• Home
  • »
  • News
  • »
  • madhya-pradesh
  • »
  • Amazing: किसी 3-स्टार होटल से कम नहीं है MP का ये स्कूल, जानिए एंट्री करते ही कैसी होती है फीलिंग

Amazing: किसी 3-स्टार होटल से कम नहीं है MP का ये स्कूल, जानिए एंट्री करते ही कैसी होती है फीलिंग

उज्जैन का सरकारी नवीन स्कूल किसी बड़े होटल से कम नहीं. यहां बच्चों से जुड़ी हर सुविधा का ध्यान रखा गया है.

उज्जैन का सरकारी नवीन स्कूल किसी बड़े होटल से कम नहीं. यहां बच्चों से जुड़ी हर सुविधा का ध्यान रखा गया है.

Madhya Pradesh: उज्जैन का नवीन सरकारी स्कूल 3-स्टार होटल की तर्ज पर बनाया गया है. यहां प्रवेश करते ही मन को अच्छा फील होता है. इसमें बच्चों के लिए हर सुविधा का ध्यान रखा गया है. लैब से लेकर आरओ पानी की व्यवस्था की गई है. इस स्कूल में बच्चों के लिए 90 क्लास रूम हैं.

  • Share this:

उज्जैन. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के उज्जैन (Ujjain) का सरकारी नवीन स्कूल किसी 3-स्टार होटल से कम नहीं. प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने 22 सितंबर को इस स्कूल का वर्चुअल शुभारम्भ किया था. इसके बाद यहां प्राथमिक स्कूल लगाया जाने लगा. इस स्कूल में प्रवेश करते ही लगता है कि बच्चे किसी बड़े होटल में पढ़ाई कर रहे हैं.

महाकाल मंदिर क्षेत्र में बने इस स्कूल की लागत 30 करोड़ रुपये आई है. प्रदेश के पहले बहुमंजिला अत्याधुनिक स्मार्ट स्कूल भवन में 90 से ज्यादा क्लास रूम, मॉडर्न लैब, लाइब्रेरी, हॉस्टल, खेल मैदान, मैस-कैंटिन, स्टाफ रूम, आरओ वाटर, पढ़ाने के लिए आडियो-वीडियो फॉर्मेट की व्यवस्था है. यहां आग से बचने के भी जबरदस्त सुरक्षा इंतजाम है. पूरे कैंपस में सोलर एनर्जी का इंतजाम है.

हर चीज का रखा गया है ध्यान

गौरतलब है कि प्रदेश में खस्ताहाल हो चुके कई सरकारी स्कूलों की बिल्डिंगें अब गिरने की कगार पर हैं. इसके डर से कई पैरेंट्स अपने बच्चों को इन स्कूलों भेजने से भी डर रहे हैं. यही नहीं, कई स्कूल तो ऐसे हैं, जहां एक कमरे में दो-दो क्लास लग रही हैं. नवीन स्कूल के टीचर राजकुमार विश्वकर्मा ने बताया कि इससे पहले जिस स्कूल में हम पढ़ाते थे उस स्कूल और इस स्कूल में जमीन आसमान का अंतर है. यह स्कूल बहुत अच्छा बनाया गया है. इसमें हर चीज का ध्यान रखा गया है. जैसे क्लास रूम की साइज, ब्लैक बोर्ड, सहित सभी चीजें बहुत अच्छे से डिजाइन की गई हैं.

गजब का हुआ परिवर्तन

टीचर प्रेमलाल राठौर ने बताया कि इससे अब निजी स्कूल के विद्यार्थियों का रुझान भी सरकारी स्कूलों की तरफ बढ़ेगा. हम यहां परिवर्तन महसूस कर रहे हैं. 42 वर्ष की उम्र में पहली बार ऐसा स्कूल देखा जिसमें पढ़ाने में नई ऊर्जा मिल रही है. इसमें एक से बारहवीं क्लास तक का स्कूल लगेगा. यहां तीन स्कूलों को मिलाकर एक स्कूल बनाया गया है. इसमें फर्स्ट फ्लोर पर प्राइमरी, सेकंड फ्लोर पर मिडिल और थर्ड फ्लोर पर हायर सैकेंडरी स्कूल लगाया जाएगा. नई हाईटेक बिल्डिंग में सीसीटीवी कैमरे भी लगाए गए हैं. साथ ही,  एक बड़ा खेल मैदान भी तैयार किया जा रहा है. स्कूल में फिलहाल प्राथमिक क्लास लग रही है. जल्द ही दो अन्य स्कूल भी इसी स्कूल में समावेश होंगे. स्कूल में पढ़ने वाली छात्रा बताती है कि नए स्कूल में बहुत अच्छा लग रहा  है. यह सर्व सुविधा युक्त है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज