्टैंड में खड़ी बसों (bus) में आज अल सुबह भीषण आग (fire) लग गयी. आशंका है कि किसी ने आग लगायी है. इसकी चपेट में आकर 7 बसें नष्ट हो गयीं. आग इतनी भीषण थी कि फायर ब्रिगेड (fire brigade) की 8 गाड़ियां बुलाना पड़ीं. हालांकि तब तक नुक़सान हो चुका था.

लॉक डाउन के कारण अभी बसों की आवाजाही बंद है.उज्जैन के नानाखेड़ा बस स्टैंड से चलने वाली इंटर स्टेट बसें करीब ढाई महीने से बंद खड़ी हैं. ऐसी आशंका है कि आज अल सुबह किसी अज्ञात बदमाश ने इन बसों में आग लगा दी. आग लगते ही तेजी से उसने बसों को अपनी चपेट में ले लिया. देखते ही देखते कई बसें इसकी चपेट में आ गयीं. पूरा आसमान लपटों और धुएं से भर गया. कुछ ही पल में बसें खाक हो गयीं. सिर्फ ढांचा खड़ा रह गया.

फायर ब्रिगेड की 8 गाड़ियां
आग की सूचना पर फौरन फायर ब्रिगेड पहुंची. लेकिन आग इतनी भीषण थी कि वो एक या दो टैंकर पानी से काबू में नहीं आयी. कुल 8 गाड़ियां बुलायी गयीं तब कहीं जाकर आग शांत हुई. लेकिन तब तक तो काफी नुकसान हो चुका था.दमकल विभाग की मानें तो किसी अज्ञात बदमाश ने इन गाड़ियों में आग लगाई है. साजिशपूर्वक बसों में पेट्रोल छिड़ककर आग लगाई गई है. मामले का खुलासा पुलिस जांच के बाद होगा.
आगजनी की आशंका


उज्जैन में रात में हल्की-फुल्की बारिश हुई थी. आग बुझाने आए फायर ब्रिगेड कर्मियों का कहना है अगर बारिश के कारण शॉर्ट सर्किट हुआ होता तो एक बस में आग लगती. लेकिन जिस तरह से एक साथ बसें जली हैं उससे स्पष्ट लगता है कि यह आग लगाई गई है.यह भी जांच का विषय है कि घटना के समय मौके पर सुरक्षाकर्मी या पुलिस जवान मौजूद नहीं थे. बस स्टैंड से नानाखेड़ा थाना मात्र 100 कदम की दूरी पर है.फिलहाल नानाखेड़ा थाना पुलिस ने मौके पर पहुंचकर मामला जांच में लिया है.

ये भी पढ़ें-

पहली बार Whatsapp पर Video Call के जरिेए जलसंकट पर सुनवाई करेगा सूचना आयोग

जबलपुर में बोले BJP अध्यक्ष- कमलनाथ छिंदवाड़ा की सोचते हैं, पब्लिक लीडर नहीं
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज