Home /News /madhya-pradesh /

महाकाल के दरबार में सुबह से मनाई जायेगी दिवाली, होगी भस्म आरती, लगेगा 56 भोग

महाकाल के दरबार में सुबह से मनाई जायेगी दिवाली, होगी भस्म आरती, लगेगा 56 भोग

महाकाल के दरबार में दिवाली पूजा की विशेष तैयारी की जा रही है. (File)

महाकाल के दरबार में दिवाली पूजा की विशेष तैयारी की जा रही है. (File)

Madhya Pradesh Ujjain News: मध्य प्रदेश के उज्जैन के प्रसिद्ध महाकाल मंदिर में सबसे पहले त्योहार मनाए जाने की परंपरा है. इस साल तिथि का फेर के कारण गुरुवार को रूप चौदस के साथ ही दीपावली का त्योहार भी मनाया जायेगा. गुरुवार को सुबह से दिवाली पर्व की पूजा पाठ शुरू कर दी जाएगी. भगवान को छप्पन भोग लगाया जाएगा. इसके बाद शाम को दीपोत्सव मनाया जाएगा.

अधिक पढ़ें ...

उज्जैन. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में दीपोत्सव का पर्व सबसे पहले उज्जैन (Ujjain) में राजा महाकाल (Mahakal) के आंगन में मनाया जाता है. इस बार चतुर्दशी और अमावस्या एक ही दिन होने से एक दिन पहले मनाई जानी वाली राजा महाकाल की दिवाली (Diwali) अब गुरुवार को सुबह 56 भोग के साथ मनेगी. वहीं प्रजा शाम को दीपावली उत्सव का आंनद लेगी. मान्यता है की कोई भी पर्व या त्यौहार हो महाकाल मंदिर में सबसे पहले मनाया जाता है. रूप चौदस के दिन होने वाला भगवान को अभ्यंग स्रान अब गुरुवार को सुबह भस्म आरती के समय होगा. साथ ही इस दौरान भगवान को उपटन भी लगेगा.

महाकाल मंदिर के पुजारी महेश शर्मा ने बताया की महाकाल मंदिर में ग्वालियर पंचांग से तिथि का निर्धारण किया जाता है. इसके अनुसार बुधवार दोपहर तक तेरस रहेगी. इस कारण से रूप चौदस और दीपावली का पर्व एक साथ गुरुवार को मनाया जाएगा. इसमें भस्म आरती के दौरान अन्नकूट का महाभोग लगेगा. गुरुवार को सुबह कार्तिक कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी और शाम को अमावस्या होने से महाकाल मंदिर में गुरुवार को सुबह ही दीपावली का पर्व होगा. सुबह भस्म आरती के दौरान रूप चौदस पर भगवान महाकाल को अभ्यंग स्नान करवाया जाएगा.

निभाई जाएगी यह परंपरा
महेश शर्मा ने बताया कि पुजारी परिवार की महिलाएं भगवान को उबटन लगाएंगी. इस दौरान हल्दी,चंदन, इत्र, सुगंधित द्रव्य से बाबा महाकाल को स्रान कराएंगे. इसके साथ ही बाबा महाकाल को गर्म जल से स्नान प्रारंभ होगा. वहीं भस्म आरती के दौरान राजाधिराज के आंगन में अतिशबाजी कर फूलझड़ी जलाकर दीपावली उत्सव मनाया जाएगा. धन तेरस पर महाकाल के आंगन में दीपावली बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक महाकालेश्वर मंदिर में दीपावली का पर्व एक दिन पहले चौदस के दिन मनाने की परम्परा है. लेकिन दीपोउत्सव के दो दिन पहले ही महाकाल के आंगन में पुजारी परिवार ने महाकाल के साथ दीपावली मनाकर दीपावली की शुरुआत की. मंगलवार को धन तेरस पर संध्या आरती के दौरान पुजारी और पुरोहितों ने मिलकर भगवान के साथ गर्भ गृह में फुलझड़िया जलाकर दीपावली मनाई.

Tags: Diwali 2021, Madhya pradesh news, Mahakal temple, Ujjain news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर