आईपीएस बेटा ढाई महीने बाद पहुंचा आश्रम तो लिपटकर रो पड़ी मां

उज्जैन के पास एक आश्रम में रहने को मजबूर हुई मां को ले जाने के लिए जब उसका आईपीएस बेटा ढाई माह बाद आश्रम पहुंचा तो मां लिपट कर रो पड़ी. बेटे की भी आंखें नम हो गईं.

News18 Madhya Pradesh
Updated: July 25, 2019, 5:16 PM IST
आईपीएस बेटा ढाई महीने बाद पहुंचा आश्रम तो लिपटकर रो पड़ी मां
प्रतीकात्मक तस्वीर
News18 Madhya Pradesh
Updated: July 25, 2019, 5:16 PM IST
दिल्ली की एक महिला ढाई महीने से अंकित ग्राम सेवाधाम आश्रम में रह रही थी. उज्जैन से 14 किमी दूर बने इस आश्रम में बुधवार को एक व्यक्ति के मिलने पहुंचने के बाद उसके आंसू रोके नहीं रुक रहे थे. पता चला कि वह उसका बेटा है, जो गुजरात कैडर का आईपीएस अधिकारी है, वह बेटे से लिपटकर रो पड़ी. मां ने जब पूछा- मुझे छोड़कर क्यों चला गया था? तो आईपीएस बेटा कोई जवाब नहीं दे पाया. सिर्फ उसकी आंखें नम हो गईं. बेटे ने फिर इसके बाद जिंदगी भर साथ रहने का वादा दिया.

तीन माह पहले आए थे महाकाल के दर्शन के लिए 

तीन महीने पहले दिल्ली की रहने वाली तारा जोशी अपने बेटे अविनाश जोशी के साथ महाकाल के दर्शन के लिए उज्जैन आई थीं. दोनों यहां एक होटल में रुके थे. कुछ दिन के बाद अविनाश ने जरूरी काम बताकर जाने की इजाजत मांगी तो मां तारा जोशी ने जाने की इजाजत दे दी. अविनाश के जाने के बाद तारा जोशी एक सप्ताह होटल में रुकीं. पैसा खत्म होने पर होटल वाले ने कलेक्टर शशांक मिश्र को इसकी सूचना दी. कलेक्टर ने उन्हें वन स्टॉप सेंटर भिजवा दिया. वहां से सेवाधाम आश्रम के संस्थापक सुधीरभाई गोयल को इसकी जानकारी मिली. जिला प्रशासन के माध्यम से वे तारादेवी को अपने आश्रम में ले आए.

गुजरात कैडर के आईपीएस अधिकारी हैं अविनाश जोशी 

आश्रम से जुड़े लोगों ने जब मोबाइल नंबर लेकर अविनाश से संपर्क किया तो उन्होंने काम को लेकर अपनी मजबूरी बताते हुए कुछ महीने आने से असमर्थता जता दी. आखिर ढाई महीने बाद अविनाश पहुंचे और मां को साथ ले गए. तारादेवी से पता चला कि अविनाश की शादी नहीं हुई है, वह सस्पेंड हो गए थे, इस वजह से परेशान थे.अविनाश जोशी गुजरात कैडर के 2004 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं. उन्होंने कहा कि वे मां से बहुत प्यार करते हैं लेकिन कुछ व्यक्तिगत मजबूरियों के चलते मां को यहां छोड़ना पड़ा.

ये भी पढ़ें- देखें बैतूल का भूतों का मेला, यहां आते हैं विदेशी पर्यटक भी

11 साल बाद पूर्व MLA को मिला एक साल का कारावास...
First published: July 25, 2019, 2:28 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...