Ujjain : महाकालेश्वर मंदिर में पकड़ा गया था UP का मोस्ट वॉन्टेड विकास दुबे, CISF संभालेगी सुरक्षा!

ujjain- महाकाल मंदिर इलाके में पिछले कुछ दिनों में बेहिसाब अपराध बढ़े हैं.

ujjain- महाकाल मंदिर इलाके में पिछले कुछ दिनों में बेहिसाब अपराध बढ़े हैं.

Ujjain : महाकालेश्वर मंदिर (Mahakal Temple) को 500 करोड़ की लागत से नया रूप दिया जा रहा है.इसमे मंदिर को 10 गुना बड़ा और अत्यधुनिक आस्था का केंद्र बिंदु बनाने की योजना है.

  • Share this:

उज्जैन. उज्जैन स्थित ज्योतिर्लिंग महाकालेश्वर मंदिर (Mahakal Temple) की सुरक्षा में सीआईएसएफ (CISF) तैनात हो सकती है. उत्तरप्रदेश के कुख्यात बादमाश विकास दुबे  के यहां पकड़े जाने और इस पूरे इलाके में बढ़ रहे अपराध रोकने के लिए ये एक पहल भर है. लोकल नेताओं और अफसरों की पहल पर CISF की टीम यहां सर्वे के लिए आयी है.

महाकाल मंदिर क्षेत्र में पिछले कुछ समय में हत्या, चोरी, लूट, पत्थरबाजी जैसी घटनाएं एकाएक बढ़ी हैं. इसका सीधा असर श्रद्धालुओं पर पड़ता है. मंदिर के आसपास सुरक्षित माहौल होना चाहिए. इसलिए यहां के नेताओं और अफसरों ने केंद्र को पत्र लिखा था. उसके बाद अब यहां CISF की टीम आयी. उसने मंदिर और आस पास के क्षेत्र का निरीक्षण किया.वो इसकी रिपोर्ट जल्द ही शासन को सौंपेगी.

सांसद ने लिखा था पत्र

बारह ज्योतिर्लिंगो में से विश्व प्रसिद्ध ज्योतिर्लिंग बाबा महाकाल के दर्शन के लिए आये दिन हजारों श्रद्धालु, नेता, अभिनेता, अभिनेत्रियों का तांता लगा रहता है. चूंकि ये आस्था का बड़ा केंद्र है इसलिए मंदिर और श्रद्धालुओं की भी सुरक्षा का ध्यान शासन के जिम्मे है. सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए सांसद अनिल फिरोजिया ने केंद्र को पत्र लिखा था. उसमें आम जनता की सुरक्षा की मांग की गयी थी.इस पर कलेक्टर ने भी संज्ञान लिया था और CISF को एक पत्र लिखा था. उन्हीं की गुजारिश पर अब सीआईएसएफ की टीम यहां आयी और सुरक्षा व्यवस्था का जायज़ा लिया.
मंदिर का बिग प्लान

महाकालेश्वर मंदिर को 500 करोड़ की लागत से नया रूप दिया जा रहा है.इसमे मंदिर को 10 गुना बड़ा और अत्यधुनिक आस्था का केंद्र बिंदु बनाने की योजना है.इसके पीछे उद्देश्य पर्यटन को बढ़ावा देना और धर्म के प्रति लोगों को जागरूक करना है.कलेक्टर और महाकालेश्वर मंदिर समिति सदस्य आशीष सिंह ने बताया कि CISF कंसल्टेंसी सर्विस देती है. सुरक्षा की दृष्टि से वो धार्मिक, औद्योगिक, शासकीय और अन्य जगह ऑडिट कर जहां भी गैप है,जरूरतें है उसके संबंध में रिपोर्ट देती है. कलेक्टर ने भी CISF को महाकालेश्वर मंदिर के लिए एक लैटर लिखा था.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज