• Home
  • »
  • News
  • »
  • madhya-pradesh
  • »
  • सावन का दूसरा सोमवार: भांग-चंदन से सजे महाकाल, आप भी कीजिए अलौकिक दर्शन

सावन का दूसरा सोमवार: भांग-चंदन से सजे महाकाल, आप भी कीजिए अलौकिक दर्शन

दूसरे सावन सोमवार के दिन उज्जैन में बाबा महाकाल का अलौकिक श्रृंगार किया गया. बाबा की भस्मार्ती के बाद पट खोल दिए गए.

दूसरे सावन सोमवार के दिन उज्जैन में बाबा महाकाल का अलौकिक श्रृंगार किया गया. बाबा की भस्मार्ती के बाद पट खोल दिए गए.

Madhya Pradesh News: सावन महीने के दूसरे सोमवार को उज्जैन में सैकड़ों लोगों ने भगवान महाकाल के दर्शन किए. भस्मार्ती के बाद बाबा महाकाल को भांग, चंदन, फल, वस्र आदि से सजाया गया. लोगों ने सुख-समृद्धि के साथ-साथ कोरोना के खात्मे का आशीर्वाद मांगा.

  • Share this:

उज्जैन. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh News) के उज्जैन में सावन के दूसरे सोमवार को भस्मार्ती के बाद बाबा महाकाल का भांग, चंदन, फल, वस्र आदि से अलौकिक श्रृंगार किया गया. सैकड़ों श्रद्धालुओं ने बाबा महाकाल के दर्शन किए. लोगों ने सुख-समृद्धि के साथ-साथ कोरोना के खात्मे का आशीर्वाद मांगा. लगातार हो रही बारिश के बाद भी  श्रद्धालुओं का तांता सुबह 4  बजे से लगना शुरू हो गया. द्वार खुलते ही बाबा का धाम जयकारों से गूंज उठा. शाम को  बाबा लाव लश्कर के साथ मंदिर प्रांगण से पालकी में सवार होकर नगर भ्रमण पर निकलेंगे और प्रजा का हाल जानेंगे.

आशीष  पुजारी ने आज के दिन का विशेष महत्व बताया. उन्होंने कहा कि सावन के दूसरे सोमवार पर बाबा की पूजन-आरती की गई. दूसरा  सोमवार होने के चलते भगवान महाकाल को भस्म अर्पण की गई. आज बाबा का नियम अनुसार विशेष आरती, पूजन व पंचामृत अभिषेक किया गया. भांग, फल, वस्त्र चंदन से श्रृंगारित बाबा ने भक्तों को दर्शन दिए. सावन माह बाबा का प्रिय माह है. शास्त्रों में है कि भगवान महाकाल सच्चे मन से मनोकामना करने वाले कि हर मनोकामन पूरी करते हैं.

महाकाल की सवार में लोग नहीं होंगे शामिल

गौरतलब है कि श्रद्धालु सोमवार को सुबह 5 बजे से 1 बजे तक व शाम 7 से 9 बजे तक  ही दर्शन कर पाएंगे. 251 रुपए वाला दर्शन का काउंटर भी बंद रहेगा. प्रत्येक वर्ष की तरह इस साल भी बाबा महाकाल शासकीय सलामी के बाद पालकी में सवार होकर ठीक शाम 4 बजे मंदिर प्रांगण से लाव लश्कर के साथ निकलेंगे. चूंकि, कोरोना काल है इसलिए पिछले साल की तरह इस साल भी श्राद्धलुओ की सुरक्षा के चलते सवारी मार्ग लोगों के लिए बंद हैं. सवारी मंदिर के एप और सोशल मीडिया पर लाइव रहेगी. इसे घर बैठे http://www.mahakaleshwar.nic.in वर्चुअल देख सकते हैं.

सवारी मंदिर के मुख्य द्वार से बड़ा गणेश होती हुई हरसिद्धि की पाल नरसिंह घाट से क्षिप्रा नदी पहुंचेगी. यहां पूजन के बाद रामानुजकोट आश्रम, हरिद्धि द्वार होते हुए शाम 6 बजे तक दौबारा मंदिर लौटेगि. सवारी मार्ग को खास CCTV फूटेज, ड्रोन से कवर किया जाएगा. सवारी में पुजारी, पंडे व कहार ही शामिल होंगे, जिन्हें सामाजिक दूरी व मास्क का विशेष ध्यान रखना होगा.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज