ABVP ने बीच सड़क पर किया हंगामा, कोटा-उज्जैन मार्ग किया जाम

शनिवार को अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद और एनएसयूआई के झगड़े में एबीवीपी के तीन कार्यकर्ता घायल हो गए थे, इस मामले में एनएसयूआई के कार्यकर्ताओं के खिलाफ मामला दर्ज करने की मांग को लेकर एबीवीपी ने चक्का जाम कर हंगामा किया. संगठन के कार्यकर्ताओं ने चौराहे पर अपने वाहन खड़े कर दिए और आवागमन को प्रभावित किया.

Anand | News18 Madhya Pradesh
Updated: August 12, 2018, 11:22 AM IST
ABVP ने बीच सड़क पर किया हंगामा, कोटा-उज्जैन मार्ग किया जाम
एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने हाईवे पर वाहन खड़े कर लगाया जाम
Anand | News18 Madhya Pradesh
Updated: August 12, 2018, 11:22 AM IST
उज्जैन में एनएसयूआई और एबीवीपी के कार्यकर्ताओं में हुए झगड़े के बाद अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं ने सड़कों पर जमकर उत्तपात मचाया. एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने उज्जैन से कोटा की ओर जाने वाले मार्ग पर चक्का जाम कर बंद कर दिया. कार्यकर्ताओं ने अराजकता फैलाते हुए सरकारी संपत्ति को भी नुकसान पहुंचाया. कार्यकर्ताओं ने चामुंडा माता सर्किल पर लगे सांकेतकों सहित रोड डिवाइडर को भी उखाड़कर सड़क पर रख दिया.

शनिवार को अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद और एनएसयूआई के झगड़े में एबीवीपी के तीन कार्यकर्ता घायल हो गए थे, इस मामले में एनएसयूआई के कार्यकर्ताओं के खिलाफ मामला दर्ज करने की मांग को लेकर एबीवीपी ने चक्का जाम कर हंगामा किया. संगठन के कार्यकर्ताओं ने चौराहे पर अपने वाहन खड़े कर दिए और आवागमन को प्रभावित किया. उनकी मांग थी कि दोपहर में माधव साइंस कॉलेज में हुई मारपीट पर प्राणघातक हमले का केस दर्ज किया जाए और आरोपियों को तत्काल गिरफ्तार करें.

गिरफ्तारी की मांग ने कार्यकर्ताओं ने जमकर हंगामा किया और देर रात तक उत्पात मचाते रहे, लेकिन उन्हें रोकने वाला कोई नहीं था. दरअसल, सत्ता पक्ष के सहयोगी संगठन एबीवीपी के कार्यकर्ताओं ने सड़कों पर लगे डिवाइडर, संकेतक सहित अन्य यातायात लाइट्स को नुकसाल पहुंचाया. सूचना के बाद एएसपी नीरज पांडे, सीएसपी हेमलता अग्रवाल मौके पर पहुंचे. आश्वासन के बाद कार्यकर्ताओं ने चक्काजाम समाप्त किया. पुलिस ने विवाद के बाद एनएसयूआई के कार्यकर्ताओं के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है, लेकिन एबीवीपी कार्यकर्ताओं द्वारा फैलाई गई अराजकता पर कौन और कब कार्रवाई करेगा.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर