लाइव टीवी

बाबा महाकाल को भी धोख़ा दे रहे हैं मिलावटखोर, अभिषेक के दूध में मिलावट- 8 दुकानों के सैंपल में मिला पानी
Ujjain News in Hindi

Anand Nigam | News18 Madhya Pradesh
Updated: September 18, 2019, 11:50 AM IST
बाबा महाकाल को भी धोख़ा दे रहे हैं मिलावटखोर, अभिषेक के दूध में मिलावट- 8 दुकानों के सैंपल में मिला पानी
महाकाल मंदिर के बाहर दुकानों में दूध में मिलावट

शुद्ध दूध में क्रीम की मात्रा 4.5 प्रतिशत और एसएनएफ यानी पावडर की मात्रा 8.5 प्रतिशत तक होना चाहिए. लेकिन लिए गए दूध के सेंपल में क्रीम की मात्रा एक फीसदी से भी कम आई है. पावडर मानक प्रतिशत का आधा फीसदी ही मिला है

  • Share this:
उज्जैन. उज्जैन(UJJAIN) का महाकाल मंदिर (MAHAKAL TEMPLE)भी मिलावटखोरों से नहीं बच पाया. यहां महाकाल के अभिषेक में मिलावटी दूध (Adulteration of milk) इस्तेमाल किया जा रहा है. ये दूध मंदिर के बाहर बनी उन दुकानों से बेचा जा रहा है जो मंदिर समिति ने किराए पर दे रखी हैं. दूध में क्रीम और पावडर ना के बराबर है और पानी-ही-पानी है.ये दूध भी 100 रुपए लीटर के भाव पर बेचा जा रहा है.

भगवान से भी धोख़ा
अगर ठगी और मिलावट का खुला खेल देखना है तो महाकालेश्वर मंदिर के बाहर देखा जा सकता है. श्रद्धा के नाम पर लोगों की आस्था से खिलवाड़ और धोख़ा दिया जा रहा है.अभिषेक के लिए जो दूध श्रद्धालुओं को बेचा जा रहा है उसमें न तो क्रीम है न पावडर. दूध बिलकुल पनीला दिखता है. ये दूध मंदिर के बाहर बनी दुकानों से बेचा जा रहा है. दूध का ताज़ा भाव 100 रुपए लीटर है. अभिषेक के दूध में मिलावट कर श्रद्धालुओं के साथ-साथ भगवान से भी धोख़ा किया जा रहा है.
8 सेंपल अमानक

31 अगस्त को खाद्य एवं औषधि विभाग ने महाकालेश्वर मंदिर के बाहर पूजन-सामग्री की आठ दुकानों- देवकृपा, ॐ पुष्प भंडार,साक्षी भंडार, मां पुष्प भण्डार, मां लक्ष्मी दूध भंडार, श्री नागेश्वर दूध भंडार, जय श्री दूध भंडार,विक्की दूध भंडार से दूध के नमूने लिए थे. ये सभी दुकानें मंदिर प्रबंध समिति और माधव सेवा न्यास ने किराए पर अलॉट की हैं.इन आठों दुकानों से लिए गए दूध के नमूने की रिपोर्ट अमानक पायी गयी.

अभिषेक के लिए बेचे जा रहे दूध में क्रीम और पावडर ना के बराबर हैंं.


दूध में पानी-ही-पानीफूड इंस्पेक्टर शैलेश गुप्ता के अनुसार शुद्ध दूध में क्रीम की मात्रा 4.5 प्रतिशत और एसएनएफ यानी पावडर की मात्रा 8.5 प्रतिशत तक होना चाहिए. लेकिन लिए गए दूध के सेंपल में क्रीम की मात्रा एक फीसदी से भी कम आई है. पावडर मानक प्रतिशत का आधा फीसदी ही मिला है. यानी दूध में क्रीम और पावडर न के बराबर और पानी की मात्रा ज्यादा है. इस हिसाब से देखा जाए तो महाकाल मंदिर में शिवलिंग के अभिषेक के लिए बाहरी दुकानों पर बेचे जाने वाले इस दूध से श्रद्धालुओं कि गहरी आस्था और जेब पर खुला डाका पड़ रहा है.दिन भर में हजारों लीटर मिलावटी दूध बेचा जा रहा है.
दुकानदारों को नोटिस
फूड इंस्पेक्टर बी एस देवलिया के अनुसार, सैंपल के अमानक आने के बाद फूड विभाग महाकाल मंदिर प्रबंध समिति को पत्र लिख रही है. ताकि समिति अपने स्तर पर सुधार करवा सके.साथ ही उन सभी दुकानदारों को नोटिस जारी किया जाएगा जिनके सैंपल अमानक मिले. इन्हें लाइसेंस लेकर कारोबार करने और शुद्ध दूध बेचने की चेतावनी दी जाएगी.

ये भी पढ़ें-खंडवा में हिंदू-मुसलमान मिलकर बना रहे हैं गायों का अस्पताल

दो नाव के सहारे 6 गांव के लोगों की ज़िंदगी, बाढ़ और रात में ये रास्ता भी बंद

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए उज्जैन से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 18, 2019, 11:50 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर