अपना शहर चुनें

States

Ujjain में भावुक हुए ज्योतिरादित्य बोले-ये मेरे पुरखों की राजधानी, इससे मेरा भावनात्मक लगाव

ज्योतिरादित्य सिंधिया बीजेपी के प्रशिक्षण शिविर में शामिल होने उज्जैन आए थे.
ज्योतिरादित्य सिंधिया बीजेपी के प्रशिक्षण शिविर में शामिल होने उज्जैन आए थे.

Ujjain : ज्योतिरादित्य (Jyotiraditya scindia) ने कहा-हम जल्द ही मंदिर को भव्य रूप देना चाहते हैं. मैंने केंद्र से 75 करोड़ की राशि की मांग की थी जो स्वीकृत हुई है.

  • Share this:
उज्जैन.बीजेपी (BJP) के प्रशिक्षण शिविर में शामिल होने आए ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya scindia) उज्जैन को लेकर भावुक हुए और फिर बीजेपी का गुणगान किया.मीडिया से बातचीत में उन्होंने कहा-उज्जैन से मेरा भावनात्मक लगाव है. ये मेरे पुरखों की राजधानी थी. यहां मंदिर और पर्यटन का विकास किया जाएगा. उन्होंने पीएम मोदी और वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण का धन्यवाद अदा किया, जिन्होंने विशेष पैकेज के लिए बजट दिया. सिंधिया ने कहा  सिर्फ बीजेपी ही ऐसी पार्टी है जो आखिरी पंक्ति में खड़े व्यक्ति के हित की बात सोचती है.

उज्जैन प्रशिक्षण वर्ग में शामिल होने के बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया दिल्ली रवाना हो गए. सत्र से बाहर निकलने के बाद मीडिया से उन्होंने कहा-मैं बधाई देना चाहता हूं बहुत ही अच्छा कार्यक्रम रखा गया है. सभी विधायकों को एक साथ मिलने का मौका मिला है. सब एक हैं और भारतीय जनता पार्टी के हैं. पूरे देश में एक ही पार्टी है जो सबको साथ लेकर अंत्योदय की बात करती है.





उज्जैन से भावनात्मक लगाव
ज्योतिरादित्य उज्जैन आकर भावुक भी हो गए. उन्होंने कहा उज्जैन सिंधिया परिवार की पहली राजधानी थी. ग्वालियर बाद में बनी है.इसलिए यहां से हमारा भावनात्मक लगाव है. उन्होंने कहा यही वजह है कि मैंने पर्यटन के लिए विशेष पैकेज की मांग की है.मैं पीएम नरेंद्र मोदी और वित्त मंत्री सीतारमण का धन्यवाद देता हूं.

महाकाल मंदिर में गंदगी देख भड़क गए थे सिंधिया
सत्र शुरू होने से पहले ज्योतिरादित्य सिंधिया महाकाल मंदिर गए थे. वहां की गंदगी देख वो भड़क गए. उन्होंने कहा- मंदिर के साथ मेरी पुश्तैनी भावना जुड़ी हुई है. मेरे पूर्वजों ने मंदिर के अंदर जो चांदी लगाई गई है वहां सफाई की सख्त जरूरत है. काले पत्थर को भी निखारना चाहिए.

मंदिर के लिए प्लान
ज्योतिरादित्य ने कहा-हम जल्द ही मंदिर को भव्य रूप देना चाहते हैं. मैंने केंद्र से 75 करोड़ की राशि की मांग की थी जो स्वीकृत हुई है. मैं इसके लिए केंद्रीय मंत्री निर्मला सीतारमण को धन्यवाद देता हूं.उन्होंने कहा इसके लिए योजना बनाई जाएगी. सब संबंधितों को योजना में सम्मिलित किया जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज