ये 60 युवा डॉक्टरों की टीम 9 भाषाओं में देशभर के कोविड मरीजों का फोन पर कर रही है इलाज

इस टीम को उज्जैन के डॉ. राहत पटेल लीड कर रहे हैं.

Positive India: कोरोना संकट के समय मरीजों को राहत देने के लिए उज्जैन के डॉक्टर ने बनाई टीम. इसमें शामिल डॉक्टर अपने घरो में क्वारंटीन हुए लोगों को मोबाइल के जरिए मुफ्त डॉक्टरी परामर्श दे रहे हैं.

  • Share this:
उज्जैन. कोरोना संकट (Corona Crisis) के इस दौर में पीड़ितों की मदद के लिए लोग लगातार हाथ बढ़ा रहे हैं. उज्जैन के एक युवा डॉक्टर (Young Doctors) ने होम आइसोलेशन में रह रहे मरीज़ों के लिए पूरी एक टीम तैयार कर दी है. ये लगातार वीडियो और टेलि कॉन्फ्रेंसिंग के ज़रिए लोगों का इलाज कर रही है. जल्द ही ये अपनी वेबसाइट लॉन्च कर देगी.

उज्जैन में रहने वाले और फिलहाल भोपाल के अस्पताल में अपनी सेवा दे रहे डॉ राहत पटेल संक्रमित हुए तो घर बैठे आइडिया आया कि क्यों न कोरोना काल में देश भर के मरीजों की सेवा की जाए. जब पूरा देश मेडिकल सुविधा की कमी से जूझ रहा है ऐसे में घर बैठे या अपनी अपनी जगह से मरीजों की सेवा की जाए.

सोशल मीडिया पर वायरल
डॉ राहत पटेल ने पहल की और उनकी इस मुहिम में देशभर के 60 युवा एमबीबीएस डॉक्टरों की टीम जुड़ गयी. इन लोगों ने एक पैम्लेट तैयार किया जिसमें इनके फोन नंबर और कंसलटेशन का समय दिया गया है. इस पैम्पलेट को सोशल मीडिया की सारी साइट्स पर वायरल कर दिया. अब उनकी टीम होम आईसोलेट कोविड मरीजों के निशुल्क ऑनलाइन इलाज में जुटी हुई है. खास बात ये है कि इस टीम ने 9 भाषाएं जानने वाले डॉक्टर हैं. इनके पास देशभर से मरीज़ों के फोन आ रहे हैं और ये लोग उनका इलाज कर रहे हैं. इलाज के साथ ही मरीज़ों का हौसला भी बढ़ा रहे हैं.



60 डॉक्टर 9 भाषाएं
उज्जैन के भैरवगढ़ में रहने वाले डॉ राहत पटेल भोपाल के चिरायु अस्पताल में पदस्थ हैं. उन्होंने बताया कि 27 अप्रैल को उन्हें ये आइडिया आया. उन्होंने फौरन अपने डॉक्टर दोस्तों को फोन लगाना शुरू किया. देखते ही देखते 60 डॉक्टरों की टीम एक जाजम पर आ गयी और मानवता की सेवा में जुट गयी. इन डॉक्टरों ने अपने अपने घरो में क्वारेंनटीन हुए लोगों के लिए अपने अपने मोबाइल नंबर सार्वजनिक कर दिए और मुफ्त में परमर्श दे रहे हैं. ख़ास बात ये है कि हिन्दी, इंग्लिश, उर्दू, मराठी, कन्नड़, तमिल, सहित कुल 9 भाषाओं में ये डॉक्टर लोगों को निशुल्क परामर्श दे रहे हैं.

5 दिन में 2180 मरीज़ों की मदद
डॉ राहत ने बताया कि पढ़ाई के दौरान वो अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् से जुड़े रहे. जब मैं खुद कोरोना से संक्रमित हुआ तो घर में क्वारेंटीन हो गया. ऐसे वक़्त में जब मरीजों को हमारी सबसे ज्यादा जरूरत थी तो याद आया कि एबीवीपी में समय समय पर कुछ ना कुछ किया करते थे. तो बस मरीजों की सेवा के लिए अपने मित्रों से बात की और बात बनती गयी. अब ये टीम 5 दिन में देशभर के कुल 2180 लोगों की फोन के ज़रिए इलाज करके मदद कर चुकी है. डॉ राहत खुद अब तक कुल 100 कॉल अटैंड कर चुका हूं.

ये हैं डॉक्टरों के नाम और फोन नंबर
डॉ राहत की टीम सुबह 6 बजे से कंसलटेशन शुरू कर देती है जो रात तक चलता रहता है.
-डॉ. राहत पटेल उज्जैन, समय : सुबह 6 से 8 बजे. भाषा : हिंदी और अंग्रेजी. मोबाइल- 9425916599

-डॉ चित्रा गुरुग्राम हरियाणा, समय : शाम 5 से 8 बजे. भाषा : हिंदी, इंग्लिश और पंजाबी. संपर्क- 8816055114

डॉ. सिद्धार्थ मिश्रा मुंबई, समय : सुबह 8 से 10. भाषा : हिंदी, इंग्लिश संपर्क- 7976019014

-डॉ. नुपूर दिल्ली, समय : दोपहर 2 से 3. भाषा : हिंदी, इंग्लिश,मराठी और कन्नड़. संपर्क- 8657422089

-डॉ प्रियंका पाटिल जलोन महाराष्ट्र, समय : 2 से 4. भाषा: मराठी,

डॉ. मीनल हाड़ा तमिलनाडु, समय : दोपहर 3 से 4. भाषा : तमिल.

15 से अधिक डॉक्टर एबीवीपी से जुड़े
डॉ राहत ने बताया कि शुरुआत में उज्जैन, इंदौर और अन्य शहरों के जो डॉक्टर उनकी टीम से जुड़े उनमें से ज़्यादातर मित्र अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् से ही ही उनके साथ थे. लेकिन जब लगा कि देश भर में समस्या जटिल है और मरीजों को डॉक्टर की अत्यधिक आवश्यकता है ऐसे में देश भर के मरीजों के लिए अन्य प्रांतों के डॉक्टरों को भी जोड़ना शुरू किया. और देखते ही देखते एक बड़ी डाक्टरों की टीम तैयार हो गयी.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.