पाकिस्तानी युवक को पुलिस ने छोड़ा, बेकरी मालिक की बेटी से की थी शादी

जब एम्बेसी में बात की गई तो पता चला की कैलाश सिंधी समाज से है और पाकिस्तान में अल्पसंख्यक समाज से आता है. उसके सारे दस्तावेजों की जांच की गई तो पता चला सब ठीक है. जिसके बाद कैलाश को छोड़ दिया गया है.

Anand Nigam | News18 Madhya Pradesh
Updated: January 18, 2019, 1:53 PM IST
Anand Nigam | News18 Madhya Pradesh
Updated: January 18, 2019, 1:53 PM IST
मध्य प्रदेश के उज्जैन में शादी के बाद प्रमाणपत्र लेने पहुंचे युवक को जेल भेजने के मामले पाकिस्तानी युवक को जेल से छोड़ दिया गया है. यहां जब एक नव विवाहित जोड़ा अपनी शादी का प्रमाण पत्र लेने पहुंचा तो लोगों ने उसे पुलिस थाने पहुंचा दिया था. युवक पर आरोप लगा था कि उसने लड़की के मां-बाप को धोखे में रखकर शादी की है. पुलिस ने जांच के बाद बताया कि युवक पाकिस्तान के जाफराबाद शहर का रहने वाला है और युवक के सभी पेपर सही हैं. युवक को पूछताछ के बाद छोड़ दिया गया है.

युवक का नाम कैलाश है, जो कराची का रहने वाला है. पिछले 6 साल से वीजा लेकर वह बडनगर में रह रहा था. कैलाश बडऩगर स्थित बेकरी पर काम करता है. इस दौरान उसे बेकरी मालिक की लड़की से प्यार हो गया और लड़की के परिजन शादी के लिए तैयार भी हो गए. शादी के दौरान युवती के माता-पिता व परिजन साथ थे. लेकिन कैलाश के परिवार से शादी में शामिल होने कोई नहीं आया था.

मंदिर में पूरी रीति-रिवाज से कैलाश व युवती ने शादी की. जिसके बाद दोनों समिति की ओर से दिया जाने वाले प्रमाण पत्र को लेने समिति के पास पहुंचे. यहां समिति के सदस्यों ने कैलाश के माता-पिता व अन्य परिजनों के बारे में पूछताछ की तो पता चला कि कैलाश पाकिस्तान के कराची शहर का रहने वाला है. जिसकी सूचना समिति के लोगों ने तुरंत महाकाल थाने को दी. जबकि युवती को उसके परिवार के सुपुर्द कर घर रवाना कर दिया गया.

पुलिस ने चिंतामन गणेश मंदिर पहुंचकर युवक को हिरासत में लिया और थाने में बिठाकर पूछताछ की तो कैलाश ने बताया कि वह पाकिस्तान के जाफरा बाद शहर का रहने वाला है. करीब 6 साल से बडऩगर में रहकर काम कर रहा है. दो साल में वीजा की अवधि समाप्त होने पर वह अवधि बढ़वाता रहा है. पुलिस ने डीएसबी शाखा, बडऩगर थाने से कैलाश के रिकॉर्ड चेक कराए तो सभी पेपर सही निकले. इसके अलावा जब एम्बेसी में बात की गई तो पता चला की कैलाश सिंधी समाज से है और पाकिस्तान में अल्पसंख्यक समाज से आता है. उसके सारे दस्तावेजों की जांच की गई तो पता चला सब ठीक है. जिसके बाद कैलाश को छोड़ दिया गया है.

ये भी पढ़ें- पाकिस्तानी युवक ने की बेकरी मालिक की बेटी से शादी, लोगों ने भिजवा दिया जेल

ये भी पढ़ें- चांदनी का जीवन हुआ रौशन, शादी के कार्ड पर की नेत्रदान की अपील

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास,सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
First published: January 18, 2019, 1:53 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...