महाकाल मंदिर की व्यवस्था बिगड़ी, श्रद्धालुओं ने की जमकर नारेबाजी 

सोमवार से शनिवार तक सुबह 11 बजे से शाम 4 बजे तक दूर-दूर से आने वाले श्रद्धालुओं को दर्शन करने का मौका देने के नए नियम के लागू होने के बाद गुरुवार को पहले ही दिन मंदिर की व्यवस्था चरमरा गई और श्रद्धालुओं ने परिसर में ही नारेबाजी की.

News18 Madhya Pradesh
Updated: June 20, 2019, 6:23 PM IST
News18 Madhya Pradesh
Updated: June 20, 2019, 6:23 PM IST
महाकाल मंदिर में गुरुवार को फिर श्रद्धालु परेशान हुए. परेशानी इतनी बढ़ गई कि श्रद्धालुओं ने मंदिर परिसर में ही जमकर नारेबाजी शुरू कर दी. हालात तब और बिगड़ गए जब कई श्रद्धालु रेलिंग को पार कर जबरन घुसने का प्रयास करने लगे. इस मौके पर न तो महाकाल मंदिर के प्रशासक मौजूद थे और न ही कोई और अन्य अधिकारी.  देश के 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक उज्जैन के महाकाल मंदिर में जब भीड़ बढ़ जाती है तो गर्भगृह दर्शन बंद कर दिए जाते हैं, लेकिन बुधवार को हुई मंदिर समिति की बैठक में निर्णय लिया गया था कि अब रोजाना  सोमवार से शनिवार तक सुबह 11 बजे से शाम 4 बजे तक दूर-दूर से आने वाले श्रद्धालुओं को दर्शन करने का मौका दिया जाएगा.



आज ही से लागू हुआ है नया नियम 

यह व्यवस्था गुरुवार की सुबह 11 बजे से शुरू हुई लेकिन पहले ही दिन इतनी चरमरा गई कि श्रद्धालुओं ने महाकाल मंदिर में जमकर नारेबाजी की. दरअसल आने वाले श्रद्धालु सुबह से ही लाइन में लगे थे और करीब 4 घंटे लाइन में लगने के बावजूद दर्शन नहीं कर पाए तो श्रद्धालुओं की सब्र का बांध टूट गया और उन्होंने नारेबाजी शुरू कर दी. श्रद्धालुओं का आरोप था कि 4 से 5 घंटे के बीच लाइन में लगे हैं.  वीआईपी श्रद्धालु 250 की रसीद कटवा कर सीधे अंदर जाते दिखे. मंदिर की व्यवस्था ठीक से नहीं कर पाने को लेकर भी श्रद्धालुओं ने जमकर हंगामा मचाया. महाकाल मंदिर टनल के अंदर भी घंटों श्रद्धालु लाइन में खड़े रहे और अपनी बारी का इंतजार करते रहे. करीब 2 घंटे तक लाइन में खड़े रहने के बावजूद जब लाइन नहीं चली तो श्रद्धालुओं में आक्रोश देखने को मिला. 

(रिपोर्ट- आनंद)

ये भी पढ़ें-
VIDEO : महाकाल के दर पर फिर मारपीट, इस बार श्रद्धालुओं ने गार्ड को पीटा

महाकाल के दरबार में धांधली, भस्म आरती के लिए नियम विरुद्ध दे दी इजाजत
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...