अपना शहर चुनें

States

उज्जैन: कोरोना टीका लगने के बाद नर्सों की बिगड़ी तबियत, ये लक्षण आए सामने

उज्जैन में वैक्सीनेशन के बाद बीमार हुईं नर्सों का इलाज जारी है.
उज्जैन में वैक्सीनेशन के बाद बीमार हुईं नर्सों का इलाज जारी है.

वैक्सीनेशन के बाद तीन स्टाफ नर्सों रानी, महिमा और सुमन बहरिया को तबीयत खराब होने की शिकायत के बाद उन्हें जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया. नर्सों की खबर लगते ही डॉक्टर और जिले के टीकाकरण अधिकारी पहुंचे और तीनों का चेकअप किया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 17, 2021, 12:59 PM IST
  • Share this:
उज्जैन. दुनिया के सबसे बड़े वैक्सीनेशन अभियान (Corona Vaccination) के तहत शनिवार को उज्जैन में भी 5 अलग-अलग सेंटरों पर इसकी शुरुआत हुई. लेकिन, वैक्सीनेशन को 24 घंटे भी नहीं बीते हैं कि टीके लगवाने वाली यहां की 3 स्टाफ नर्स को उल्टी, दस्त, बुखार, जी घबराना और सांस लेने में तकलीफ होने की शिकायत मिली है.

वैक्सीनेशन के बाद तीन स्टाफ नर्सों रानी, महिमा और सुमन बहरिया को तबीयत खराब होने की शिकायत के बाद उन्हें जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया. नर्सों की खबर लगते ही डॉक्टर और जिले के टीकाकरण अधिकारी पहुंचे और तीनों का चेकअप किया. जानकारी के मुताबिक, डॉक्टरों ने नर्सों को घर पर आराम करने की सलाह दी है.

एक नर्स की हालत ज्यादा खराब
बताया जाता है कि इन तीनो में रानी की हालत ज्यादा खराब है. उसे बुखार के अलावा सांस लेने में भी काफी दिक्कत हो रही है. बैतूल की रहने वाली रानी को कल टीका लगा था. उसके बाद आधे घंटे के ऑब्जर्वेशन पीरियड में कुछ नही हुआ तो वह ड्यूटी पर चली गई. उसने बताया कि दोपहर करीब 2 बजे बाद उसका जी घबराना शुरू हुआ और शाम होते होते सांस लेने में तकलीफ होने लगी. वहीं, महिमा ने भी बताया कि उसे लूज मोशन के साथ-साथ बुखार भी आ रहा है.
डॉक्टर बोले- सामान्य प्रक्रिया


इधर जिला टीकाकरण अधिकारी ने बताया कि ये सामान्य प्रक्रिया है. वैक्सीनेशन के बाद किसी को भी बुखार आ सकता है. फिर भी हम इन्हें ऑब्जरवेशन में रख रहे है. हमने इनका पूरा चेकअप कर लिया है. घबराने की कोई बात नहीं है.

फ्रंट लाइन कोरोना वॉरियर्स से हुई शुरुआत
वैक्सीनेशन की शुरुआत कल सबसे पहले फ्रंट लाइन कोरोना वॉरियर्स से हुई. मध्य प्रदेश में पहले फेज में 4 लाख 16 हजार लोगों को टीका लगाया जाएगा.इनमें से 3 लाख 31 हजार सरकारी क्षेत्र के स्वास्थ्य कर्मी हैं और बाकी निजी क्षेत्र के हैं. स्वास्थ्य मंत्री प्रभुराम चौधरी ने बताया कि कई लोग सवाल पूछ रहे हैं कि मंत्री और अधिकारी क्या सबसे पहले टीका लगवाएंगे. मैं सभी को बताना चाहता हूं कि ऐसा नहीं है. पहले फेज में सिर्फ फ्रंट लाइन वर्कर्स और सबसे ज्यादा रिस्क वाले लोगों को लगाया जाएगा. सबसे अंत में आम लोगों के साथ ही नेताओं, मंत्रियों और अधिकारियों को टीका लगाया जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज