लाइव टीवी

लाल टीका, चंदन का लेप, गले में आंकड़े की माला में दिखा प्रियंका गांधी का सॉफ्ट हिंदू अवतार

Jayshree Pingle | News18 Madhya Pradesh
Updated: May 15, 2019, 1:25 PM IST
लाल टीका, चंदन का लेप, गले में आंकड़े की माला में दिखा प्रियंका गांधी का सॉफ्ट हिंदू अवतार
कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने मध्य प्रदेश के उज्जैन में महाकाल के दर्शंन के बाद रैलियों में लाल टीका, चंदन का लेप, गले में आंकड़े की माला पहनकर सॉफ्ट हिंदुत्व वाली छवि को पेश किया.

  • Share this:
उज्जैन में बाबा भोलेनाथ का अभिषेक, माथे पर लाल टीका, चंदन का लेप और प्रसाद में मिली आंकड़े की माला, यह कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी का सॉफ्ट हिंदुत्व का चेहरा था. वे चिलचिलाती धूप में चट्ख लाल साड़ी में मध्यप्रदेश की खास तीन लोकसभा सीटों उज्जैन, रतलाम और इंदौर में रैलियां कर रही थीं. महाकाल में अभिषेक और मंत्र जाप के बाद जब वे रैली करने उज्जैन की सड़कों पर उतरीं तो वे साधुओं - महंतों की इस धार्मिक नगरी में बाहरी व्यक्ति बिल्कुल नहीं लग रही थीं.

89 फीसदी वोटर्स पर असर

प्रियंका का यह सॉफ्ट हिंदुत्व कांग्रेस के उस एजेंडे का हिस्सा था जो मध्यप्रदेश के 89 फीसदी वोटर्स को सीधे प्रभावित करता है. मध्यप्रदेश में चुनाव अंतिम दौर में हैं और यहां चुनावी लड़ाई का एक बड़ा मुद्दा हिंदुत्व है. भाजपा हार्ड हिंदुत्व के साथ प्रज्ञा ठाकुर के नाम पर बड़ा नैरेटिव खड़ा कर चुकी है तो कांग्रेस अब सॉफ्ट हिंदुत्व के सहारे अपनी ताकत को बटोरने में लगी है.

कांग्रेस का दिखावा

प्रियंका का उज्जैन आकर महाकाल की शरण में जाने की घटना से भाजपा भी सहज नहीं है. पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रियंका के इस अवतार पर सीधे हमला किया है. उन्होंने आरोप लगाया है कि झूठे लोग महाकाल के दर्शन कर वोट मांग रहे हैं. वे आगाह कर रहे हैं कि कांग्रेस हिंदुत्व के नाम पर दिखावा कर रही है.

कॉपीराइट की लड़ाई

दरअसल यह अंतिम दौर की लड़ाई इस बात पर भी आकर टिक गई है कि हिंदुत्व पर किस पार्टी का कॉपीराइट है. अब तक मध्यप्रदेश में इस पर भाजपा का कॉपीराइट चल रहा था लेकिन पिछले चुनाव से कांग्रेस ने भी इस पर एंट्री कर ली है. 2018 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मंदसौर से कांग्रेस का अभियान शुरू किया. उसके पहले वे पशुपतिनाथ के मंदिर में दर्शन करने पहुंचे थे.पॉलिटिकल प्लॉट हथिया लिया

अब इसी लाइन पर प्रियंका गांधी भी चल रही हैं. कांग्रेस की रैलियों में उनकी जनसभाओं में देवी- देवाताओं की प्रतिमा भेंट की जा रही है, टीके लगाए जा रहे हैं और चुनावी कामयाबी के लिए हाथों पर मन्नतों के धागे बांधे जा रहे हैं. एक तरह से कांग्रेस ने बीजेपी का ये पोलिटिकल प्लॉट चुरा लिया है. अगर मंच से रैलियों से कांग्रेस या भाजपा के बैनर- पोस्टर हटा लिए जाएं तो यह फर्क करना मुश्किल है कि यह कांग्रेस की रैली है या भाजपा की.

गंगा- नर्मदा के किस्से

उत्तर प्रदेश की ही तरह प्रियंका ने मध्य प्रदेश में भी अपनी चुनावी एंट्री सॉफ्ट हिंदुत्व के साथ ली है. वे यूपी में की गई अपनी गंगा यात्रा के किस्से भी सुना रही हैं. नर्मदा मैया को प्रात: स्मरणीय मानने वाला मालवा - निमाड़ का यह इलाका प्रियंका की बातों से कितना प्रभावित हो पाता है, ये देखने वाली बात होगी. नर्मदा यहां के जनमानस के जीवन में आस्था का केंद्र है और यह बात प्रियंका बखूबी जानती हैं. हालांकि, प्रदेश की बची हुई आठ लोकसभा सीटों पर इसका क्या असर होगा यह तो चुनाव परिणाम ही बताएगा लेकिन प्रियंका ने भाजपा के कोरवोट बैंक में सेंध लगाने में कोई कसर बाकी नहीं रखी है.

नफरत का जवाब प्यार है

राजनीतिक विश्लेषक दिनेश गुप्ता कहते हैं कि प्रियंका की मध्य प्रदेश में एंट्री आखिरी दौर में हुई है और उज्जैन महाकाल मंदिर में जाकर पूजा करना राजनीतिक परंपरा का हिस्सा माना जाना चाहिए. लेकिन एक बात खास है जो वे कर रही हैं वो है मौजूदा दौर की राजनीति का जवाब प्यार की राजनीति से देना. वे सॉफ्ट हिंदुत्व के साथ मोदी-मोदी के नारे लगा रहे लोगों से अपना काफिला रुकवा कर मिलती हैं और उनसे हाथ मिलाकर आगे बढ़ जाती हैं.

ये भी पढ़ें-
महाकाल से प्रियंका गांधी ने क्या मांगा, पूछा तो मिला ये जवाब...

VIDEO : महाकाल मंदिर में अब आंकड़े की माला पर प्रतिबंध

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए उज्जैन से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 15, 2019, 1:25 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर