सांसद को देख आग बबूला हुई मृत कार्यकर्ता की पत्नी, कहा- जब आना था तब नहीं आए, अब क्या लेने आए हो

उज्जैन में सांसद अनिल फिरोजिया अपने कार्यकर्ता की मौत के बाद परिजनों से मिलने पहुंचे थे.

उज्जैन में सांसद अनिल फिरोजिया अपने कार्यकर्ता की मौत के बाद परिजनों से मिलने पहुंचे थे.

उज्जैन में माधव नगर अस्पताल के बाहर अजीबो-गरीब वाकया हुआ. यहां कल बीजेपी नेता की मौत हो गई. परिजनों को सांत्वना देने सांसद अनिल फिरोजिया पहुंचे. उन्हें देखते ही मृतक की पत्नी आगबबूला हो गई.

  • Last Updated: April 9, 2021, 3:48 PM IST
  • Share this:
उज्जैन. उज्जैन में माधव नगर अस्पताल के बाहर एक अजीबो-गरीब वाकया हुआ. बीजेपी नेता की मौत के बाद के बाद पार्टी के ही सांसद अनिल फिरोजिया परिजनों से मिलने पुहंचे. लेकिन, परिजनों ने मिलना तो दूर, उन्हें देखना तक मुनासिब नहीं समझा. मृतक की पत्नी और बहन ने सांसद को इतनी खरीखोटी सुनाई कि उनकी हिम्मत ही नहीं हुई उनसे बात करने की.

दरअसल, मृतक जितेंद्र शीरे की कल माधव नगर अस्पताल में मौत हो गई. बताया जाता है कि उसकी मौत ऑक्सीजन की कमी की वजह से हुई.  इसके बाद बीजेपी के कार्यकर्ताओं ने वहां जमकर तोड़फोड़ की. इधर जैसे ही सांसद अनिल फिरोजिया जितेंद्र के परिजनों से मिलने पहुंचे तो मृतक की पत्नी और  बहन ने उन्हें जमकर खरीखोटी सुनाई. इसके बाद वे परिवारवालों से बिना मिले ही चल दिए.

सांसद को इस तरह सुनाई खरी-खोटी

इस घटना का वीडियो भी वायरल हो गया. वीडियो दिखाई दे रहा है कि सांसद अनिल फिरोजिया की हिम्मत नहीं हुई कि मृतक की पत्नी और बहन के पास चले जाएं. दो मिनट सुनने के बाद सांसद उलटे पैर वहां से चल दिए. पत्नी ने सांसद से कहा- आपके पास और आपके एक-एक कार्यकर्ता के पास मैसेज गया था. बताओ आया था कि नहीं आया था. आप लोगों के लिए वो हमेशा खड़ा रहता था. उस वक्त नहीं आए तो अब क्यों आए हो. आप चले जाओं. वहीं, बहन ने सांसद से कहा- आप लोगों के पीछे मेरा भाई गया है.
Youtube Video

बीजेपी ने की तोड़फोड़, कांग्रेस ने दिया धरना

गौरतलब है कि बीजेपी नेता की मौत के बाद कल कार्यकर्ताओं ने न सिर्फ अस्पताल में तोड़फोड़ की थी, बल्कि पुलिस अधिकारियों के साथ भी धक्का-मुक्की की थी. कार्यकर्ता अपर कलेक्टर सुजान सिंह रावत के साथ मारपीट करने पर उतर आए थे. इस मामले को लेकर माधव नगर थाने में  बीजेपी के कार्यकर्ता पर शासकीय  कार्य में बाधा डालने और शासकीय संम्पति को 188 नुकसान  पंहुचाने में एफआईआर की गई है. दूसरी ओर, अस्पताल में ही 5 मरीजों की मौत की सूचना के बाद युवक कांग्रेस के नेता और कार्यकर्ताओं ने भी अस्पताल के बाहर बैठकर धरना दिया. इनके खिलाफ धारा 188 में मामला दर्ज किया गया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज